निर्वाचन कार्य शिक्षक दंपती में एक को ही ड्यूटी

0

स्थिति स्पष्ट नहीं होने पर जिलाधिकारी से मिले शिक्षक संघ

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.45 PM
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.44 PM (1)
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.44 PM
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.42 PM (1)
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.43 PM (1)
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.44 PM (2)
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.42 PM
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.43 PM

परवेज़ अख्तर/सिवान:
बिहार विधानसभा चुनाव में शिक्षक दंपती में से एक ही व्यक्ति को निर्वाचन कार्य में लगाने के लिए राज्य निर्वाचन द्वारा सभी जिलों के जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह जिला पदाधिकारी को पत्र भेजा गया है। इस मामले में निर्वाचन विभाग ने स्पष्ट कर दिया है कि शिक्षक पद पर पदस्थापित दंपती (पति-पत्नी) दोनों का चुनाव ड्यूटी में पत्र आने की स्थिति में एक ही व्यक्ति से निर्वाचन कार्य कराए जाने का निर्णय जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह जिलाधिकारी ही लेंगे। निर्वाचन विभाग के पत्र के बाद सिवान जिला में शिक्षक दंपती को निर्वाचन कार्य में लगाने के मामले में अब तक कोई दिशानिर्देश जारी नहीं किया गया है। जिला निर्वाचन पदाधिकारी का स्पष्ट स्थिति करने का दिशानिर्देश जारी किया गया है।

इस संबंध में जिला परिवर्तनकारी संघ के संयोजक अनिल कुमार यादव के नेतृत्व में शिक्षक संघ ने सोमवार को जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह जिलाधिकारी अमित कुमार पांडेय से मिलकर चुनाव कार्य में शिक्षक दंपती में एक ही व्यक्ति को चुनाव कार्य की ड्यूटी में लगाने की मांग रखी गई है। शिक्षक पद पर पदस्थापित दंपती संजय यादव, मंजू देवी, धीरेंद्र कुमार सिंह, रमेंद्रनाथ श्रीवास्तव, सीमा श्रीवास्तव, मनोज कुमार, सरिता देवी आदि ने बताया कि अगर शिक्षक दंपती में दोनों को निर्वाचन कार्य में लगाया गया तो गृहस्थी जीवन में कई समस्याओं से हम सभी घीर जाएंगे।

इसलिए शिक्षक दंपती में एक ही व्यक्ति को निर्वाचन कार्य में लगाने की मांग की गई। विदित हो कि परिवर्तनकारी प्राथमिक शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष वंशीधर ब्रजवासी ने निर्वाचन विभाग को पत्र भेजकर बिहार विधानसभा चुनाव में शिक्षक दंपती में से एक ही निर्वाचन कार्य करने के लिए मांग रखी थी। इसके बाद निर्वाचन विभाग ने सभी जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह जिलाधिकारी को इस मामले में निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र कर दिया है। इसी को लेकर सोमवार को शिक्षक संघ ने जिलाधिकारी से मिलकर अपनी मांग की है।