सड़क दुर्घटना मामले में अज्ञात पिकअप चालक पर प्राथमिकी दर्ज

0
child

परवेज़ अख्तर/सिवान :- जिले के दरौंदा थाना क्षेत्र के महराजगंज-दरौंदा मुख्य मार्ग पर सड़क दुर्घटना में सोमवार को हुई मौत मामले में मृतक के भाई ने थाने में आवेदन देकर अज्ञात पिकअप के चालक के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई है। दर्ज प्राथमिकी में यह लिखा गया है कि थाना क्षेत्र के सतजोड़ा गांव निवासी नरेंद्र कुमार सिंह के पुत्र गुड्डू सिंह उम्र 35 वर्ष व पवन कुमार सिंह उम्र 30 वर्ष सोमवार की देर शाम को बजाज विक्रांत बाइक से एमएचनगर थाना क्षेत्र के कोड़र गांव स्थित बड़े भाई के ससुराल छठ मइया के खराना का प्रसाद ग्रहण करने जा रहे थे। तभी महाराजगंज-दरौंदा मुख्य मार्ग पर झोर पुल के समीप तेज गति से आर रही पिकअप वैन ने साइड से टक्कर मार दी और घटना को अंजाम देने के बाद फरार हो गया। धक्का लगने से बाइक का नियंत्रण खो गया और बाइक सड़क के दाहिनी तरफ एक पेड़ में टकरा गई। इससे गुड्डू सिंह गंभीर रूप से घायल हो गए। जबकि बाइक क्षतिग्रस्त हो गई। बाइक पर पीछे बैठा पवन कुमार सिंह मामूली रूप से घायल हो गया। घायल पवन ने घटना की सूचना दारौंदा पुलिस को दी। सूचना मिलते ही बिना देर किए दरौंदा पुलिस ने मौके पर पहुंचकर आनन-फानन में गुड्डू को इलाज के पीएचसी में भर्ती कराया। जहां से चिकित्सकों ने स्थिति गंभीर देखते हुए सदर अस्पताल रेफर कर दिया। सदर अस्पताल लाने के क्रम में रास्ते में उन्होंने दम तोड़ दिया। इसके बाद सदर अस्पताल में पोस्टमार्टम के बाद पुलिस ने परिजनों को शव सौंप दिया। इधर छोटे भाई पवन का इलाज भी दारौंदा पीएचसी में कराया गया। घटना स्थल से मृतक का मोबाइल नंबर 8320606443 व एक स्मार्ट फोन, एटीएम, पर्स सहित अन्य सामान गुम हो गया है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2023-10-11 at 9.50.09 PM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.50 AM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.51 AM
ahmadali
WhatsApp Image 2023-11-01 at 2.54.48 PM

मासूमों की परवरिश को लेकर बढ़ी चिंता

सड़क दुर्घटना में गुड्डू सिंह की मौत के बाद उनके मासूम बच्चों की परवरिश को लेकर परिजन चिंतित हैं। मृतक का एक पुत्र दक्षराज उम्र व दो पुत्री दिव्या व अनुराधा हैं। घटना के बाद पिता नरेंद्र सिंह, पत्नी उमा देवी, माता आशा देवी का रो-रो कर बुरा हाल है। वहीं पत्नी का रो रो कर बुरा हाल है। बताते चले कि पूरे परिवार का आर्थिक बोझ गुड्डू सिंह के कंधों पर ही था।