कोरोना कहर : सिवान में भर्ती होने से पहले ही तीन व एक की पटना जाने के दौरान हुयी मौत

0

परवेज अख्तर/सिवान : महाराजगंज/गुठनी मुख्यालय के अनुमंडलीय अस्पताल में भर्ती होने से पहले ही शुक्रवार को तीन कोरोना मरीजों की मौत हो गई. इस तरह कोरोना की दूसरी लहर में यह आठवें कोरोना मरीज की मौत है. डॉ.वेद प्रकाश नारायण सिंह व डॉ. अरुण कुमार ने बताया कि शुक्रवार को विभिन्न प्रखंड से तीन कोरोना संक्रमित मरीज महाराजगंज मे बने डेडिकेटेड कोविड केयर हेल्थ सेंटर में इलाज के लिए पहुंचे थे. डॉक्टरों ने जब कोरोना संक्रमित मरीजों की जांच कि तो जांच से पहले मरीज की मौत रास्ते मे हो चुकी थी. जिसे डॉक्टरों ने एक के एक घंटे के अंतराल पर तीनों कोरोना संक्रमित मरीजों को मृत धोषित कर दिया था.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2023-10-11 at 9.50.09 PM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.50 AM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.51 AM
ahmadali
WhatsApp Image 2023-11-01 at 2.54.48 PM

डॉक्टरों का कहना था कि एक-दो घंटे के अंतराल पर तीनों मरीज महाराजगंज अनुमडंलीय अस्पताल पहुंचे थे. लेकिन भर्ती से पहले ही उन तीनों कोरोना संक्रमित मरीजों कि मौत रास्ते मे हो चुका था.जब डॉक्टरों ने जांच किया तो उक्त मरीजों को मृत धोषित कर दिया.डॉ.अरुण कुमार ने बताया कि शुक्रवार अहले सुबह 4 बजे रधुनाथपुर प्रखंड के संटी गांव निवासी राधाकृष्ण सिंह के 80 वर्षीय पत्नी राजमति देवी पहुंची. जबकि दूसरे मरीज एक घंटे बाद हुसैनगंज प्रखंड के हथौड़ा निवासी शौकत अली कि पत्नी जहाआरा बेगम पहुंची.वहीं तीसरा मरीज बड़हरिया के रहने वाले इसाक सिद्धिकी के पुत्र अब्दुल रहमान की मौत हो गई.

इस घटना के बाद अस्पताल में हड़कंप मच गया है. कोरोना का कहर देवी को बनाया अपना शिकार. वहीं गुठनी थानाक्षेत्र के सोनहुला गांव निवासी रामाशीष प्रजापति के पुत्र देवीलाल प्रजापति(45 वर्ष) को कोरोना ने अपना शिकार बना लिया और कोविड अस्पताल महराजगंज से पटना ले जाने के क्रम में रास्ते मे ही मौत हो गयी. देवीलाल प्रजापति वाराणसी रहकर का कंस्ट्रक्शन क्षेत्र में ठेकेदारी का काम करते थे पिछले सप्ताह वाराणसी से घर आये थे और उन्हें बुखार की शिकायत आयी.

बुखार आने पर वे अपना ईलाज गुठनी के एक निजी चिकित्सक के यहाँ करा रहे थे. लेकिन आराम नही होने पर उन्हें गुरुवार को सीवान सदर ले जाया गया. सदर अस्पताल में कोविड जांच होने पर पॉजिटिव आने के बाद शुक्रवार को महराजगंज कोविड अस्पताल रेफर कर दिया गया. कोविड अस्पताल में सुधार नहीं होने पर हायर सेंटर के लिये रेफर कर एम्बुलेंस से पटना भेजा गया. मगर रास्ते मे ही उनके प्राण निकल गये.