सिवान में 17 वर्षीय मानसिक विक्षिप्त युवक ने 5 तल्ले मकान से लगाई छलांग, मौत

0
  • लगभग 2 वर्षों से युवक का मानसिक संतुलन हो गया था खत्म
  • मृतक शहर के चकियां गांव निवासी शेख अजमत का था पुत्र

परवेज अख्तर/सिवान:
शब-ए-बारात की रहमत भरी इस रात में सिवान जिले के चकियां गांव से एक मनहूस खबर उभर कर सामने आ रही है कि जहां एक 17 वर्षीय मानसिक विक्षिप्त युवक ने शहर के महादेवा स्थित एक 5 तल्ले मकान से अचानक छलांग लगाकर अपने जीवन की इहलिला समाप्त कर ली।घायल अवस्था में आनन-फानन में महादेवा ओपी थाने की पुलिस ने उसे त्वरित उपचार हेतु सिवान सदर अस्पताल में दाखिल कराया।जहां ड्यूटी पर तैनात चिकित्सा पदाधिकारी डॉ मुकेश रंजन ने उसे प्राथमिक उपचार के बाद उसकी हालत को गंभीर देखते हुए उसे बेहतर इलाज के लिए रेफर कर दिया। जहां परिजनों ने उसे बेहतर इलाज के लिए उत्तर प्रदेश के गोरखपुर लेकर चले गए। जहां हॉस्पिटल के गेट पर पहुंचते ही उसने अंतिम सांस ली। मृतक चकियां गांव निवासी शेख अजमत का 17 वर्षीय पुत्र मोहम्मद नदीम बताया जा रहा है।जो लगभग 2 वर्षों से मानसिक रूप से ग्रसित था।नदीम अपने परिवार का सबसे चहेता लाडला होने के नाते उसके परिजनों ने उसकी कुशलता के लिए उसका इलाज राजधानी दिल्ली के चर्चित एक बड़े हॉस्पिटल में कराते थे। लेकिन नियति को यह मंजूर नहीं था। यहां बताते चलें कि रविवार की दोपहर नदीम अचानक महादेवा ओपी थाने के सामने 5 तल्ले मकान  के ऊपर छत पर चढ़ गया और उसने थोड़ी देर के बाद छत से नीचे की ओर छलांग लगा दी।जिससे वह सदीद तौर पर जख्मी हो गया।उपस्थित आसपास के लोगों ने उक्त घटित घटना को देख भौंचक रह गए। इसी बीच तुरंत घटनास्थल पर स्थानीय पुलिस भी पहुंच गई और उसे आनन-फानन में उठाकर प्राथमिक उपचार हेतु सदर अस्पताल लाया।जहां गंभीर स्थिति में चिकित्सकों द्वारा उसे रेफर कर दिया गया था।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

चकियां गांव में पसरा मातमी सन्नाटा:

……और रविवार की देर संध्या जैसे ही मृतक नदीम का शव उसके पैतृक गांव चकियां में पहुंचा तो परिजनों के हृदय विदारक चीत्कार से पूरा गांव शोकाकुल हो गया। परिजन दहाड़ मार रो बिलख रहे हैं।यहां बताते चले कि गांव के लोग जहां एक और शब-ए-बारात को लेकर अपनी-अपनी तैयारी में जुटे हुए थे। लेकिन अचानक आई इस मनहूस खबर से पूरे गांव वासियों को झकझोर कर रख दिया।नदीम का शव पहुंचते हीं उसके दरवाजे पर जनसैलाब उमड़ पड़ा।परिजनों की चीत्कार से उपस्थित कई लोग भी अपनी-अपनी आंसुओं को नहीं रोक पाए। मृतक के पिता रोते-रोते बेसुध हो गए हैं।उधर अपने खोए हुए लाडले के गम में मां का भी हालत बिगड़ते जा रही है।