सिवान में भवन प्रमंडल कार्यालय परिसर में आग से लाखों की संपत्ति राख, मौके पर पहुंचे डीएम व एसपी

0

परवेज़ अख्तर/सिवान:
शहर के खुरमाबाद स्थित टाउन हाल के समीप भवन प्रमंडल कार्यालय परिसर में शनिवार की सुबह भीषण आग लग गई। सूचना पर फायर ब्रिगेड की छह गाड़ियां मौके पर पहुंचीं और आग बुझाने में जुट गईं। वहीं आग की लपटें और काला धुआं देख जिलाधिकारी अमित कुमार पांडेय और एसपी अभिनव कुमार भी मौके पर पहुंच गए और स्थिति का जायजा लिया। करीब तीन घंटे से भी ज्यादा की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका। खबर प्रेषण तक अगलगी के कारणों का पता नहीं चल पाया था। वहीं अगलगी में लाखों रुपये की संपत्ति के नुकसान की बात कही जा रही थी। आग की लपटों को देख भवन प्रमंडल के कर्मियों ने आनन-फानन में कार्यालय के अंदर रखे जरूरी कागजात व अन्य सामान को हटाने का काम शुरू कर दिया था। कर्मियों ने कार्यालय के अंदर रखीं अलमीरा को बाहर निकाला ताकि विभाग को अत्यधिक क्षति ना हो। जानकारी के अनुसार शनिवार को भवन कार्यालय के पीछे वाले भाग में रखे गए पाइप व कबाड़ में अचानक आग लग गई।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

लोगों ने धुआं निकलते देखा। जब तक कोई कुछ समझ पाता तब तक आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। धीरे-धीरे आग पूरे परिसर में फैलने लगी थी। आग लगने से हड़कंप मच गया। पूरे इलाके में अफरातफरी का माहौल कायम हो गया। सूचना मिलते ही फायर ब्रिगेड की छह गाड़ियां मौके पर पहुंची और आग बुझाने के कार्य में जुट गईं। तीन घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया गया। अगलगी की सूचना पाकर सदर एसडीओ रामबाबू बैठा, डीएसपी संजीव कांत, जिला समादेष्टा ममता कुमारी, जिला भू-अर्जन पदाधिकारी संजीव कुमार, जिला सांख्यिकी पदाधिकारी सह डीपीआरओ रवि रंजन राकेश, अपर अनुमंडल पदाधिकारी अभिषेक चंदन, कार्यपालक पदाधिकारी कपिलदेव कुमार, टाउन इंस्पेक्टर जयप्रकाश पड़ित, मुफस्सिल थानाध्यक्ष ददन सिंह समेत अन्य पदाधिकारी पहुंचकर फायर ब्रिगेड कर्मियों को आग पर काबू पाने के लिए निर्देश दे रहे थे। बता दें कि घटनास्थल की एक तरफ जहां टाउन हॉल स्थित है, वहीं दूसरी ओर पुलिस अधीक्षक अभिनव कुमार, सदर एसडीओ रामबाबू बैठा व जिला जज मनोज शंकर का आवास तथा गंडक विभाग का अतिथि गृह भी है।

घटनास्थल पर पहुंची दमकल में आई खराबी

अगलगी की सूचना पाकर जब मौके पर अग्निशमन वाहन पहुंचा तो उसमें खराबी आ गई। इस दौरान वहां मौजूद पुलिस के जवानों व स्थानीय लोगों की मदद से गाड़ी को धक्का देकर चालू कराया गया, इसके बाद ही उक्त वाहन से काम लिया जा सका।