जनता दरबार में पहुंची रेप पीड़िता ने CM ने लगाई गुहार…कहा- न्याय नहीं मिला तो कर लूंगी आत्महत्या…..DGP पर भी लगाई गंभीर आरोप….

0

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जनता के दरबार में शिकायत सुन रहे। नये साल में सीएम का पहला जनता दरबार है। एक युवक ने सीएम नीतीश से घूसखोरी की शिकायत की। मुख्यमंत्री को सच्चाई से रूबरू कराते हुए कहा कि बिहार में घूसखोरी चरम पर है। वहीं एक सैनिक दिव्यांग की मांग सुन सीएम नीतीश चकरा गये। मुख्यमंत्री ने आश्चर्य व्यक्त करते हुए कहा कि पांच एक जमीन…..? पटना की एक रेप पीड़िता ने सीधे डीजीपी पर आरोप लगा सनसनी फैला दी। लड़की ने सीएम नीतीश से कहा कि हमने डीजीपी से गुहार लगाई तो उन्होंने कहा कि लड़कियां ही लडकों को रेप के लिए उकसाती हैं। ऐसे में हम क्या करें?

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
camp

मुख्यमंत्री से लड़की ने शिकायत की। कहा कि मेरे साथ रेप किया गया है। हमने रूपसपुर थाने में केस किया। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई। अब तो आईओ और थानेदार फोन तक नहीं उठाते। हमने डीजीपी से भी मुलाकात की। लेकिन वे तो न्याय देने के बदले आरोप लगाने लगे कि लड़कियां ही रेप की जिम्मेदार हैं। उन्होंने तो यहां तक कह दिया कि लड़कियां ही इसके लिए लड़कों को उकसाती हैं। ऐसे में मेरे लिए आत्महत्या के अलावे कोई रास्ता नहीं बचा है। इस पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने डीजीपी को फोन लगा कर कहा कि यह मामला पटना के नौबतपुर का है। इसे तुरंत देखिए और एक्शन लीजिए।

दरअसल एक फरियादी ने मुख्यमंत्री से कहा कि सैनिक दिव्यांग को पाच एकड़ सरकारी जमीन देने का प्रावधान किया गया है। साथ ही कंकड़बाग में फ्लैट देने की बात है। सरकारी चिट्ठी लगी हुई है। मुख्यमंत्री ने जैसे ही पांच एक जमीन देने की बात सुनी, वे चौंक गये। वे आश्चर्य व्यक्त करते हुए कहा कि…पांच एकड़ जमीन? पांच एकड़ जमीन कहां है जो मिलेगा?

फरियादी ने सीएम नीतीश से कहा कि सर….बिहार में घूसखोरी काफी बढ़ गया है। घूसखोरी से लोग परेशान हैं। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि बात बताइए,क्या समस्या है ? इस पर उस फरियादी ने सीएम नीतीश से कहा कि सरकारी जमीन पर कब्जा कर लिया गया है और प्रशासन कुछ नहीं कर रहा। इस पर मुख्यमंत्री ने फरियादी को राजस्व विभाग के अपर मुख्य सचिव के पास भेज दिया।

मुजफ्फरपुर से आये वृद्ध ने सीएम नीतीश से फरियाद किया कि उनके बेटे का अपहरण हो गया। लेकिन पुलिस ने अब तक कुछ भी नहीं किया।इतना ही नहीं पुलिस पैसे की भी मांग कर रही है। यह शिकायत सुन सीएम नीतीश भौंचक्के रह गये। उन्होंने कहा कि…अरे लगाओ को फोन अपर मुख्य सचिव गृह विभाग को….।इसके बाद फोन लगाया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि इनके बेटे का अपहरण हो गया है और पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। यह तो आश्चर्य जनक है। कह रहा कि कुछ पैसा भी मांग रहा? इसके तुरंत दिखवाइए।

अपनी राय दें!

Please enter your comment!
Please enter your name here