बैक्टीरिया, वायरस व फंगल बीमारियों से बच्चों को बचाएगा पीसीवी वैक्सीन : प्रभारी डीएम

0

परवेज अख्तर/सिवान: अब सरकारी अस्पतालों में निमोनिया से बचाव के लिए न्यूमोकोकल कंजुगेट वैक्सीन का शुभांरभ शुक्रवार को सदर अस्पताल के आइसीयू परिसर में प्रभारी जिलाधिकारी विधुभूषण चौधरी ने बच्चों को खुराक पिलाकर किया। प्रभारी जिलाधिकारी ने बताया कि न्यूमोकोकल कंजुगेट वैक्सीन से पांच वर्ष तक बच्चों की मृत्यु दर में काफी कमी आएगी। यह नया वैक्सीन नहीं है 141 देश में इस वैक्सीन का उपयोग किया जा रहा है। भारत में 2005 से ही पीसीवी निजी अस्पतालों में बच्चों को दिया जा रहा है। वहीं सिविल सर्जन शिवचद्रं झा ने बताया कि भारत में पीसीवी वैक्सीन की शुरुआत तीन राज्यों के 35 जिलों में हो गया है जिसमें बिहार के 17 जिले,उत्तर प्रदेश 6, एवं हिमाचल प्रदेश के 12 जिले शामिल किए गए थे। दुनिया में प्रतिवर्ष दस लाख बच्चे जो पांच साल से कम के हैं उनकी मौत हो रही है। उसमें 16 प्रतिशत सिर्फ न्यूमोनिया के कारण हैं। जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. प्रमोद कुमार पांडेय ने बताया कि भारत में दो तरह का पीसीवी उपलब्ध है पीसीवी 10 और पीसीवी 13। हमलोग को नियमित टीकाकरण में पीसीवी 13 का ही उपयोग करना है। इसका अभी तक कोई विपरीत परिणाम रिपोर्ट नहीं है। यह एक महंगा टीका है। यह टीका तीन डोज में दिया जाएगा। पहला डोज डेढ़ माह, दूसरा डोज साढ़े तीन माह और तीसरा टीका नौ माह पर लगाया जाएगा। तीनों टीका सरकारी अस्पतालों में निश्शुल्क लगाएं जाएंगे बाजार में यह टीका काफी महंगा मिलता है। मौके पर डीपीएम ठाकुर विश्वमोहन, उपाधीक्षक डॉ एम के आलम, एसएमओ डॉ. सुबीन सुब्रमनियम, अकाउंटेंट शत्रुघ्न ठाकुर, अशोक कुमार शर्मा, आदि अस्पताल के अधिकारी एवं कर्मी मौजूद थे।
भगवानपुर हाट में प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. अनिल कुमार ने शिशुओं को टीका दे अभियान का आगाज किया। अभियान का शुभारंभ डॉ. कुमार ने फीता काट किया। उद्घाटन के बाद उन्होंने बताया कि निमोनिया एक खतरनाक बीमारी है। इससे सबसे अधिक शिशुओं के मृत्यु दर काफी बढ़ा हुआ था, लेकिन अब इस बीमारी को टीका पीसीवी नामक वैक्सीन से रोक लगा शिशुओं के मृत्यु दर में हो रही बेतहासा वृद्धि पर रोक लगाने का काम किया जाएगा। उन्होंने कहा कि न्यूमोकोक्स बैक्टेरिया निमोनिया नामक रोग का मुख्य कारण है। यह टीका डेढ़ माह, साढ़े तीन माह एवं नौ माह पर तीन बार में दिया जाता है। अब तक यह महंगी टीका प्राइवेट अस्पतालों में चिकित्सकों के पास हुआ करता था, जिसे भारत सरकार ने नियमित टीकाकरण के तहत मुफ़्त में उपलब्ध करा रही है। उन्होंने बताया यह टीका प्रथम चरण में बिहार प्रदेश के 17 जिलों में आज शुरू हुआ है, जिसमें सिवान जिला भी शामिल है। इस अवसर पर डॉ. पंकज कुमार,डॉ. विधु शेखर, स्वास्थ्य कर्मी सुमित कुमार, एएनएम रंजू देवी,कमलावती देवी आदि उपस्थित थे। बसंतपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में शुक्रवारको निमोनिया और दिमागी बुखार से बच्चों को बचाव करनेवाला निमोकोकल वैक्सिन का उद्घाटन प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. सोनेलाल राय ने किया। इस मौके पर यूनिसेफ के वकील अहमद, स्वास्थ्य प्रबंधक विनोद कुमार सिंह,पद्मावती कुमारी, पुष्पा कुमारी, चंदन कुमार, उपेंद्र मालाकार, लालबाबू ठाकुर, मुन्ना कुमार आदि कर्मी मौजूद थे।
पचरुखी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में पीवीसी वैक्सीन का उद्घाटन बीडीओ डॉ. इस्माइल अंसारी एवं प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी सुरेंद्र प्रसाद ने किया। इस मौके पर अरुण कुमार,आलोक कुमार, मुन्ना कुमार, स्वास्थ्य प्रबंधक, एएनएम समेत अन्य स्वास्थ्य कर्मी उपस्थित थे।[sg_popup id=”5″ event=”onload”][/sg_popup]

Loading...