दिन भर फैली रही कोहरे की चादर, ठंड हवाओं से ठिठुरे लोग

0
  • सरसों व गेहूं के लिए बेहतर मौसम
  • ओस के रूप में बरसा कोहरा

परवेज अख्तर/सीवान: चल रही तेज हवाओं ने मौसम को बेहत कूल बना दिया है. गुरुवार को दिन भर कोहरा छाया रहा तथा सूर्य के दर्शन तक नहीं हुए. विजिवलिटी घटकर 100 मीटर से भी कम आ गई जिससे वाहनों की रफ्तार थम गई. वहीं पछुआ हवा ने मौसम को और ठंडा कर दिया जिससे अधिकतम और न्यूनतम तापमान दोनों नीचे लुढ़क गए. अधिकतम तापमान 2 डिग्री लुढ़ककर 17 .3 डिग्री और न्यूनतम 2 डिग्री गिरकर 6 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया.गिरे तापमान ने लोगों को ठंड से ठिठुरा दिया. मौसम का तेवर देख लोग अपने-अपने घरों में ही दुबकने को विवश हो गए.मौसम विभाग के अनुसार अभी 2 फरवरी तक मौसम के तेवर में कोई बदलाव नहीं आने वाला है.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

सुबह में देर तक कोहरा छाया रहेगा तथा सूर्य के दर्शन भी कम देर के लिए ही होंगे. पछुआ हवा का परिचालन ठंड को और बढ़ाएगा. यानि आने वाला दो दिन और ठंड होने वाला है.जनवरी माह जैसे-जैसे समाप्त हो रहा है मौसम का मिजाज और अधिक ठंडा होता जा रहा है. कोहरा भी अधिक घना होता जा रहा है तथा पछुआ हवा अपना असर दिखाने लगी है.तापमान लगातार नीचे जा रहा है तथा ठंड धीरे-धीरे बढ़ने लगा है. ठंड के बढ़ते प्रभाव का असर गुरुवार को दिनभर देखने को मिला.पूरे दिन आसमान में एक बार भी सूर्यदेव के दर्शन नहीं हुए और शहर कोहरे की चादर में लिपटा रहा. दिन में चलने वाली पछुआ हवा ने कनकनी और ज्यादा बढ़ा दी.

आसमान में छाए कोहरे के कारण से अधिकतम तापमान में 2 डिग्री की गिरावट दर्ज की गई। अधिकतम और न्यूनतम, तापमान में 2 डिग्री का गिरावट हो जाने के कारण से ठंड का असर दिन भर बना रहा. मौसम विभाग की माने तो आने वाले 2 तारीख तक मौसम में किसी तरह के बदलाव के आसार नहीं है. आने वाले दिनों में ठंड और कुहासे का असर और ज्यादा बढ़ेगा. अधिकतम व न्यूनतम तापमान में गिरावट आएगी. मौसम केंद्र के अनुसार आसमान में छाए बादल के कारण से कुहासे का ज्यादा असर देखने को मिल रहा है. दिन के समय पछुआ हवा चलने के कारण कनकनी का असर देखने को मिला.

ओस के रूप में बरसा कोहरा 

बुधवार की रात लगभग सात बजे से ही कोहरे ने दस्तक देना शुरू कर दिया था.रात लगभग नौ बजे कोहरे के कारण हालात यह बने कि सड़क पर वाहन चालकों को 100 मीटर की दूरी का नजारा भी नहीं दिख रहा था. रातभर कोहरा रहने व शीत हवा के कारण सुबह शहर की सड़कों पर ओस भी गिरी.पेड़ की पत्तियों से कोहरा पानी की बूंद के रूप में गिर रहा था.यही नही रात भर कोहरा बारिश की फुहारों के जैसा बरसता रहा है.

सरसों व गेहूं के लिए बेहतर मौसम 

तापमान में गिरावट का दौर सरसों व गेहूं की फसल के लिए मुफीद बना हुआ है.कृ़षि अनुसंधान केन्द्र की माने तो आगामी दो चार दिन तक मौसम ऐसा ही रहेगा. यह मौसम रबी सीजन की फसलों की बढ़वार को बेहतर करेगा.तापमान चार डिसे से कम होने पर सरसों की फली में दाना खराब होने की स्थिति बनेगी.साथ ही सब्जी की फसल खराब होगी.गेहूं की फसल पर अधिक असर नहीं होगा.क्योंकि गेहूं बढ़वार की अवस्था में है.