अब निजी लैब में 800 रूपये में होगी कोविड-19 की आरटी-पीसीआर जांच, विभाग निर्धारित किया अधिकतम मूल्य

0
  • पहले देने होते थे 15 सौ रूपये
  • एंटीजन टेस्ट के लिए 250 रुपये अधिकतम मूल्य निर्धारित
  • आईसीएमआर के द्वारा के अनुमति प्राप्त लैब में होगा टेस्ट
  • आइसीएमआर के पोर्टल पर डालना होगा टेस्ट रिपोर्ट

गोपालगंज: प्राइवेट लैब कोविड-19 की पुष्टि के लिए किए जाने वाले आरटीपीसीआर टेस्ट के अब ज्यादा से ज्यादा आठ सौ रुपये ले सकेंगे। वहीं रैपिड एंटीजन टेस्ट के लिए अधिकतम शुल्क 250 रुपये निर्धारित किया गया है। स्वास्थ्य विभाग ने इस संबंध में आदेश भी जारी कर दिए हैं। कोरोना के मामले बढ़ने के बाद भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आइसीएमआर) ने कोविड-19 के परीक्षण के लिए निजी क्षेत्र की प्रयोगशालाओं को जांच की अनुमति दी थी। पूर्व में आरटीपीसीआर टेस्ट के लिए 15 सौ रुपये की दर निर्धारित की गई थी। स्वास्थ्य विभाग ने अपने आदेश में कहा है कि अन्य राज्यों ने आरटीपीसीआर टेस्ट के शुल्क में कमी की गई है। इस वजह से बिहार में भी नई दरें प्रभावी की गई है। प्राइवेट लैब मरीज से अधिकतम आठ सौ रुपये लेंगे। यदि लैब मरीज के निवास स्थान से सैंपल लेते हैं तो मरीजों को अतिरिक्त 300 रुपये देने होंगे।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
a1
ads
WhatsApp Image 2020-11-09 at 10.34.22 PM
Webp.net-compress-image
a2

एंटीजन टेस्ट को देने होंगे 250 रुपये

रैपिड एंटीजन टेस्ट किट की कीमत 150 रुपये से कम हो गई है। इस वजह से रैपिड एंटीजन किट पर जांच की निर्धारित दर 250 रुपये निर्धारित की गई है।

आइसीएमआर के पोर्टल पर डालना होगा टेस्ट रिपोर्ट

विभाग ने आदेश में कहा है कि टेस्ट होने के बाद लैब के लिए टेस्ट रिपोर्ट आइसीएमआर के पोर्टल पर दर्ज करना अनिवार्य होगा। जिस भी व्यक्ति की रिपोर्ट टेस्ट में पॉजिटिव आती है, उस व्यक्ति की सूचना लैब संबंधित जिले के सिविल सर्जन के साथ ही जिला सर्विलांस अफसर को भी देंगे। विभाग ने आदेश में हिदायत देते हुए कहा है कि यदि कोई लैब आठ सौ रुपये से ज्यादा टेस्ट के एवज में लेता है तो एपिडेमिक डिजीज एक्ट में किए गए प्रावधानों और बिहार महामारी कोविड-19 विनियमावली 2020 के प्रावधानों का उल्लंघन माना जाएगा।

कोविड अनुरूप व्यवहारों का पालन ही संक्रमण से बचाव

  • व्यक्तिगत स्वच्छता और 6 फीट की शारीरिक दूरी बनाए रखें.
  • बार-बार हाथ धोने की आदत डालें.
  • साबुन और पानी से हाथ धोएं या अल्कोहल आधारित हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें.
  • छींकते और खांसते समय अपनी नाक और मुंह को रूमाल या टिशू से ढंके.
  • उपयोग किए गए टिशू को उपयोग के तुरंत बाद बंद डिब्बे में फेंके.
  • घर से निकलते समय मास्क का इस्तेमाल जरूर करें.
  • बातचीत के दौरान फ्लू जैसे लक्षण वाले व्यक्तियों से कम से कम 6 फीट की दूरी बनाए रखें.
  • आंख, नाक एवं मुंह को छूने से बचें.
  • मास्क को बार-बार छूने से बचें एवं मास्क को मुँह से हटाकर चेहरे के ऊपर-नीचे न करें
  • किसी बाहरी व्यक्ति से मिलने या बात-चीत करने के दौरान यह जरूर सुनिश्चित करें कि दोनों मास्क पहने हों
  • कहीं नयी जगह जाने पर सतहों या किसी चीज को छूने से परहेज करें
  • बाहर से घर लौटने पर हाथों के साथ शरीर के खुले अंगों को साबुन एवं पानी से अच्छी तरह साफ करें