बड़हरिया: कार्रवाई नहीं करने पर ग्रामीणों ने किया थाने का घेराव

0
mang
  • असामाजिक तत्वों ने शुक्रवार को लाठी-डंडे से जमकर पिटाई कर दी थी जिससे उनकी हालत बिगड़ती चली गई
  • पुलिस के आश्वासन पर शांत हुए परिजन
  • घायल का दिल्ली में चल रहा है इलाज
  • 10 बजे के करीब काफी संख्या में लोग थाना पहुंच गए

परवेज अख्तर/सिवान: जिले के बड़हरिया थाना क्षेत्र के लौवान गांव मारपीट में घायल एक व्यक्ति की स्थिति नाजुक होते ही उसके परिजनों सहित ग्रामीण आक्रोशित हो गए। रविवार की सुबह करीब दस बजे काफी संख्या में लोग थाना पहुंच गए और पुलिस की कार्यशैली पर अंगुली उठाते हुए जमकर नारेबाजी शुरू कर दी। पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद के नारेबाजी सुनकर एसआई राजेश कुमार, एएसआई फारूक अंसारी, एएसआई शैलेन्द्र राय, एएसआई शैलेश सिंह ने आक्रोशित ग्रामीणों को समझा बुझा कर किसी तरह शांत किया। थानाध्यक्ष प्रवीण प्रभाकर के पहुंचने पर ग्रामीणों ने शिकायत की। थानाध्यक्ष ने परिजनों को आश्वासन दिया कि जो भी दोषी होंगे उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
ADDD

पुलिस इस मामले को लेकर सक्रिय हो गई है। प्राप्त जानकारी के अनसुार थाना क्षेत्र के लौवान गांव के किताबुद्दीन खान के पुत्र समीरुल हक खान को वहीं के असामाजिक तत्वों ने शुक्रवार को लाठी-डंडे से जमकर पिटाई कर दी थी। जिससे उनकी हालत बिगड़ती चली गई। परिजनों व ग्रामीणों ने पहले घायल समीरुल हक खान को सदर अस्पताल में भर्ती कराया। जिसकी हालात नाजुक देखर चिकित्सकों ने गोरखपुर रेफर कर दिया। स्थिति में सुधार नहीं होने पर गोरखपुर के डॉक्टरों ने दिल्ली रेफर कर दिया। जहां घायल का इलाज चल रहा है। बिगड़ती हुई हालत को देखकर रविवार को ग्रामीणों ने थाने का घेराव कर पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। परिजनों का आरोप है कि आवेदन देने के बाद भी पुलिस हरकत में नहीं आई। घटना के तीन दिन बाद भी पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज नहीं की है।

घायल की पत्नी ने दर्ज कराई प्राथमिकी

आक्रोशित लोगों की नारेबाजी के बाद पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर ली। इधर जिंदगी और मौत से जूझ रहे समीरुल हक खान की पत्नी साइका परवीन ने थाने में आवेदन देकर कहा है कि 25 नवंबर की दोपहर करबाला बाजार से खरीदारी कर घर वापस लौट रही थी। तभी लौवान के उजैर खान ने रास्ते में घेर कर मेरे साथ अश्लील हरकत की व दुष्कर्म का प्रयास किया। इसी बात को लेकर 26 नवम्बर की सुबह दस बजे मेरे ही गांव के नेसार खान, नदीम खान, गुलाम खान, मेहदी हसन खान सहित अन्य छह लोग लाठी व रड से मेरे पति समीरुल हक खान की पिटाई कर दी। इसी क्रम में नेसार खान और उजैर खान ने रड से मेरे पति के सिर पर पीछे से वार कर दिया। जिससे उनका सिर दो हिस्सो में फट गया। उक्त असामाजिक तत्वों ने घर में घुसकर भाभी यास्मीन खातून के साथ भी मारपीट की। मारपीट करने के बाद सोने का जेवर व रुपए लेकर भाग गए।