गोपालगंज: रक्त की कमी से किसी की मौत न हो, यह सबकी जिम्मेदारी: डीएम

0
  • एक व्यक्ति रक्तदान कर किसी जरूरतमंद की जान बचा सकता है
  • सदर अस्पताल व हथुआ में रक्तदान शिविर का हुआ आयोजन
  • रक्तवीरों ने किया रक्तदान
  • डीएम ने किया रक्तदान शिविर का उद्घाटन

गोपालगंज: रक्त किसी की जिंदगी बचाने में महत्वपूर्ण है। हर स्वस्थ व्यक्ति को कम से कम 3 माह के अंतराल में एक बार रक्तदान जरूरी करना चाहिए। उक्त बातें जिलाधिकारी डॉ. नवल किशोर चौधरी ने सदर अस्पताल में आयोजित रक्तदान शिविर का उद्घाटन करते हुए कही। उन्होंने कहा कि रक्त किसी भी लैब या फैक्ट्री में नहीं बनाया जा सकता है। इसलिए मनुष्य को रक्तदान करने के लिए हमेशा तत्पर रहना चाहिए।रक्तदान महादान है। एक व्यक्ति रक्तदान कर किसी जरूरतमंद की जान बचा सकता है और जाने अंजाने व्यक्ति से रक्त का रिश्ता बन जाता है। आपके रक्त की एक यूनिट से तीन मरीजों की जान बच सकती है। मरीजों की जान बचाने के लिए रक्तदान करिए।कहा कि किसी भी स्वस्थ व्यक्ति द्वारा दान किया गया रक्त शरीर में फिर से 24 घंटे में बन जाता है। इससे शरीर पर किसी भी प्रकार का नकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ता है। इस मौके पर सिविल सर्जन डॉ. योगेंद्र महतो, डीपीएम धीरज कुमार, केयर इंडिया के डीटीएल मुकेश कुमार सिंह, प्रभारी डीपीसी जयंत कुमार चौहान, परिवार नियोजन समन्वयक अमित कुमार समेत अन्य मौजूद थे।

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

हथुआ और सदर अस्पताल में रक्तदान शिविर का आयोजन

सिविल सर्जन डॉ. योगेंद्र महतो ने कहा कि जिलाधिकारी के निर्देशानुसार ब्लड बैंक रक्त की आवश्ययकता की पूर्ति के लिए स्वास्थ्य विभाग व सहयोगी संस्थाओं के सहयोग से रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें स्वास्थ्य विभाग के पदाधिकारी, स्वास्थ्य कर्मी और सहयोगी संस्था के स्वयंसेवकों के द्वारा रक्तदान किया गया। सदर अस्पताल गोपालगंज और अनुमंडलीय अस्पताल हथुआ में रक्तदान शिविर आयोजित किया गया।

रक्तदान से कमजोरी नहीं आती है, बल्कि नई ऊर्जा का संचार होता है: डीपीएम

सदर अस्पताल में सबसे पहले रक्तदान करने के बाद जिला स्वास्थ्य समिति के डीपीएम धीरज कुमार ने अपना अनुभव साझा करते हुए कहा कि रक्तदान करके उन्हें बहुत खुशी हुई। हर व्यक्ति को रक्तदान करना चाहिए, इससे शरीर में कोई कमजोरी नहीं आती है, बल्कि नई ऊर्जा का संचार होता है। रक्तदान करना बहुत ही पुण्य का कार्य है। रक्तदान से बड़ा कोई दान नहीं है।कहा कि अक्सर लोग ब्लड देने से डरते या संकोच करते हैं, जबकि यह आपके लिए ही फायदेमंद है। इससे आपके शरीर में नया खून बनता है और आप पहले से ज्यादा चुस्त दुरुस्त बनते हैं।

जब किसी अपने का जीवन खतरे में हो तब रक्त की महता समझ में आती है: डीटीएल

केयर इंडिया के डीटीएल मुकेश कुमार सिंह ने रक्तदान करने के बाद कहा कि जब किसी अपने का जीवन खतरे में हो तब रक्त की महता समझ में आती है। आज हमारे द्वारा किया गया रक्त दान किसी जरूरतमंद के जीवन को बचाने में सहायक होगा। रक्त के लिए कभी किसी का जीवन समाप्त न हो इस बात की जिम्मेदारी हम सब पर है। कहा कि सभी लोगों को जागरूक करें और समय-समय पर सभी को रक्तदान करना चाहिेए।