सतत अभ्यास से मिलती है सफलता : कर्नल सुधीर

0

परवेज़ अख्तर/सीवान:
बीडीबी उच्च विद्यालय सह इंटर कॉलेज, पचबेनिया में राजेन्द्र जयंती के अवसर पर सृजनधारा द्वारा आयोजित ग्रामीण प्रतिभा खोज प्रतियोगिता परीक्षा में सफल छात्र-छात्राओं को पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया। सम्मान समारोह को सम्बोधित करते हुए कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एवं प्रसिद्ध शिक्षाविद, डी.एन. कॉलेज, मसौढ़ी, पटना के श्रम एवं समाज कल्याण विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर एवं जिज्ञासा संसार के संपादक डॉ.पी.एस. दयाल यति कहा कि ग्रामीण प्रतिभा खोज प्रतियोगिता बच्चों में प्रतियोगिता की भावना जगाने का सबसे बडा माध्यम है। ग्रामीण छात्रों को सम्मान देने से उनकी प्रतिभा में और अधिक निखार आएगा।समय-समय पर इस तरह के आयोजन से बच्चों को प्रतियोगी परीक्षा में बल मिलेगा।छात्रों में अपने मन मस्तिष्क को एकाग्रचित्त कर स्वाध्याय करने के प्रति रुचि बढ़ेगी और समय का सदुपयोग होगा।समारोह के विशिष्ट अतिथि रहे कर्नल सुधीर कुमार सिंह ने कहा कि सतत् अभ्यास द्वारा कोई व्यक्ति किसी भी कार्य में निपुणता हासिल कर सकता है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
a1
ads
WhatsApp Image 2020-11-09 at 10.34.22 PM
Webp.net-compress-image
a2

कर्नल ने बच्चों को हौसला अफजाई करते हुए कहा कि कोई भी ऐसा कार्य नहीं जो हम सब नहीं कर सकते हैं, चाहे शैक्षणिक हो या खेल, नियमित अभ्यास द्वारा हम निपुण बन सकते हैं।उन्होंने कहा कि नियमित अभ्यास हमारी सभी गलतियों और दोषों को ठीक करके हमें सफलता की ओर ले जाता है।प्रतियोगिता में सफल छात्र-छात्राओं को कर्नल सुधीर कुमार सिंह एवं जिज्ञासा संसार मासिक पत्रिका के संपादक डाॅ पीएस दयाल यति ने पुस्तक एवं नकद राशि 500 रूपये देकर सम्मानित किया। प्रतियोगिता में अव्वल आये धनजी दूबे को डिक्शनरी एवं नकद 500 रूपये, द्वितीय स्थान पानेवाले निहाल पाण्डेय को हिन्दी व्याकरण की पुस्तक एवं नकद 500 रूपये तथा तृतीय स्थान पानेवाली छात्रा श्रुति कुमारी को संस्कृत व्याकरण की पुस्तक एवं नकद 500 रूपये देकर सम्मानित किया गया।कर्नल सुधीर कुमार सिंह ने प्रतियोगिता में सफल पाँच छात्र-छात्राओं को 500 रूपये की नकद राशि देकर सम्मानित किया।कार्यक्रम की अध्यक्षता एवं संचालन विद्यालय के प्राचार्य डा० सुशील नारायण तिवारी ने किया। इस अवसर पर डा० सुशील नारायण तिवारी, अक्षयलाल गुप्ता, मृत्युंजय साह गोंड, रविरंजन कुमार, स्नेही प्रसाद, रामू प्रसाद, पवन दूबे एवं हजारी कुमार सिंह उपस्थित थे।