सिवान के बड़हरिया में हुई दीनानाथ सोनार हत्याकांड को लेकर हवा में तीर चला रही है पुलिस, 24 घंटे बीत जाने के बाद भी सफलता नहीं

0

परवेज अख्तर/सिवान: इन दिनों सिवान जिले के बड़हरिया क्षेत्र में बढ़ रही लगातार आपराधिक घटनाओं से लोग दहशत के साए में जीने को मजबूर हैं।पहले चोरी की घटनाएं से लोग दहशत में जी रहे थे।अभी उससे निजात नहीं पाया गया की तब तक अपराधिक घटनाएं शुरू हो गई।यहां बहुत दिनों से आपराधिक घटनाएं थम सी गई थी,लेकिन इधर फिर अपराधिक घटनाएं अपने उरुज पर देखा जा रहा है।जिससे आम से लेकर खास तक के लोगों में भय का माहौल कायम है।मंगलवार की शाम एक आभूषण व्यापारी को बड़हरिया जामो मुख्यालय पर अवस्थित एक्सिस बैंक के सामने गोली मार दी गई, जिससे व्यापारी सदीद तौर पर जख्मी हो गया।

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

जिसे आनन-फानन में ग्रामीणों द्वारा अस्पताल ले जाया गया।जहां गंभीर स्थिति को देखते हुए डॉक्टरों ने उसे बेहतर इलाज के लिए सिवान सदर अस्पताल रेफर कर दिया।अभी घायल अवस्था में उसे बेहतर इलाज के लिए सिवान ले जाया जा रहा था की तब तक रास्ते में ही उसकी मौत हो गई।मिली जानकारी के अनुसार आभूषण व्यापारी दिनानाथ सोनार जो मुफस्सिल थाना क्षेत्र के बलेथा गांव का रहने वाला था।वह अपनी बेटी की शादी बड़हरिया मुख्यालय में हीं किया हुआ था।ज्ञात हो कि मृतक दीनानाथ सोनार अपने बेटी से मिलने और एक बारात करने हेतु  दीनानाथ सोनार बड़हरिया आया हुआ था। इसी बीच बड़हरिया जामो मुख्य मार्ग पर एक्सिस बैंक के सामने जब वह टहलते हुए पहुंचा तब तक एक बाइक पर सवार तीन अपराधियों ने पीछे से उसके सिर में गोली मार दी, जिससे दीनानाथ सोनार गंभीर रूप से घायल हो गया।

स्थानीय चिकित्सकों ने गंभीर स्थिति में उसे बेहतर इलाज के लिए सिवान सदर अस्पताल रेफर किया था।मिली जानकारी के अनुसार अभी तक इस संबंध में थाने में आवेदन नहीं दिया गया है। पुलिस इस घटना को परिवारिक मामले से जोड़कर अनुसंधान प्रारंभ कर दी है।क्योंकि कुछ वर्ष पहले दीनानाथ सोनार के बेटे की भी हत्या जिला मुख्यालय में कर दी गई थी।जिसको लेकर अनुसंधान में गंभीर स्थिति बनी हुई है।हालांकि बड़हरिया पुलिस सीसीटीवी फुटेज को खंगाल रही है और अपराधियों को करीब तक पहुंचने के लिए प्रयास कर रही है,लेकिन 24 घंटे बीत जाने के बाद भी पुलिस अपराधियों के गिरेबान तक पहुंचने में नाकाम साबित है।