कांच हे बांस के बहंगिया… से गुलजार हुए छठ घाट

0
chhath puja

उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ आस्था का महापर्व छठ संपन्न

परवेज अख्तर/सिवान : उदीयमान भगवान भाष्कर को प्रात: कालीन अर्घ्य देने के साथ ही चार दिवसीय लोक आस्था का महापर्व छठ पूजा बुधवार को श्रद्धापूर्वक संपन्न हो गया। श्रद्धा के महापर्व छठ के चौथे दिन कार्तिक शुक्ल सप्तमी की सुबह व्रतियों ने उदीयमान सूर्य को अर्घ्य दिया। 36 घंटे के निराधार व्रत के बाद व्रतियों ने प्रसाद ग्रहण किया और छठी मइया से मन की मुरादें मांगी। बुधवार की सुबह मुख्यालय स्थित दाहा नदी पुलवा घाट, शिवव्रत साह घाट, श्रीनगर घाट, रेनुआ घाट, महादेवा स्थित छठ घाट सहित विभिन्न तालाबों, घर की छत पर जलकुंड बनाकर लोगों ने भगवान भाष्कर को अर्घ्य प्रदान किया। शहर के दाहा नदी के तट पर व्रतियों की काफी भीड़ रही। लोग अहले सुबह से अर्घ्य देने के लिए घाटों पर पहुंचे थे। बुधवार की सुबह जैसे ही सूर्य की लालिमा नजर आई, व्रती नदी के पवित्र जल में अर्घ्य देने के लिए उतर पड़े। अर्घ्य देने के बाद लोगों ने पूजा-अर्चना की और अपने घरों की ओर लौट गए। सभी ने मंगलकामनाओं के साथ एक दूसरे को आर्शीवाद दिया। घर पहुंचकर व्रतियों ने पारण किया।puja 1

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
a1
ads
WhatsApp Image 2020-11-09 at 10.34.22 PM
Webp.net-compress-image
a2

पारंपरिक छठ गीतों से गुलजार रहे घाट

सभी छठ घाटों पर हे छठि मइया, तोहर महिमा अपरंपार…, मारबौ रे सुगवा धनुष से, कांच हे बांस के बहंगिया…, जैसे पारंपरिक गीतों से माहौल भक्तिमय बना रहा। छठ घाटों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम दिखे।

घाटों पर दिखा सेल्फी का क्रेज

सभी छठ घाटों पर पूजा से लेकर कोसी भराई की रस्म तक की सेल्फी लेकर अपने दोस्तों एवं संबंधियों के साथ स्टेटस आदान-प्रदान करने जुटे रहे। सबसे ज्यादा सेल्फी का क्रेज युवाओं में देखने को मिला। chhath in siwan

प्रशासनिक अधिकारी छठ घाटों का करते रहे भ्रमण

जिलें में छठ पूजा को लेकर विभिन्न छठ घाटों पर सुरक्षा व्यवस्था को कायम रखने के लिए प्रतिनियुक्त प्रशासनिक अधिकारी एवं पुलिस बल तैनात दिखे। एसडीएम अमन समीर व एएसपी कांतेश कुमार मिश्रा दल बल के साथ लगातार छठ घाटों का भ्रमण करते रहे। पर्व के दौरान किसी तरह की अप्रिय घटना शहर में न हो इसके लिये जिला प्रशासन की ओर से हर घाट और चौक चैराहे के लिये एक हजार जवानों की तैनाती की गयी थी। हर तालाब में भक्तों को परेशानी न हो इसके लिये जवानों की ओर से लोगों को दिशा निर्देश दिये जा रहे थे। मंगलवार और बुधवार को शहर में भारी वाहनों के प्रवेश पर रोक लगा दी गयी। वहीं गोपालगंज मोड़ समेत विभिन्न स्थानों पर बैरिकेडिंग की गई थी।

मंदिरों में दिखी भीड़

उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ ही व्रतियों ने घाट में भगवान सूर्य के नाम से पूजा-अर्चना की। जिसके बाद घाट के आसपास स्थित मंदिरों में भक्तों की भीड़ देखी गयी। इधर शहर के छठ घाट जाने वाले मुख्य मार्गो में विशेष विद्युत सज्जा की गयी थी। काल्पनिक विद्युत सज्जा रात भर सड़कों में देखी गयी. इसके साथ ही गुब्बारें, फूल, टेंट समेत अन्य चीजों से भी सड़कों की सजावट की गयी थी।

विभिन्न राजनीतिक दलों ने लगाया सहायता शिविर

राजद नेताओं ने श्रद्धालुओं की सहायता के लिए पुलवा घाट पर महापर्व छठ के अवसर पर शिविर लगाया। शिविर में अर्घ्य के लिए दूध, दातून तथा चाय का वितरण किया गया। वहीं दूसरी ओर एनडीए नेता व डीबीडीटी सदस्यों ने छठ घाट पर सहायता कैंप लगाया। कैंप में मुख्य रूप से पूर्व मंत्री अवध बिहारी चौधरी, रघुनाथपूर विधायक हरिशंकर यादव, जिलाध्यक्ष परमात्मा राम, नंद जी राम, ओसिहर यादव, जिला प्रवक्ता उमेश कुमार मौजूद रहें। एनडीए की सहायता शिविर में सदर विधायक व्यासदेव प्रसाद, जदयू जिलाध्यक्ष इंद्रदेव सिंह पटेल, पूर्व जिलाध्यक्ष अभिमन्यु सिंह, संजय पांडेय, सुधीर जयसवाल, देवेंद्र गुप्ता, धनंजय सिंह समेत अन्य नेता उपस्थित थे। वहीं शिवसेना के सदस्यों ने भी छठ व्रतियों की सहायता के लिए शिविर लगाया।