गुठनी: विद्युत विभाग के कृषि फीडर के 10 किलोमीटर तक का तार चोरों ने काटा लिया

0
chor

बिजली विभाग को 18.5 लाख का हुआ नुकसान

परवेज अख्तर/सिवान: गुठनी पावर सब स्टेशन क्षेत्र के सोहगरा, हरपुर, बेलौर नहर, सेमाटार सहित आधा दर्जन से अधिक गांवों के बिजली विभाग के खंभों से कृषि फीडर के दर्जनों खंभों से चोरों ने 11 केवी के एचटी व एलटी केबल काटकर चोरी कर लिया है. इस चोरी से बिजली विभाग को 18 लाख 47 हजार 535 रुपये का नुकसान हुआ है. लंबे समय के अंतराल पर इतने बड़े पैमाने पर चोरों ने बिजली खंभों से तार काटकर चोरी किया है. कनीय अभियंता ने थाने में दिये अपने आवेदन में लिखा है कि दिनांक 02 अगस्त की सुबह 07:30 बजे सूचना प्राप्त हुआ कि ग्राम हरपुर, सोहागरा एवं झझौर में 11 केवी के एचटी तार एवं एलटी केबल को अज्ञात व्यक्तियों द्वारा काटकर चोरी की गई है.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2023-10-11 at 9.50.09 PM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.50 AM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.51 AM
ahmadali
WhatsApp Image 2023-11-01 at 2.54.48 PM

इस सूचना के आधार पर एक टीम का गठन किया गया जिसमें मैं योगेश कुमार कनीय विद्युत अभियंता, प्रमोद कुमार पाण्डेय, मानवबल संजय यादव, अमरनाथ बैठा व ब्रजेन्द्र मिश्रा शामिल थे. जांचोपरान्त पाया गया कि ग्राम हरपुर, सोहागरा, सेमाटार, ताड़का, कोहरवलिया, झझौर एवं बेलौर ( नहर पर ) कृषि फिडर का 11 केवी के एचटी तार लगभग 12 सर्किट किलोमीटर, एलटी केबल लगभग 10 किलोमीटर अज्ञात व्यक्तियों द्वारा काटकर चोरी किया गया है. इस चोरी से नार्थ बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन कम्पनी लिमिटेड को लगभग अठारह लाख सैतालिस हजार पाँच सौ पैतीस रूपये की आर्थिक क्षति हुई है. इस चोरी की घटना को हर लोग अलग अलग नजरिये से देख रहे है.

ग्रामीणों का मानना है कि बिजली के तार की चोरी लंबे समय बाद सुनने को मिल रहा है और इतने बड़े पैमाने पर इसलिये इस घटना की जांच गंभीरता से होनी चाहिये. जिलाधिकारी अमित पांडे के गुठनी के जांच कार्यक्रम 4 अगस्त के 24 घंटे पहले बिजली खम्भो से तार की चोरी घटना शासन-प्रशासन के लिये भी चुमौतिपूर्ण है. ग्रामीणों के अनुसार बिजली तार की चोरी बिभाग से सम्बंधित लोग ही कर सकते है आम आदमी तार की चोरी नही कर सकता.थानाध्यक्ष अभिमन्यु कुमार ने बताया बिजली के तार चोरी की प्राथमिकी थानाकांड संख्या 214/22 धारा 379 भादवि के तहत दर्ज कर अनुसंधान शुरू कर दिया गया है.