पूजा अर्चना के साथ लोगों ने कि नए वर्ष की शुरुआत

0
  • पिकनिक स्पॉट ऑफ होते नहीं 9 वर्ष की धूम
  • जिले के विभिन्न मंदिरों में जाकर लोगों ने टेका माथा, मांगा आशीष

परवेज अख्तर/सिवान:
गुरुवार की सुबह हल्की ठंड के बीच नूतन वर्ष 2021 का आगमन हो गया. दिनभर लोगों सूर्य देवता का दर्शन होता रहा. पछुआ हवा की कनकनी हावी रही. नये साल का पहले दिन लोगों धूप का आनंद उठाते रहे. हालांकि गुरुवार की रात जैसे ही घड़ी की सूई 12 पर गयी, लोगों ने इस खुशी का इजहार अपने-अपने तरीके से करना शुरू कर दिया था . पटाखे की आवाज से शहर गूंज उठा. लोग जगकर सड़क पर इस सेलिब्रेशन को देखने निकल पड़े. जिला मुख्यालय सहित विभिन्न प्रखंडों में नये वर्ष का स्वागत किया गया. युवा हो या बच्चे सभी नव वर्ष के जश्न में डूब गये. नव वर्ष 2021 के स्वागत व न्यू इयर सेलिब्रेशन में शामिल होने के लिए सभी वर्ग के लोग सुबह से तैयार थे. युवाओं की टोली पिकनिक स्पॉट की और जाना पसंद किया तो बूढ़े बुजुर्ग व महिला का रूख धर्म स्थलों की और था, छोटे छोटे स्कूली बच्चों ने न्यू इयर सेलिब्रेशन में बड़ों को काफी पीछे छोड़ दिया है .

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

सुबह से मंदिर में रही श्रद्धालुओं की भीड़

नव वर्ष के अवसर पर शुक्रवार को सुबह से ही शहरी एवं देहाती क्षेत्रों के मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ जुटने लगी. दुर्गा मंदिर, हनुमान पमंदिर, काली मंदिर, यमुनागढ़ मंदिर, महेन्द्रनाथ धाम, सोहागरा धाम, संतोषी माता मंदिर, सहित शहर के विभिन्न मंदिरों में महिलाओं एवं पुरूषों की भारी भीड़ रही. वहीं देहाती क्षेत्रों के मंदिरों में भी श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रही.

पूजा सामाग्रियों की दुकानों पर लगी रही भीड़

दुर्गा मंदिर परिसर में पूजा सामग्री विक्रेताओं की बल्ले – बल्ले रही . सुबह से ही उनकी दुकानों से श्रद्धालुओं की भीड़ हट ही नहीं रही थी.पहली जनवरी को लेकर दुकानदारों की खास तैयारी होती हैं.सुबह दो बजे से ही आस – पास के क्षेत्रों में फूल तोड़ने का सिलसिलाशुरू हो जाता है और तीन बजने के साथ ही उनकी दुकानें सजने लगती हैं .

एक दिन पहले से जारी रहा बधाई देने का सिलसिला

guldasta

वर्ष बीतने का एहसास और नये साल के स्वागत के मौके पर गुरुवार को अग्रिम बधाई और देर रात से जो एक दूसरे को बधाई देने का सिलसिला शुरू हुआ, वह शुक्रवार को भी जारी रहा, मोबाइल की घंटिया घनघनाती रही, जबकि वहाट्सएप पर संदेशों का आदान – प्रदान जारी रहा . वीडियो कॉलिंग के द्वारा लोगों ने अपनों से रूबरू होकर दूरी के एहसास को मिटाने की कोशिश की, गांव से लेकर शहर तक की गलियां नववर्ष की मस्ती में सराबोर रहे. संदेश साफ था, जो बीत चुका है, उसे भूला कर नये वर्ष का नयी उम्मीद के साथ स्वागत किया जाये . कुल मिला कर नया वर्ष हर दिल में उम्मीद और तरंग जगा गया .

रईसजादे नशेड़ी व बाइक रेसर के गायब रहने से लोगों को मिला सुकून

शराब बंदी के का अच्छा असर ये देखने को मिला कि नशे में पार्क एवं सड़कों पर घूमने वाले रइशजादे इस बार कहीं नजर नहीं आये . यह शराबबंदी का असर ही था कि महिलाएं , युवतियां और बच्चे खुल कर नववर्ष का जश्न मनाते दिखे . न सड़कों पर बाइक रेसर दिखे और न ही उचक्के नजर आये . हर तरफ शांत वातावरण और उल्लास के साथ बिंदास खुशियों का नजारा था . हालांकि हर जगह पुलिस की चौकस व्यवस्था थी , लेकिन भय का साया गायब था . शहर की सड़कें सूनी रही और बाजार भी बंद रहा . दरअसल बुधवार को नये वर्ष की मस्ती ने एक जनवरी को पूरी तरह संडे में तब्दील कर दिया .

अघोषित बंद रहा कार्यालय, सूनी रहीं सड़कें

नव वर्ष के प्रथम दिन सरकारी कार्यालय खुला रहने के बावजूद अघोषित बंदी की तरह रहा . सरकारी कार्यालय तो खुले रहे पर उसमें उपस्थिति काफी कम देखी गया . समाहरणालय , उपविकास आयुक्त कार्यालय , सदर अनुमंडल कार्यालय सहित अन्य कार्यालयों में काफी कम संख्या में कर्मी व अधिकारी मौजूद थे . समाहरणालय में जहां सामान्य दिनों में पूरा समाहरणालय परिसर दो पहिए एवं चार पहिए वाहनों से भरा रहता है . वहीं नव वर्ष के पहले दिन समाहरणालय में दिन के एक बजे एक भी चार पहिया एवं दो पहिया वाहन नहीं दिख रहा था . कमो वेशयही हाल सड़कों पर भी था .

बुके व गुलाब की रही डिमांड

साल के पहले दिन फूल के दुकानों पर अपनों को विश करने के लिए बुके व गुलाब का अधिक डिमांड रहा . इसको देखते हुए फूल व्यवसायी नववर्ष को लेकर पहले से ही स्टॉक रख लिया था . नगर के जेपी चौक , कचहरी रोड में दुकाने सजे थे .

रेस्टोरेंट में लोगों की भीड़

शहर में पिकनिक स्पॉट का कम जगह होने की वजह से लोगों का झुकाव रेस्टोरेंट की तरफ अधिक था.युवक , युवतियों का जत्था रेस्टोरेंट में पहुंच रहा था.सुबह से शुरु हुआ सिलसिला देर रात तक चलता रहा .

मटन व चिकन की दुकानों पर रही भीड़

नववर्ष के प्रथम दिन मटन व चिकन के दुकानों में सुबह से भीड़ रही . नये साल पर नॉनवेज खाने व खिलाने का प्रचलन पहले से ही है . हालांकि कई लोग इससे दूरी बनाये रखे . पनीर का डिमांड भी रहा .

लोगों ने किया डांस व मस्ती

नये वर्ष का युवाओं ने म्यूजिक सिस्टम के साथ डांसव मस्ती कर किया.रात बारह बजते ही लोगों ने एक दूसरे को न्यू इयर की बधाई देना शुरू कर दिया. पटाखे भी छोड़े गये .

बच्चे पिकनिक मनाने में रहे मस्त

नये साल के स्वागत में बच्चे एवं युवा विभिन्न जगहों पर पिकनिक मनाने में मस्त दिखे. वे सड़कों पर डीजे की धुन पर थिरकते दिखे. वहीं विभिन्न पिकनिक स्थलों पर विभिन्न प्रकार के व्यंजन बना एक साथ भोजन किया .

सरयू की रेत पर भी मना पिकनिक

नये वर्ष पर लोग सरयू नदी के तट पर पिकनिक मनाते नजर आये. लोग दोस्त व परिवार के साथ यहां पहुंच एक साथ भोजन बनाया और स्वादिष्ट व्यंजनों का लुप्त उठाया. रघुनाथपुर, सिसवन वदरौली में सरयू नदी किनारे रेत पर लोग नये वर्ष का जश्न मनाते नजर आये. नदी के तट पर लोग सेल्फी भी लिया.