गोरेयाकोठी बाजार में निकली गई राम-जानकी की बारात

0
  • आस्था व उल्लास के साथ गांवों का किया भ्रमण
  • 1936 से निकाली जाती है राम-जानकी की बारात

परवेज अख्तर/सिवान: जिले के गोरेयाकोठी प्रखंड के गोरेयाकोठी बाजार में बुधवार को भगवान श्रीराम की बारात निकाली गई। प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी राम-जानकी विवाह का आयोजन किया गया। बारात पूरे आस्था व उल्लास के साथ गांवों का भ्रमण किया। बारात में श्रीराम के अनुज लक्ष्मण व हनुमान एक ही रथ पर सवार होकर जनक दुलारी सीता से विवाह रचाने के लिए रवाना हो गए। स्थानीय बाजार में पूर्व से निर्मित राम-जानकी विवाह मंडप में रात में स्थानीय महिला, पुरुष, बच्चे, जवान व बुजुर्गों की मौजूदगी में हर्षोल्लास व श्रद्धा के साथ संपन्न हो गया। राम-जानकी विवाह देखने के लिए काफी संख्या में लोग बाजार में इकट्ठा हो गए।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
metra hospital

पूरा वातावरण मेले जैसा प्रतीत हो रहा था। वक्ताओं ने कहा कि श्रीराम-जानकी का विवाह धरती से पाप मिटाने, पापी का संहार करने व विश्व के कल्याण के लिए हुई है। राम-जानकी विवाह के दर्शन से मानव मस्तिष्क में मर्यादा पुरुषोत्तम व सीता मैया की तप, त्याग, रघुकुल रीत, धैर्य व बहादुरी नजरों के सामने आने लगता है। गोरेयाकोठी बाजार अंतर्गत राम-जानकी विवाह उत्सव का आयोजन वर्ष 1936 से ही अरुण सिंह के पूर्वज करते थे। उनके बाद अरुण सिंह, गुड्डू सिंह, राजू दूबे, उमेश कुमार, राजेश कुमार, विनोद कुमार, अर्जुन कुमार, अमर कुमार व निकेश कुमार आयोजन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।