गोपालगंज: कमलेश मिश्र की फिल्म ‘आजमगढ़’ तीन फिल्म फेस्टिवल्स में हुई चयनित

0

डाक्यूमेंट्री फिल्मों के बेस्ट निर्देशक के रूप में नेशनल अवार्ड से भी हो चुके हैं सम्मानित

गोपालगंज: जिले के हथुआ प्रखंड के सिंगहा गांव निवासी कमलेश मिश्र फिल्म निर्देशन व लेखन के क्षेत्र में इन दिनों अंतरराष्ट्रीय स्तर पर छाये हुए हैं.डाक्यूमेंट्री फिल्मों के बाद अब उनकी फीचर फिल्में भी धमाल मचा रही हैं.उनकी पहली फीचर फिल्म ‘आजमगढ़’अंतरराष्ट्रीय स्तर की तीन फिल्म फेस्टिवल्स में एक साथ चयनित हुई है.यह फिल्म बिल्कुल अलग अंदाज में बनी है.इसकी कहानी भी अलग ढंग की है और इसमें अभिनय भी अलग ढंग से किया गया है.इस तरह की कई विशेषताओं को लेकर साउथ एशियन इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल वाशिंगटन डीसी-2020,सीएटल फिल्म फेस्टिवल यूएसए-2020 तथा एशियन इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल-2020 में ‘आजमगढ़’फिल्म का चयन हुआ है.सीएटल फिल्म फेस्टिवल यूएसए-2020 में तो यह अंतिम दौर में पहुंच चुकी है.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
a1
ads
WhatsApp Image 2020-11-09 at 10.34.22 PM
Webp.net-compress-image
a2

कमलेश मिश्र इस फिल्म के लेखक व निर्देशक दोनों हैं.इसमें नेशनल फिल्म अवार्ड से सम्मानित गोपालगंज के ही रहनेवाले बॉलीवुड के स्टार अभिनेता पंकज त्रिपाठी मुख्य भूमिका में हैं. भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव,जो आगामी 16 जनवरी से 24 जनवरी तक आयोजित होगा,उसमें इन्हें फिल्मों के चयन हेतु गठित की गयी जूरी में शामिल किया गया है.पिछले वर्ष भी उन्हें जूरी का सदस्य बनाया गया था.भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के लिए फिल्मों के चयन हेतु गठित की गयी जूरी का सदस्य बनना एक फिल्म डायरेक्टर के लिए बड़ी उपलब्धि तो है ही,गोपालगंज के लिए भी यह गौरव की बात है.इन उपलब्धियों से कमलेश मिश्र ने पूरी दुनिया में गोपालगंज का नाम रोशन किया है.बातचीत के दौरान उन्होंने बताया कि उनके द्वारा लिखी गयी एक फीचर फिल्म ‘मासूम सवाल’ भी शूट हो चुकी है.कोरोना महामारी पर दो फिल्में शीघ्र आनेवाली हैं.

इनकी डाक्यूमेंट्री फिल्म को मिल चुका है नेशनल अवार्ड

कमलेश मिश्र द्वारा निर्देशित डाक्यूमेंट्री फिल्म ‘मधुबनी-द स्टेशन ऑफ कलर्स’ को 2019 में नेशनल फिल्म अवार्ड मिल चुका है.बेस्ट नैरेशन की श्रेणी में इसका चयन नेशनल फिल्म अवार्ड के लिए किया गया था.2017 में इनके द्वारा बनायी गयी लघु फिल्म’किताब’विदेशों में भी चर्चित रही.यह फिल्म अभी तक पूरी दुनिया में 50 से अधिक फिल्म समारोहों में दिखायी जा चुकी है.इस फिल्म को एक दर्जन से अधिक पुरस्कार मिल चके हैं.इनके अलावा कमलेश मिश्र की दर्जनों डाक्यूमेंट्री फिल्में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर धमाल मचायी हुई हैं.

अपनी राय दें!

Please enter your comment!
Please enter your name here