कोरोना संक्रमण-चमकी बुखार के रोकथाम और लू से बचाव के लिए डीएम 8 कोषांगों का किया गठन

0
  • पदाधिकारियों को दी गयी अलग-अलग जिम्मेदारी
  • वैक्सीनेशन, टेस्टिंग, क्वारेँटाइन समेत कई कोषांग गठित
  • कोरोना के साथ एईएस से निपटने को तैयार है जिला प्रशासन

गोपालगंज: जिले में कोरोना संक्रमण के रोकथाम को लेकर प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के द्वारा लगातार प्रयास किया जा रहा है। इसी कड़ी में जिलाधिकारी डॉ. नवल किशोर चौधरी ने कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने, चमकी बुखार व लू से बचाव के लिए अलग-अलग 8 कोषांगों को गठित किया है। प्रत्येक कोषांगों में नोडल पदाधिकारी नामित किये गये है। सभी कोषांगों को अलग-अलग जिम्मेदारी दी गयी है। जिलाधिकारी डॉ नवल किशोर चौधरी ने बताया कि वीडियो के कन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मुख्यमंत्री नतीश कुमार के द्वारा कई निर्देशों का अनुपालन करने का आदेश दिया गया था। जिसके आलोक में जिले में कोरोना संक्रमण को रोकने, आगामी गर्मी मौसम और एईएस को लेकर जिला स्तर पर कोषांगों को गठित किया गया है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

वैक्सीनेशन कोषांग के नोडल पदाधिकारी है वरीय उप समहर्ता

जिलाधिकारी डॉ. नवल किशोर चौधरी के द्वारा गठित कोविड वैक्सीनेशन कोषांग का नोडल पदाधिकारी गोपालगंज के वरीय उप समहर्ता राहुल सिन्हा को नामित किया गया है। इसमें एक दर्जन अधिक अन्य सदस्य शामिल है। इस कोषांग दायित्व है कि जिले में राज्य द्वारा निर्धारित लक्ष्य को सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी, सभी अंचल अधिकारी, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी व स्वास्थ्य प्रबंधक से समन्वय स्थापित कर पूरा करना है। इसके साथ ही अन्य कई महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी गयी है।

अधिक से अधिक लोगों का जांच कराना टेस्टिंग कोषांग की जिम्मेदारी

अनुमंडल लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी मो. ईरफान आलम को टेस्टिंग कोषांग का नोडल पदाधिकारी बनाया गया है। इस कोषांग में अन्य कई पदाधिकारी व कर्मी सदस्य के रूप में शामिल है। इस कोषांग का दायित्व अधिक से अधिक व्यक्तियों का जांच करना, कीट की उपलब्धता का आंकलन करना है। इसके साथ ही अन्य कई महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी गयी है।

आईसोलेशन और ट्रीटमेंट कोषांग को महत्वपूर्ण दायित्व

जिलाधिकारी द्वारा गठित अईसोलेशन एंव ट्रीटमेंट कोषांग को कई महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी गयी है। इस कोषांग का नोडल पदाधिकारी अनिल कुमार सिन्हा, अपर समहर्ता, लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी को बनाया गया है। इस कोषांग को जिम्मेदारी दी गयी है कि जिले में लगभग दो सप्ताह की अवधि से बाहर से आये लोगों की सूची बनाकर स्थानीय मशीनरी को लगाकर सर्वेक्षण कराया जाये। जिसमें कोविड-19 के लक्षण नहीं मिलते है उन्हें होम क्वारेंटाइन में रखना तथा आश व एएनएम से समन्वय बनाकर अनुश्रवण करना है।

डीएम ने इन कोषांगों का किया है गठन

  • वैक्सीनेशन कोषांग
  • परिवहन कोषांग
  • टेस्टिंग कोषांग
  • आईसोलेशन एवं ट्रीटमेंट कोषांग
  • कंटेनमेंट जोन कोषांग
  • जिला नियंत्रण कक्ष कोषांग
  • अनुश्रवण एंव मूल्यांकन कोषांग
  • एईएस/लू कोषांग

अपनी राय दें!

Please enter your comment!
Please enter your name here