बिहार में अब ग्रेजुएशन पास लड़कियों को मिलेंगे 50-50 हजार रुपये, इंटर पास करने पर 25 हजार

0

पटना: बिहार में स्नातक करने वाली छात्राओं के लिए बड़ी खुशखबरी है. क्योंकि प्रोत्‍साहन स्‍वरूप दी जाने वाली राशि में दोगुना इजाफा हुआ है. बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार की बेटियों के साथ जो सबसे बड़ा वादा किया, वह पूरा हो गया है. मंगलवार को हुई नीतीश कैबिनेट की बैठक में इस बात पर मुहर लग गई कि बिहार में ग्रेजुएशन पास लड़कियों को मिलेंगे 50-50 हजार रुपये दिए जायेंगे. इसके अलावा इंटर पास करने वाली छात्राओं को भी 25-25 हजार रुपये जायेंगे.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

बिहार की नीतीश सरकार ग्रेजुएशन पास छात्राओं को प्रोत्‍साहन स्‍वरूप 25 हजार रुपए दे रही थी, जो अब दोगुनी हो गई है. नई व्‍यवस्‍था में यह राशि दोगुनी होकर 50 हजार रुपए के रूप में दी जाएगी. बिहार सरकार के शिक्षा विभाग ने मुख्यमंत्री स्नातक बालिका प्रोत्साहन योजना के तहत लाभार्थीयों के बैंक खाते में प्रोत्साहन राशि भेजने का प्रस्ताव तैयार किया है.

प्रस्ताव को वित्त विभाग के पास स्वीकृति के लिए भेजा गया, उसके बाद कैबिनेट से मंजूरी दे दी गई. महत्‍वपूर्ण यह है कि इस बार पिछली बार की अपेक्षा सौ करोड़ रुपये की राशि अधिक बांटी जाएगी. उच्च शिक्षा निदेशालय के एक अधिकारी ने बताया कि मुख्यमंत्री स्नातक बालिका प्रोत्साहन योजना में राशि की बढ़ोतरी होने पर करीब 1.50 लाख स्नातक उत्तीर्ण लड़कियों को लाभ मिलेगा.

मौजूदा व्यवस्था में स्नातक उत्तीर्ण छात्राओं को 25-25 हजार रुपये की प्रोत्साहन राशि देने का प्रावधान है. पिछले साल 1.4 लाख लाभुकों के आवेदन आए थे, जिनमें से 84 हजार तीन सौ 44 छात्राओं को प्रोत्साहन राशि भेजी जा चुकी है. राज्य सरकार से मान्यता एवं संबद्धता प्राप्त महाविद्यालयों से स्नातक पास छात्राओं को प्रोत्साहन राशि दी जाती है. साल 2019-20 में इस योजना के लिए शिक्षा विभाग ने 200 करोड़ रुपये का प्रावधान किया था.

आपको बता दें कि बिहार विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने घोषणा की थी कि अगर बिहार में फिर से उनकी सरकार बनी तो वे छात्राओं को प्रोत्साहन राशि प्रदान किया जायेगा. अब नीतीश कुमार अपने वादों को पूरा करने में लग चुके हैं और छात्राओं को रुपये देने की घोषणा की है. नीतीश कैबिनेट की अहम बैठक में ही इस निर्णय पर मुहर लगी.