लोगवा केतनो करी चतुराई बाकिर तिरवे जीत के जाई:- श्याम बहादुर सिंह

0

तरवारा बाजार स्तिथ साकिर बाबा व दुर्गा माता के मंदिर में माथा टेक आगामी 10 अक्टूबर को श्यामबहादुर सिंह करेंगे नामांकन।

परवेज़ अख्तर/सिवान:
अपने राजनीति काल मे हमेसा सुर्खियों में रहे जदयू के विधायक श्री श्याम बहादुर सिंह आगामी 10 अक्टूबर को सुबह 10: 30 बजे अपना नामांकन करेंगे।नामांकन के पूर्व श्री सिंह तरवारा बाजार स्थित साकिर बाबा का मजार व  दुर्गा मंदिर में माथा टेक चुनावी बिगुल का शुरुआत करेंगे।इस बाबत विधायक श्री श्याम बहादुर सिंह ने बताया कि सामाजिक दूरी का पालन करते हुए मैं अपने समर्थकों के साथ नामांकन दाखिल करूंगा। उन्होंने शायराना अंदाज में भोजपुरी में बात करते हुए कहा कि “लोगवा केतनो करी चतुराई बाकिर तिरवे जीत के जाई “! उन्होंने बड़हरिया विधानसभा क्षेत्र के आम जनमानस से अपील करते हुए नामांकन में भाग लेने का आग्रह भी किया।उन्होंने कहा कि सूबे के मुखिया नीतीश कुमार के कार्यकाल में कानून के राज के साथ-साथ विकास की गंगा बहाई गई है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

हमारे मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार के सात निश्चय कार्यक्रम को आम जनमानस के द्वारा चुने गए जनप्रतिनिधियों ने धरातल पर उतारने का काम किया है। उन्होंने जंगलराज पर चर्चा करते हुए कहा कि जंगलराज की सरकार में कोई सुरक्षित नहीं था लेकिन हमारे नीतीश कुमार के सरकार में आम जनमानस अपने आप को सुरक्षित महसूस कर रहा है व्यापारी बंधु निर्भीक होकर अपना व्यवसाय कर रहे हैं उन्होंने दूसरी और कहा कि हमारी सरकार बच्चों के हाथ में बंदूक बांटने का काम नहीं बल्कि कलम बांटने का काम किया है।जब तक हमारे बच्चे शिक्षित नहीं होंगे तब तक उनके अंदर जागरूकता नहीं आएगी।जागरूक होने के लिए सबसे पहले शिक्षा की आवश्यकता है।

हमारे सूबे के मुखिया श्री नीतीश कुमार ने गांव – गांव में विद्यालय खोलने का काम किया।गांव-गांव में हमारे सूबे के मुखिया ने विकास की गंगा बहाई है।उन्होंने विरोधी दल के कुछ लोगों पर तंग कसते हुए कहा कि आजकल लोग छोटी मुंह बड़ी बातें कर रहे हैं।लेकिन आम जनमानस इससे वाकिफ है।चुनाव के दरमियान आम जनमानस इसका जवाब ईवीएम का बटन दबा कर देगी। अंत में उन्होंने कहा कि मैं अपने विधानसभा क्षेत्र के लोगों को सताने का काम नहीं किया हूं,ठगने का काम नहीं किया हूं,बल्कि उनके हर एक सुख दुख में कदम से कदम मिलाकर चलने का काम किया हूं। दुःख की घड़ी में जिसने मुझे आवाज दिया है मैं स्वयं चलकर उनके पास गया हूं।उन्होंने आखिरी कड़ी में आम जनमानस से यह आगाह करते हुए कहा कि मेरे द्वारा विधानसभा क्षेत्र में जितने भी अधूरे काम है।अगर आप सबों का स्नेह व प्यार मिला तो मैं विधानसभा चुनाव के बाद उसे पूर्ण कराने का काम करूंगा।