हुसैनगंज: दो दिनों से लापता युवक का शव गड्ढे से बरामद

0
  • – परिजनों ने लगाया हत्या कर शव फेकने का आरोप
  • – गुरुवार की संध्या घर से लापता था युवक

परवेज अख्तर/सिवान: जिले के हुसैनगंज थाना क्षेत्र के रसीद चक गांव के समीप एक गड्ढे से पुलिस ने दो दिनों से लापता एक युवक का शव बरामद किया है. युवक की पहचान रसीद चक गांव निवासी सच्चिदानंद पांडे का पुत्र आशुतोष कुमार पांडे के रूप में की गई.घटना के संबंध में मृतक के पिता सच्चिदानंद पांडे ने बताया कि गुरुवार की रात तकरीबन 8:00 बजे मेरा पुत्र खाना खाकर घर पर ही था तब तक के गांव के ही एक व्यक्ति ने उसे बुलाया और वह उसके साथ चला गया. जिसके बाद वह रात में नहीं लौटा हम लोगों ने काफी खोजबीन किया शुक्रवार की दोपहर तक नहीं लौटने के बाद हम लोगों ने स्थानीय थाना में लापता होने की सनहा दर्ज कराई थी. जिसके बाद पुलिस भी उसकी तलाश कर रही थी और वह जिसके साथ गया था उससे काफी पूछताछ करने के बाद भी उसने नहीं बताया कि आपका पुत्र कहां है. वही शनिवार की सुबह तकरीबन 10:00 बजे सूचना प्राप्त हुई कि एक युवक का शव गांव के बगल में ही एक गड्ढे के पानी में पड़ा हुआ है. जब हम लोग वहां गए और देखा कि यह मेरा पुत्र आशुतोष है. जिसके बाद इसकी सूचना स्थानीय थाना को दिया और पुलिस घटनास्थल पर पहुंच शो को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया और मामले की जांच में जुट गई. इधर मौत की सूचना के बाद परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल हो गया है. इधर शनिवार की दोपहर मृतक शव उसके पैतृक गाँव पहुँचते ही पूरे गाँव के लोगों की आंखे नम हो गई. और लोग दहाड़ मार कर रोने लगे.अपने पुत्र की याद में उसकी माँ बार-बार अचेत हो जा रही थी.

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

पॉकेट में था 70 हजार व फ़ोन

मृतक के पिता सच्चिदानंद पांडे ने बताया कि जिस दिन मेरा पुत्र उस व्यक्ति के साथ गया था. उस समय मेरे पुत्र का पैकेट में 70 हजार नगद और एक के एंड्रॉयड फोन था. इधर जब हम लोगों ने गड्ढे से अपने पुत्र का शव बरामद किया तो उसके पास न हीं मोबाइल था और ना ही रुपए थे. मुझे पूर्ण विश्वास है कि जो व्यक्ति ने उसे बुलाकर ले गया था उसने ही हत्या कर रुपए ले लिया है.

कॉन्ट्रैक्ट पर कार्य करता था मृतक

प्राप्त जानकारी के अनुसार अभिषेक सीवान के रेलवे स्टेशन पर इलेक्ट्रिकल में कांटेक्ट पर कार्य करता था. जिसके बाद उसके साथी को कांटेक्ट से हटा दिया गया और साथी के हटने के बाद आशुतोष ने भी इस कार्य से इस्तीफा दे दिया था. तब से अभिषेक के घर पर रहकर ही मजदूरी करता था.

दो भाइयों में छोटा था अभिषेक

अभिषेक अपने भाई बहनों में सबसे छोटा था. अभिषेक के पिता ने बताया कि आशुतोष दो भाई थे और बड़ा भाई प्रफुल पांडे हैदराबाद में रहकर परिवार का पालन पोषण के लिए मजदूरी का कार्य करता है और इधर अभिषेक के घर पर रहकर ही मजदूरी करता था .लेकिन किसी ने उसकी हत्या कर दी.

बोले थानाध्यक्ष

हुसैनगंज थानाध्यक्ष रामबालक यादव ने बताया कि मृतक के शरीर पर किसी भी प्रकार का दाग व खरोच नही हैं. पुलिस मामले की जांच कर रही है कि आखिर युवक की मौत कैसे हुई है.

रामबालक यादव (थानाध्यक्ष हुसैनगंज)