महायज्ञ को निकाली गई कलश यात्रा, वातावरण हुआ भक्तिमय

0
mahayag

परवेज अख्तर/सिवान : जिले के दरौली के बेलांव में हरिहरात्मक महायज्ञ,गौरी गांव में विष्णु महायज्ञ तथा जीरादेई के भरौली मठ परिसर में गणेश महायज्ञ को ले रविवार को बैंड बाजे एवं हाथी-घोड़े के साथ कलश यात्रा निकाली गई। इसमें काफी संख्या में श्रद्धालुओं ने भाग लिया। इस दौरान जयकारे से वातावरण भक्तिमय हो गया। ज्ञात हो कि दरौली के बेलांव गांव मे हरिहरात्मक महायज्ञ एवं मिश्र के गौरी गांव में विष्णु महायज्ञ के लिए रविवार को कलश सह शोभा यात्रा निकाली गई। दोनों गांवों में महायज्ञ के लिए निकली कलश शोभा यात्रा में दर्जनों गांवों के लगभग 11 हजार महिला-पुरुष, बालक-बालिका श्रद्धालु लाल-पीला वस्त्र धारण कर दरौली सरयू नदी के पंचमंदिर छठ घाट पर पहुंचे जहां अाचार्य गंगाधर शुक्ल एवं आचार्य राधेश्याम पांडेय द्वारा वैदिक मंत्रोच्चार के बीच जल भरा गया। फिर दोनों गांवों के महायज्ञ स्थल पर पहुंचे जहां विधि विधान से महायज्ञ शुरू हो गया। कलश शोभा यात्रा के आगे आगे हाथी-घोड़े, बैंड-बाजा एवं साधु-संतों की टोली चल रहीं थी। श्रद्धालुओं के जयकारे से पूरा वातावरण भक्तिमय हो गया था। विदित हो कि दरौली के बेलांव गांव गंगहरा टोला में नौ दिवसीय हरिहरात्मक महायज्ञ एवं मिश्र के गौरी गांव में सात दिवसीय विष्णु महायज्ञ रविवार से शुरू हुआ, जिसके लिए दोनों गांवों से कलश शोभायात्रा निकाली गई। हरिहरात्मक महायज्ञ समिति के तारकेश्वर मणी तिवारी, भीम मणि तिवारी, कौशल मणि तिवारी, राधेश्याम मणि तिवारी, श्याम बिहारी, रामहंकार राय ने बताया कि विद्वान कथा वाचक आदित्य पांडेय, वृजकिशोर त्रिपाठी द्वारा भगवान की कथा एवं हरिगोविंद महाराज द्वारा रामलीला एवं रासलीला का मंचन किया जाएगा। वहीं जीरादेई के भरौली मठ परिसर से श्रीगणेश महायज्ञ को ने कलश यात्रा निकाली गई। कलश यात्रा परमसंत श्रीरामनारायण दास महाराज के सानिध्य में आयोजित किया गया है। कलश यात्रा मठ परिसर से निकल दरौली सरयू नदी तक पहुंची जहां आचार्य पंडित अरविंद मिश्रा ने वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ जल भरा गया। आचार्य पंडित अरविंद मिश्रा ने बताया कि बसंत पंचमी के अवसर परप्रतिवर्ष यज्ञ देश की शांति व खुशहाली के लिए आयोजित किया जाता है। इस मौके पर पूरे सात दिन प्रवचन, कथा, कीर्तन एवं राम लीला तथा रासलीला के माध्यम से लोगों में पुरुषोत्तम श्रीराम एवं श्रीकृष्ण के जीवन दर्शन की प्रस्तुति की जाएगी। संत रामनारायण दास ने बताया कि यज्ञ भक्तों के द्वारा आयोजित होता है तथा पूरे क्षेत्रीय एवं अन्य प्रदेशों के लोगों का भी काफी योगदान रहता है। यह आयोजन 25 वर्षों से होता आ रहा है। इस मौके पर डॉ. विनोद पांडेय, मुखिया नागेंद्र सिंह, नंदजी चौधरी, कमलवास दुबे, चंद्रमा सिंह, पीयूष सिंह,चंद्रशेखर सिंह, रामेश्वर सिंह सहित काफी संख्या में लोग उपस्थित थे।

अपनी राय दें!

Please enter your comment!
Please enter your name here