छपरा: सारण एसपी ने ड्यूटी में लापरवाही बरतने पर पदाधिकारी के खिलाफ की कार्रवाई

0
  • पहलेजा ओपी के एसआइ को एसपी ने किया निलंबित
  • नयागांव, परसा थानाध्यक्ष के वेतन काटने का आदेश

छपरा : सारण के पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार ने कर्तव्य के प्रति लापरवाह पुलिस पदाधिकारी के खिलाफ कठोर दंडात्मक कार्रवाई की प्रक्रिया शुरू की है। एसपी ने औचक निरीक्षण के दौरान कर्तव्य के प्रति लापरवाही बरतने के मामले में दोषी पाए गए पुलिस पदाधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की है। एसपी ने बताया कि विधि व्यवस्था की दृष्टिकोण से उन्होंने कई थाने का औचक निरीक्षण किया।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

इस दौरान पहलेजा ओ पी के पुलिस अवर निरीक्षक रविंद्र नाथ मिश्रा को बिना अवकाश तथा बिना अनुमति के थाना से अनुपस्थित पाया। इस मामले में उन्हें निलंबित करते हुए विभागीय जांच तथा कार्रवाई शुरू करने का आदेश दिया गया है। पहलेजा ओ पी के ही उपस्थित पदाधिकारी द्वारा पंजी उपलब्ध नहीं कराने तथा प्रथम गश्ती के बारे में जानकारी नहीं देने के आरोप में थानाध्यक्ष अजीत कुमार के एक दिन का वेतन काटने तथा निंदन की सजा दी है। सहायक पुलिस अवर निरीक्षक अजीत कुमार भाई गश्ती वाहन खड़ा करने का दोषी पाया गया। इस आरोप में उनके एक दिन का वेतन काटते हुए भविष्य के लिए कड़ी चेतावनी दी है।पुलिस अधीक्षक ने बताया कि परसा थानाध्यक्ष रामसेवक रावत के द्वारा कर्तव्य के प्रति लापरवाही बरतने के आरोप में एक दिन का वेतन काटा गया है और उनके विरुद्ध एक घोर निंदा की सजा दी गई है।

एसपी ने बताया कि नयागांव थाना के ओ डी ऑफिसर सहायक पुलिस अवर निरीक्षक महेंद्र चौधरी से निरीक्षण के दौरान उनके द्वारा आगंतुक पंजी मांगने पर उपलब्ध नहीं कराया गया। साथ ही गश्ती दल के बारे में जानकारी नहीं दी गई। इस आरोप में महेंद्र चौधरी का एक दिन का वेतन काटने तथा भविष्य के लिए कड़ी चेतावनी दी गई। नयागांव थाना अध्यक्ष अरविंद कुमार के द्वारा कर्तव्य के प्रति लापरवाही बरतने और थाना में पंजी का संधारण नहीं कराने और वरीय पदाधिकारियों के आदेशों की अवहेलना के आरोप में एक दिन की वेतन की कटौती की गई है तथा एक निंदन की सजा दी गई है।

एसपी ने बताया कि इस दौरान दिघवारा थाना का भी औचक निरीक्षण किया गया तथा संबंधित पुलिस पदाधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए। पुलिस अधीक्षक के द्वारा एक साथ कई थाने का औचक निरीक्षण करने और पुलिस पदाधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई किए जाने से कर्तव्य के प्रति लापरवाह पुलिस पदाधिकारियों की बेचैनी बढ़ गई है।