गुठनी: गोलियों की तड़तड़ाहट से गूंजा जतौर बाजार

0
  • गांव में फायरिंग की घटना से नाराज ग्रामीणों ने मुख्य सड़क को एक घंटे तक जाम रखा
  • घटनास्थल से पुलिस ने आठ कारतूस बरामद किया
  • नाराज लोगों को किसी तरह समझाकर शांत कराया
  • 08 राउंड फायरिंग के बाद इलाके में दहशत
  • 04 थानों की पुलिस घटनास्थल पर तैनात

परवेज अख्तर/सिवान: बीती रात थाना क्षेत्र का जतौर बाजार गोलियों की तड़तड़ाहट से गूंज उठा। इस घटना के बाद पूरे इलाके में दहशत का माहौल पैदा हो गया है। गांव में फायरिंग की घटना से नाराज ग्रामीणों ने मुख्य सड़क को एक घंटे तक जाम रखा। पुलिस सूत्रों के अनुसार जतौर गांव में पंचायत चुनाव को लेकर दो गुटों में विवाद चल रहा था। एक गुट पूर्व उपप्रमुख अवध बिहारी सिंह और दूसरा पैक्स अध्यक्ष प्रवीण कुमार सिंह का हैं। फायरिंग व जाम की सूचना मिलने के बाद थानाध्यक्ष राजेश कुमार सिंह, मैरवा थानाध्यक्ष संजीव कुमार, दरौली थानाध्यक्ष रितेश कुमार मंडल को लेकर मैरवा इंस्पेक्टर मनीष कुमार दलबल के साथ पहुंचे। घटनास्थल से पुलिस ने आठ कारतूस बरामद किया है। इस दौरान पुलिस को लोगों के आक्रोश का सामना करना पड़ा। हालांकि पुलिस ने नाराज लोगों को किसी तरह समझा बुझाकर शांत कराया। आरोपितों के खिलाफ कड़ी कारवाई के आश्वासन के बाद ग्रामीणों ने सड़क जाम खत्म किया।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
camp

एक दूसरे पर लगाया फायरिंग करने का आरोप

फायरिंग की घटना को लेकर पुलिस को एफआईआर के लिए दो अलग-अलग आवेदन मिला है। अशोक कुमार सिंह ने आवेदन में कहा है कि चुनाव के बाद वह अपने बरामदे में परिजनों के साथ बैठे थे। तभी, चकिया गांव निवासी गोलू तिवारी, जतौर गांव निवासी अवधेश सिंह, विजय प्रताप सिंह, विपिन सिंह ने आकर फायरिंग शुरू कर दी। दूसरा आवेदन धनंजय कुमार सिंह का है जिसमे उसने कहा है कि वह मुख्य सड़क पर दवा खरीदने गए थे। तभी लाल अपाची बाइक से गोलू तिवारी, अवध बिहारी सिंह और रंजन सिंह आकर गाली-गलौज करने लगे। इसके बाद अंधाधुंध फायरिंग करने लगे। इस दौरान वह किसी तरह बच गया। वही पूर्व उपप्रमुख अवध बिहारी सिंह के परिजनों ने साजिश के तहत फंसाने का आरोप लगाया है। फायरिंग की घटना की निष्पक्ष जांच करने की मांग की है। इधर बुधवार की देर रात हुई फायरिंग की घटना के बाद गरुवार को पूरे दिन गांव में सन्नाटा पसरा रहा। पीड़ित पक्ष के अशोक सिंह व धनंजय सिंह ने स्थानीय पुलिस पर विपक्षी से मिलीभगत का आरोप लगाया है।

क्या कहते हैं एसपी

एसपी अभिनव कुमार का कहना है कि फायरिंग की घटना के बाद गांव में पुलिसबल को तैनात कर दिया गया है। दोनों पक्षों से मिले आवेदन के आधार पर घटना की जांच की जा रही है।