महाराजगंज: परिवार का इकलौता कमाऊ सदस्य सिपाही,1 सप्ताह पहले घर से ड्यूटी पर लौटा था, पिता की मौत के बाद घर पर शव का इंतजार कर रहे दो मासूम

0

परवेज अख्तर/सिवान: जिले के एक सिपाही की गोपालगंज में निर्मम तरीके से हत्या कर दी गई। जिसका शव गुरुवार की अहले सुबह नगर थाना क्षेत्र के पुलिस लाइन के पीछे एक नाले से बरामद हुआ। वह पिछले तीन दिनों से पुलिस लाइन से गायब था।जिसमें पुलिस मेंस एसोसिएशन द्वारा गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी। इधर उसकी मृत्यु होने की जानकारी जैसे ही परिवार के लोगों को हुई चित्रकार से पूरा इलाका गमगीन होता उठा। मृतक परिवार का इकलौता कमाऊ सदस्य था। पिता गांव पर ही खेती बाड़ी का काम करते हैं। मृतक अपने दो भाइयों में दूसरे नंबर पर था कुछ साल पहले बड़े भाई की एक बीमारी से मृत्यु हो गई थी।

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

WhatsApp Image 2022 07 28 at 9.02.07 PM 1

सात रोज पहले परिवार से मिलने आया था

WhatsApp Image 2022 07 28 at 9.02.07 PM

महाराजगंज थाना क्षेत्र के जगदीशपुर गांव के रहने वाले नंदकिशोर सिंह का 32 वर्षीय पुत्र अजित कुमार सिंह 7 रोज पहले अपने घर आया था। यहां से जाने के बाद 4 दिनों से उससे बात नहीं हो पा रही थी। परिवार के लोगों का कहना है कि उसके नंबर पर लगातार रिंग हो रही थी लेकिन वह फोन नहीं उठा रहा था। आज उसकी मृत्यु की खबर सुनते ही पूरे परिवार में कोहराम मच गया।

2008 में हुई थी सिपाही अजीत की शादी।

सीवान जिले के भगवानपुर हाट थाना क्षेत्र के सरहरी गांव निवासी कुँवर सिंह की पुत्री रिंकू कुमारी की शादी अजीत कुमार सिंह के साथ 2008 में हिंदू रीति रिवाज में हुआ था। मृतक के दो छोटे-छोटे मासूम बच्चे है पहला बच्चा 7 वर्षीय उज्जवल कुमार तो दूसरा बच्चा 11 वर्षीय रोशन कुमार है। अचानक पिता की मृत्यु होने के बाद दोनों दोनों बच्चे मां और परिवार के लोगों के चेहरे नहीं रखते हुए पापा के याद कर रोने लगते हैं।

कलेजे के टुकड़े के लिए दहाड़ मार रो रही माँ

परिवार का इकलौता कमाऊ सदस्य सिपाही बेटे की मृत्यु की जानकारी के बाद मृतक की मां सुशीला देवी दहाड़ मारकर रो रही है। परिवार के लोगों का कहना है कि जिला पुलिस लाइन से उनके पिता नंदकिशोर सिंह को जानकारी मिली कि आपके बेटे की तबीयत खराब है आप फौरन गोपालगंज पुलिस लाइन चले आइए। इतना ही नहीं घरवालों को इसकी जानकारी नहीं देने की बात कही गई। जानकारी के बाद ब्याकुल पिता गोपालगंज पहुंचा तब जाकर उसको मामले की जानकारी हुई। मृतक गोपालगंज पुलिस लाइन में जिला पुलिस बल में तैनाती था। करीब 7 साल पहले उसकी सिपाही में नौकरी लगी थी।