पटना से आई एफएसएल की टीम ने की डकैती घटना की जांच

0

नट गिरोह पर पुलिस को संदेह

डॉग स्क्वायड की टीम का भी पुलिस ने लिया सहारा

परवेज अख्तर/सिवान:- जिले के एमएच नगर थाना के गोपी पतियाव गांव में गुरुवार की देर रात रमाशंकर पटेल के घर हुई लाखों रुपये की भीषण डकैती के मामले में शुक्रवार को पटना से आई एफएसएल की टीम ने घटनास्थल पहुंच कर जांच की। डकैती घटना की जांच एफएसएल टीम के फिंगर प्रिंट स्पर्ट ब्रज बिहारी सिंह ने की। वहीं संवाद प्रेषण तक डॉग स्क्वायड के भी आने का इंतजार पुलिस कर रही थी। डकैतों के विरुद्ध स्थानीय पुलिस लगातार छापामारी कर रही है। एफएसएल की टीम के आने के साथ ही घटनास्थल पर सिवान के अपर पुलिस अधीक्षक कांतेश मिश्रा, आंदर अंचल के पुलिस निरीक्षक ने घटनास्थल का निरीक्षण कर आवश्यक दिशा निर्देश थानाध्यक्ष को दिया। इधर थाना में अज्ञात के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज की गई है। घटना के बाद ग्रामीणों और पीड़ित परिवार के परिजनों में दहशत व्याप्त है और कोई कुछ बोलने को तैयार नहीं है। पूरे गांव में लोग डकैती की घटना को लेकर दहशत में हैं।

गांव में पसरा है सन्नाटा, दहशत व्याप्त

डकैती की घटना के बाद पूरे गोपी पतियांव गांव में दहशत का माहौल है। डकैतों की फायरिंग से जब गांव के पांच लोग घायल हुए तो सभी ग्रामीण भयभीत एवं आक्रोशित हो गए। कुछ तो अपने को स्वयं बचने के लिए भागने लगे। कुछ ग्रामीण घायलों को बेहतर इलाज के लिए अस्पताल ले जाने लगे जबकि कुछ ग्रामीण दिलेरी दिखाते हुए डकैतों पर ईंट पत्थर से हमला कर घेरने का प्रयास करने लगे लेकिन उन्हें सफलता हासिल नहीं हुई।

नट गिरोह पर पुलिस को संदेह

गोपी पतियाव गांव में यह पहली बार है जब डकैतों ने डकैती की घटना को अंजाम देने के दौरान फायरिंग कर पांच लोगों को घायल कर दिया है। इस घटना के बाद गांव में सन्नाटा पसरा है। वहीं थानाध्यक्ष पंकज कुमार ने बताया कि नट गिरोह ने संभावित घटना का अंजाम दिया है। पुलिस डकैतों को गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी कर रही है। वहीं थानाध्यक्ष ने कहा कि श्वानदस्ता से घटना की जांच की जाएगी। फिलहाल इस मामले में सभी घायलों का इलाज सदर अस्पताल में चल रहा है।

एलईडी टॉर्च लेकर डकैती करने आए थे डकैत

डकैतों की गोली से घायल हुए ग्रामीण सूरज कुमार ने बताया कि शोर सुनने के बाद जब हम रामाशंकर के मकान के समीप पहुंचे तो डकैतों ने अपने पास रखे तेज रोशनी वाले टॉर्च से रोशनी कर दी। डकैतों ने हमारी आंखों पर उसके फोकस मारने शुरू कर दिए जिससे हमारी आंखों के सामने अंधेरा छा गया। इसी का फायदा उठाकर डकैतों ने फायरिंग शुरू कर दी। बता दें कि डकैतों की गोली से सूरज के पैर में गोली गली है। उसका इलाज सदर अस्पताल में चल रहा है।