रघुनाथपुर: चंदौली डकैती कांड का खुलासा, तीन डकैत धराए

0
  • डकैती की इस घटना में शामिल तीन अपराधी भेजे गए जेल
  • डकैती के दौरान अपराधियों ने गृहस्वामी को मारी थी गोली

परवेज अख्तर/सिवान: जिले के रघुनाथपुर थाना क्षेत्र के चंदौली गांव में हुई डकैती की घटना का रघुनाथपुर पुलिस ने भंडाफोड़ कर दिया है। पुलिस ने इस घटना में शामिल तीन अपराधियों को भी गिरफ्तार किया है। इनसे पूछताछ करने के बाद पुलिस ने जेल भेज दिया है। 20 दिन पहले 8 जनवरी को राज मिस्त्री का काम करने वाले मनन चौहान के घर डकैतों द्वारा लूटपाट की गयी थी। घटना का विरोध करने पर गृहस्वामी को गोली मारकर घायल कर दिया था। घटना में गृहस्वामी की बेटी भी गंभीर रूप से घायल हो गयी थी। पिता को गोली मारे जाने की घटना पर बेटी ने इस विरोध किया था। जिसपर अपराधियों ने रॉड से उसके सिर पर वार करके घायल कर दिया था। घटना के अगले दिन से ही सक्रिय रही पुलिस ने थाना क्षेत्र के भूसी टोला के 3 डकैतों को गिरफ्तार कर उसे जेल भेज दिया। बताते चलें कि 7 अज्ञात डकैतों के विरूद्ध गृहस्वामी ने रघुनाथपुर थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी थी। प्रशिक्षु डीएसपी विवेक कुमार शर्मा ने बताया कि सबसे पहले गुरुवार को थाना क्षेत्र के भूसी टोला निवासी चन्द्रिका यादव को गिरफ्तार किया गया था। आरोपित से पूरी गहनता से पूछताछ हुई तो डकैती कांड खुलासा हो सका। चंद्रिका यादव के निशानदेही पर दो और अपराधियों की गिरफ्तारी की गई। हालांकि, इस घटना में शामिल अन्य अपराधी फरार हैं। उनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस संभावित ठिकानों पर छापेमारी कर रही है।

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

तीन लाख की संपति लूट लिए थे डकैत

चंदौली गांव के मनन चौहान के घर में हुई इस घटना में डकैत 60 हजार की नगदी समेत 3 लाख की संपति लूट ले गए थे। लूट कर ले जा रहे संपित को डकैतों से छिनने के प्रयास में गृहस्वामी को गोली मार दी गयी थी। बेटी रिंकी कुमारी भी डकैतों भिड़ गयी थी। इस घटना में घायल मनन चौहान की स्थानीय लोगों ने चंदा इकठ्ठा करके इलाज करवाया। घटना के अगले दिन डकैतों की गिरफ्तारी के लिए खोजी कुत्ता की मदद ली गयी। हालांकि, पुलिस डकैतों को पकड़ पाने में पूरी तरह से असफल रही। लेकिन, पुलिस ने हार नहीं मानी और प्रभारी थानाध्यक्ष दयानंद ओझा के नेतृत्व में इस घटना का पर्दाफाश करने में लगी रही। नतीजा हुआ कि 3 डकैत गिरफ्तार कर लिए गए।