कोरोना वायरस से लड़ने के लिए स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह तैयार

0

पटना व गया एयरपोर्ट पर यात्रियों पर रखी जा रही है नजर

अफवाहों पर ध्यान नहीं देने की स्वास्थ्य ​विभाग ने की अपील

 ग्रामसभा में दी जा रही है कोरोना वायरस के बारे में जानकारी

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल की घोषणा की

पटना: भारत में कोरोना वायरस से ग्रसित 31 मरीजों की पहचान किये जाने के बाद राज्य सरकार ने 15 जनवरी से अभी तक बिहार में कोरोना वायरस ग्रसित देशों से लौटे 128 यात्रियों को सर्विलांस में रखा गया है. विश्व भर में नोवेल कोरोना वायरस के प्रतिवदित मामलों को देखते हुए बिहार सरकार ने अपनी पूरी तैयारी कर रखी है. इन तैयारियों में सबसे पहले राज्य सरकार की ओर से 25 जनवरी को नोवेल कोरोना वायरस पर एडवाइजरी भेजी गयी थी. इसके साथ ही जिला और मेडिकल कॉलेजों के लिए स्टैंडर्ड आॅपरेटिंग प्रोसिड्यूर भी उपलब्ध कराया गया है. पर्सनल प्रोटेक्शन इक्वीपमेंट्स किट्स, एन-95 मास्क, इन्फ्रारेड थर्मामीटर सभी जिलों एवं मेडिकल कॉलेजों को उपलब्ध करा दिया गया है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

पटना व गया एयरपोर्ट पर यात्रियों पर रखी जा रही है नजर

पटना एवं गया एयरपोर्ट पर आमलोगों की जानकारी के लिए स्वास्थ्य संंबंधी आवश्यक चेतावनी एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी किए गए एडवाईजरी को प्रदर्शित किया गया है। हवाई अड्डों पर आइसोलेशन वार्ड का निर्माण किया गया है. प्रभावित देशों के यात्रियों की लाइन लिस्टिंग और हवाई अड्डे के अधिकारियों के साथ समन्वय स्थापित कर आईईसी सामग्री का प्रदर्शन सुनिश्चित किया गया है। गया द्वारा की जाने वाली अतिरिक्त तैयारियों पर राज्य का फीडबैक गया जिले और हवाई अड्डे को भेज दिया गया है।

ग्रामसभा में दी जा रही रोग के बारे में जानकारी

कोरोना वायरस बीमारी को लेकर जिलाधिकारी की अध्यक्षता में सभी ग्राम पंचायतों में ग्रामसभा की बैठक करने का निर्देश दिया गया है। सभी पंचायती राज सदस्य, एएनएम, आंगनबाड़ी सेवक, हेल्थ केयर वर्कर को कोरोना वायरस के प्रति जागरूक किया गया है।

नेपाल के सीमावर्ती जिलों में बढ़ाई गयी निगरानी

नेपाल में नोवेल कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज में इस वायरस की पूष्टि होने के कारण नेपाल से सटे सीमावर्ती जिलों में ट्रांजिट प्वांट पर निगरानी बढ़ाने के लिए विशेष ध्यान दिया जा रहा है। अररिया, वैशाली, गया और नालंदा में बौद्ध स्थलों पर भी निगरानी की जा रही है। सभी 38 जिलों को आइसोलेशन और सैंपल संग्रह के लिए 9 मेडिकल कॉलेज और अस्पतालों से जोड़ा गया है। कोरोना वायरस से संबंधित गतिविधियों पर नजर रखने के लिए प्रत्येक जिले और मे​डिकल कॉलेज और अस्पतालों में नोडल पदाधिकारी नामित किया गया है। सभी होटलों में खास कर गया, वैशाली, नालंदा एवं अररिया के होटलों में एडवाईजरी जारी करते हुए ऐसे कोरोना वायरस के संदिग्ध यात्रियों पर विशेष निगरानी रखने की हिदायत दी गई है। भारत-नेपाल सीमा पर टीमों का प्रशिक्षण पूरा हो गया है। नेपाल से सटे 7 जिलों को कोरोना वायरस से संबंधित गतिविधियों में तेजी लाने का निर्देश दिया गया है।

104 पर लें बीमारी के बारे में जानकारी 

जिलों को स्कूलों का उन्मुखीकरण सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है। सभी जिलों और मेडिकल कॉलेज और अस्पतालों को ग्रामसभा की बैठकों के लिए आईईसी सामग्री और टॉकिंग पॉइंट प्रदान किए गए हैं।
स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, भारत सरकार के साथ रिपोर्टों का दैनिक साझाकरण सुनिश्चित किया जा रहा है। जिला स्तर की गतिविधियों की नियमित निगरानी की जा रही है। संदेहास्पद यात्रियों को चिन्हित कर 14 दिनों के लिए सर्विलांस पर रखा जा रहा है। इस वायरस से संबंधित अधिक जानकारी के लिए 24X7 कॉल सेंटर नं. 104 को जनमानसों के बीच जारी कर दिया गया है।

बिहार में 8 मार्च तक नोवेल कोरोना वायरस की स्थिति

नेपाल के सीमावर्ती जिलों की संख्या की संख्या 7 है. वहीं नेपाल के सीमावर्ती अनुमंडल की संख्या 30 है. राज्य में ग्राम पंचायतों की संख्या 9805 है. नेपाल की सीमा से लगे गाँव की संख्या 6364 है. भारत-नेपाल सीमा पर पारगमन बिंदुओं की संख्या 49 है. आइसोलेशन वार्ड में बेड की संख्या प्रत्येक जिला अस्पताल में 5 है जबकि मेडिकल कॉलेज और हॉस्पीटल में बेड की संख्या 10 से 20 है.
पारगमन बिंदुओं पर जांच किये गये यात्रियों की संख्या 120955 है.
पारगमन बिंदुओं पर रोगसूचक(लक्षणात्मक) मामलों की संख्या 1 दर्ज की गयी है. राज्य में निगरानी के तहत बौद्ध स्पॉट की संख्या 6 है
ग्राम सभा की बैठकों की संख्या 3786 है उन्मुखीकरण किये गये पंचायती राज की संख्या 6579 है। उन्मुखिकरण किये गये हेल्थ वर्कर्स की संख्या 5724 है। जिलों में स्कूलों की संख्या 96034 है.उन्मुखीकरण किये गये स्कूलों की संख्या 6016 है.

इसके साथ ही गया व पटना एयरपोर्ट पर जांच किये गये यात्रियों की संख्या 18326 दर्ज की गयी है. इन एयरपोर्टों पर रोगसूचक(लक्षणात्मक) यात्रियों की संख्या 0 है. यहां से एकत्रित किए गए नमूनों की संख्या 51 है. कोरोना वायरस के सकारात्मक मामले 0 दर्ज किये गये हैं. निगरानी के लिए नामांकित किये गये यात्रियों की संख्या 128 दर्ज की गयी. 67 यात्रियों को 14 दिनों का निगरानी संबंधी कार्य पूरा किया गया है. 581 जगहों पर आइईसी सामग्री प्रदर्शित किये गये हैं.

अफवाहों पर न दें ध्यान, सफाई के प्रति रहें जागरूक

स्वास्थ्य विभाग, बिहार सरकार ने राज्य के लोगों से अपील किया है कि कोरोना वायरस को लेकर वे किसी भी अफवाह से नहीं घबराएं। स्वास्थ्य विभाग ने जारी किये गये स्वास्थ्य सलाह का पालन करने के लिए अपील की है. कहा गया है कि छींकते या खासते समय नाक और मुंह को ढंक लें. साथ ही रूमाल या तौलिया का उपयोग अवश्य करें। समय समय पर हाथों को साबुन से धोते रहें। जो लोग कोरोना प्रभावित देशों से आए हैं, उन्हें घर पर ही रहना चाहिए और इस वायरस के लक्षण उनमें पाये जाने पर उन्हें घर से बाहर एवं सार्वजनिक स्थानों पर नहीं जाने