ईद में पहनने के लिए खरीद रहे बरकाती व अफगानी टोपी

0
edi marketing

परवेज अख्तर/सिवान :- इन दिनों रोजेदार सुबह से देर रात ईद की खरीदारी में मशरुफ रह रहे हैं। वैसे तो खरीदारी दिन शुरू होने के साथ ही शुरू हो जा रही है, लेकिन इफ्तार के बाद तो जैसे कि बाजार में मेला लग जा रहा है। इधर, ईद के दिन ईदगाह में नमाज पढ़ने के लिए टोपी के महत्व को देखते हुए रोजेदार अपनी पसंद की टोपी भी खरीद रहे हैं। बड़ी मस्जिद से शांतिवट वृक्ष तक टोपी की कई दुकान लगी है। रोजेदारों को खासकर बरकाती व अफगानी टोपी भा रही है। बाजार में इसकी कीमत ढ़ाई सौ से छह सौ रुपये तक है। टोपी दुकानदार मो. आसिफ ने बताया कि अफगानी टोपी डेढ़ सौ से चार सौ रुपये व तुर्की टोपी पचास रुपये से लेकर डेढ़ सौ रुपये में मिल रही है। ईद के दिन अलग-अलग खुशबुओं से मिश्रित इत्र लगाने का भी रिवाज है। चौक बाजार बड़ी मस्जिद के समीप सुगंध हाउस के तनवीर आलम ने बताया कि सबसे अधिक मजमुआ 96 की मांग हो रही है। इसके अलावा स्विस अरबियन नूर, अल हरर्मइ, अल रेहाब, अल मदनी, उद, चमेली व गुलाब आदि प्रकार की अतर की मांग रोजेदार कर रहे हैं। ईद के दिन सेवई बनाने के लिए देशी लच्छा, कोलकाता लच्छा, बनारसी किमामी, हल्दीराम का लच्छा, बनारसी फेनी, पंजाबी, माकुती पटना, ढब्बा फ्राई किमामी, देशी मोटा सेवई व बनारस रुमाली के साथ ही लोकल सेवई की खूब खरीदारी हो रही है। शहर के थाना रोड, शहीद सराय कम्पलेक्स, बड़ी मस्जिद इलाका व ईमली चौक से शांतिवट वृक्ष तक रात के एक बजे तक खरीदारी हो रही है। क्या बच्चे और क्या नौजवान, महिला व लड़कियां हर कोई ईद के दिन पहनने के लिए अपनी पसंद के परिधान से ले अन्य सामान खरीदने बाजार आ रहा है।