मृतकों के आश्रितों को मुआवजा देने के वजाय लीपापोती करने में लगे अधिकारी, पूर्व मंत्री

0
muavja

परवेज अख्तर/सीवान:- दशहरा पूजा के जुलूस के दौरान रघुनाथपुर थाना क्षेत्र के मिर्जापुर गांव में ग्यारह हजार वोल्ट की चपेट में आने से तीन लोगों की मौत हो गई थी। जबकि इस घटना में सात लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे। इस घटना को लेकर माझी विधायक विजय शंकर दुबे ने उत्तर बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी के प्रबंधन निदेशक को पत्र लिखकर यथाशीघ्र मुआवजा देने की मांग की है । इस संबंध में आज पत्रकारों से बात करते हुए पूर्व मंत्री एवं विधायक श्री दुबे ने कहा है कि मिर्जापुर गांव के सैकड़ों युवक प्रतिमा विसर्जन के दौरान जुलूस निकाल कर नरहन घाट लेकर जा रहे थे। इसी बीच ग्यारह हजार वोल्ट की चपेट में आने से रघुनाथपुर थाना क्षेत्र के मिर्जापुर गांव के योगेंद्र साह का पुत्र प्रदीप साह, सतन तूरहा का पुत्र मुकेश तुरहा व एमएच नगर थाना क्षेत्र के सिसवा कला गांव के मोहर्रम बैठा का पुत्र मुन्ना बैठा की मौत हो गयी थी। सभी मृतकों के आश्रितों को बिजली कंपनी द्वारा चार – चार लाख रुपए तथा इस घटना में घायलों को उचित इलाज के लिए एक – एक लाख रूपए मुआवजा देने की मांग की है। उन्होंने कहा कि विभागीय लापरवाही की वजह से घटना के एक माह बीतने के बाद भी मृतकों के आश्रितों को मुआवजा देने के वजाय विभागीय अधिकारी इस मामले में लीपापोती करने में लगे हुए हैं। वहीं जिला प्रशासन के अधिकारी कान में तेल डालकर सोए हुए हैं। विधायक ने कहा कि दशहरा पूजा शुरू होने से पूर्व अनुमंडल पदाधिकारी सीवान को आवेदन देकर सड़क पर लटके ग्यारह हजार वोल्ट के तार के ऊपर कराने तथा विद्युत आपूर्ति बाधित रखने के संबंध में विभाग को अवगत कराया था। इसके बावजूद विभागीय कार्रवाई नहीं होने से घटना घटित हुई। जिससे जिला प्रशासन की नाकामी प्रदर्शित हो रही है। इस दौरान युवा नेता सत्यम दुबे ने कहा कि बिजली कंपनी की लापरवाही से यह दुर्घटना हुई है। इस मामले में मृतकों के आश्रितों को यथाशीघ्र मुआवजा नहीं मिला तो जल्द ही कोर्ट का दरवाजा खटखटाने से पीछे नहीं हटेंगे। मुआवजा नहीं मिलने से विभाग के प्रति परिजनों व स्थानीय लोगों में आक्रोश है।