पानी सप्लाई करने वाली वैन के धक्के से मासूम की मौत

0
bachhe ki maut

परवेज अख्तर/सिवान : शहर के कचहरी रोड स्थित जिला परिषद कैंपस में शनिवार की सुबह कार्यालय में मिनरल वाटर सप्लाई करने वाले एक वैन के धक्के से सात वर्षीय मासूम की मौत इलाज के क्रम में सदर अस्पताल में हो गई। इसके बाद आक्रोशितों ने मासूम के शव को एसडीओ कार्यालय के सामने बीच सड़क पर रख कर आवागमन को बाधित करते हुए दो घंटे तक प्रदर्शन किया। इसके बाद आक्रोशितों ने जिला परिषद के मुख्य द्वार को तोड़ कर क्षतिग्रस्त कर दिया। सड़क जाम की सूचना मिलते ही एसडीओ अमन समीर और एएसपी कांतेश मिश्रा मौके पर पहुंचे और आक्रोशितों को समझा बुझा कर मामले को शांत कराया और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेजा। वहीं सदर बीडीओ बसंत कुमार सिंह द्वारा तत्काल मृत बच्चे के परिजनों को मुख्यमंत्री परिवार लाभ योजना के तहत 20 हजार रुपये का चेक दिया। मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए शीतल जल मिनरल वाटर के संचालक और ड्राइवर पर मामला नगर थाना में दर्ज किया गया। वहीं पुलिस ने मामले में नामजद प्राथमिकी नहीं की है। ऐसे में दोषियों पर कार्रवाई करने में दिक्कतें आएंगी क्योंकि शीतल जल के नाम से शहर में कई मिनरल वाटर वाले हैं। मृत मासूम शंभू बांसफोड़ का पुत्र रंजय कुमार बताया जाता है। मृतक का पिता नगर परिषद में सफाई कर्मचारी है। मामले में बताया जाता है कि शनिवार की सुबह जिला परिषद कैंपस के अंदर बच्चा खेल रहा था और यहां कैंपस में शीतल मिनरल वाटर की गाड़ी लगी थी। गाड़ी ले जाने के क्रम में बच्चा कैंपस के अंदर स्थित मत्स्य विभाग के कार्यालय के समीप चपेट में आ गया। धक्के के दौरान उसके सिर में गंभीर चोट लग गई। इधर घटना के बाद गाड़ी चालक गाड़ी लेकर फरार हो गया। वहीं घायल को इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। इसके बाद आक्रोशित परिजनों ने बच्चे के शव को कचहरी दुर्गा मंदिर रोड में एसडीओ कार्यालय के सामने लाकर बीच में रख दिया और आवागमन बाधित कर प्रदर्शन शुरू कर दिया।

sadak jaam

सड़क जाम के कारण कचहरी होकर लोगों ने किया आना जाना

सड़क जाम कर प्रदर्शन कर रहे लोगों की संख्या अधिक देख लोगों ने कचहरी होकर ही आना जाना मुनासिब समझा। इस कारण कचहरी रोड में कुछ देर के लिए जाम की स्थिति उत्पन्न हो गई थी। सूचना पाकर पहुंचे जनप्रतिनिधियों को झेलना पड़ा आक्रोश आक्रोशितों को समझाने पहुंची पुलिस की टीम के साथ जनप्रतिनिधि भी पहुंचे थे। लेकिन उन्हें आक्रोशितों का आक्रोश झेलना पड़ा। इसके बाद सदर विधायक भी वहां से अपने आप को असहज समझते हुए वहां से निकल गए।

सूचना पाकर पहुंची महादेवा, मुफ्फसिल और नगर थाना

मौत की सूचना के बाद नगर थाना, महादेवा ओपी और मुफ्फसिल के थानाध्यक्ष दलबल के साथ घटनास्थल पहुंचे और सड़क जाम किए हुए लोगों को समझा बुझा कर जाम हटवाया। जाम के कारण करीब दो घंटे तक आवागमन बाधित रहा।

वैन चालक समझ युवक को पीटा, पूछताछ बाद छोड़ा

मिनरल वाटर के धक्के से मासूम की मौत के बाद आक्रोशित लोगों ने मत्स्य विभाग के एक कर्मी को मिनरल वाटर गाड़ी का चालक समझ कर उसकी जमकर पिटाई कर दी। इसी बीच उत्पाद विभाग के गार्ड ने उसे बचाकर नगर थाना के हवाले कर दिया। मामले में नगर थाना इंस्पेक्टर सुबोध कुमार ने बताया कि जिसे लोगों ने गाड़ी का चालक समझा वह मत्स्य विभाग में चपरासी है। मनीष श्रीवास्तव को पूछताछ के बाद देर शाम छोड़ दिया गया।

Loading...