शराब की जानकारी हो तो केके पाठक के Whatsapp नंबर पर सीधे करें शिकायत….अब आसमान से भी रखी जा रही है नजर….

0

पटना: शराब की तस्करी रोकने को हर 50 किलोमीटर पर एक गश्ती दल की तैनाती की जा रही है। नदियों के रास्ते शराब तस्करी रोकने को नाव व मोटर बोट से नदी गश्ती भी शुरू की गई है। गांव-देहात में अवैध देसी शराब भट्ठियों की निगरानी ड्रोन कैमरे से की जाएगी। मुख्यमंत्री की समीक्षा बैठक के बाद मद्य निषेध, उत्पाद एवं निबंधन विभाग ने इस दिशा में सख्ती बढ़ा दी है।सोमवार को सचिवालय सभागार में पत्रकारों से बातचीत में उत्पाद आयुक्त बी कार्तिकेय धनजी ने बताया कि विभाग में कार्यबल की कमी को देखते हुए पुलिस विभाग से तीन डीएसपी, 11 इंस्पेक्टर, 104 दारोगा और 244 सिपाहियों की प्रतिनियुक्ति की मांग की जा रही है। गृह रक्षक और सैप बलों को भी आवश्यकतानुसार विभाग में प्रतिनियुक्त करने की कार्रवाई की जा रही है। चेकपोस्ट पर भी मैन पावर और अन्य संसधान बढ़ाए जा रहे हैं।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
metra hospital

उत्पाद आयुक्त ने बताया कि विभाग की ओर से शराबबंदी की जिलावार समीक्षा शुरू की गई है। सबसे पहले पटना जिले की समीक्षा हुई जिसमें होम डिलीवरी की शिकायतें मिलीं। इसके लिए एक्शन प्लान बनाया गया है। इसी तरह अगले कुछ दिनों में सारण और फिर मुजफ्फरपुर समेत अन्य जिलों की समीक्षा होगी। इसमें स्थानीय अधिकारियों से एक्शन प्लान भी मांगा गया है।

उत्पाद आयुक्त ने बताया कि एक अप्रैल, 2016 से अक्टूबर 2021 तक शराब तस्करी में शामिल 55 हजार वाहनों को जब्त किया गया है, जिसमें 9,706 वाहनों को नीलाम किया जा चुका है। सिर्फ इससे विभाग को 62 करोड़ राजस्व मिला है। इसी तरह दो हजार से अधिक भवन व भूखंड भी जब्त किए गए हैं। मद्यनिषेध कानून का उल्लंघन करने वाले अभी तक 1176 अभियुक्तों को सजा दिलाई जा चुकी है।

पिछले 10 दिनों में पुलिस और मद्य निषेध विभाग ने करीब एक लाख 70 हजार लीटर शराब जब्त की है। इसमें 73 हजार लीटर से अधिक देसी जबकि 97 हजार लीटर से अधिक विदेशी शराब शामिल है। इस दौरान 4670 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया है, जबकि 400 वाहनों को जब्त किया गया है।
विभाग की ओर से शराबबंदी से जुड़ी शिकायत के लिए हेल्पलाइन नंबर 15545 के साथ विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक का मोबाइल नंबर 9473400600 भी जारी किया गया है। लोगों से शराब तस्करी से जुड़ी किसी भी शिकायत को इस नंबर पर वाट्सएप के जरिए भेजने की अपील की गई है। नशामुक्ति अभियान को लेकर 18 जिलों में घूम रहे जागरूकता रथ पर भी इन नंबरों को प्रचारित किया जा रहा है।