संपत्ति के लिए बहू ने सास का हुक्का-पानी किया बंद, विरोध करने पर फोड़ दिया सिर, हालत गंभीर

0

गोपालगंज: बिहार के गोपालगंज जिले के मांझा थाने के जगरनाथा गांव में संपत्ति के लिए बुजुर्ग सास का बहू ने हुक्का-पानी बंद कर दिया. बहू की ओर से ऐसा करने के बाद महिला दूसरे बेटे के यहां जाकर रहने लगी, जिससे नाराज होकर बड़ी बहू और बेटे ने लाठी-डंडा से सास का सिर फोड़ दिया. घटना के दौरान बेटे ने भी पत्नी का साथ दिया और खून से लथपथ मां को घर में छोड़कर चल दिया. आसपास के लोगों की मदद से घायल महिला को इलाज के लिए सदर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया, जहां से उसे गोरखपुर रेफर कर दिया गया है.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
metra hospital

संपत्ती के बंटवारे के लिए बना रहे थे दबाव

घायल महिला स्व. हरिहर राम की पत्नी संजोगिया देवी का आरोप है कि बुधवार की सुबह बहू और बेटे उसके कमरे में पहुंचे और संपत्ति का बंटवारा करने के लिए दबाव बनाने लगे. महिला ने अपनी जिंदगी में संपत्ति का बंटवारा नहीं करने की बात कही, जिससे आग बबूला होकर बहू ने लाठी से उनके सिर पर वार कर दिया. सिर से खून निकलने बाद बुजुर्ग महिला मौके पर गिरकर बेसूद हो गई. रोने-बिलखने की शोर सुनकर आसपास के लोग पहुंचे और इलाज के लिए अस्पताल में पहुंचाया.

बता दें कि इस घटना के पहले आरोपित पुत्र राजेश राम ने महिला की जीविका के लिए निकाले गए दो कट्ठा जमीन पर बोआई कर उसे कब्जा कर लिया था. पीड़ित महिला ने इस मामले में बेटे और बहू के विरुद्ध पुलिस से शिकायत नहीं करने की बात कही. वहीं, सदर अस्पताल के पुलिस पदाधिकारी राकेश कुमार सिंह का कहना है कि बहू और बेटे द्वारा महिला की पिटाई की गई थी. घायल महिला ने फर्द बयान दर्ज नहीं कराया, जिसके बाद मांझा थाने की पुलिस को मामले की सूचना दी गई.

दो साल पहले हुई है पति की मौत

इधर, मांझा थानाध्यक्ष विशाल आनंद ने कहा कि दो साल पहले संजोगिया देवी के पति हरिहर राम की मृत्यु हो गई थी. पति की मौत के बाद वो दो बेटों में से बड़े बेटे राजेश राम के यहां रहने लगी. लेकिन संपत्ति के लिए हुक्का-पानी बंद किए जाने पर नाराज महिला अपने दूसरे बेटे मुन्ना राम के यहां आकर रहने लगी थी. इसी बीच ये घटना हुई है.