सोमवार से सीवान में 50 फीसद बच्चों के साथ 9वीं से 12वीं तक के स्कूल खुलेंगे

0

परवेज अख्तर/सिवान:
सोमवार से जिले के सभी 9वीं से 12 वीं तक के स्कूल खुल जाएंगे। कोरोना प्रोटोकॉल व सरकार के गाइड लाइन के अनुसार ही स्कूल का संचालन होगा। एक दिन में सिर्फ 50 फीसद बच्चों की उपस्थिति होगी। हालांकि, शिक्षकों की उपस्थिति शत-प्रतिशत होगी। पठन-पाठन से लेकर परिवहन तक में सभी नियमों का पालन करना होगा। सरकार के निर्देशों का अनुपालन सख्ती से कराया जाएगा। सभी स्कूल पर विभाग के अधिकारियों की कड़ी निगरानी होगी। स्कूल प्रबंधन से लेकर प्राचार्य व शिक्षक की क्या भूमिका होगी। जिला शिक्षा कार्यालय द्वारा इसके लिए आदेश जारी किया गया है। जिला शिक्षा पदाधिकारी मोतीउर रहमान ने बताया कि 2 जनवरी को बैठक कर सभी स्कूल-कोचिग संचालकों को सरकार से जारी निर्देशों से अवगत करा दिया गया था। स्कूल खोलने के पूर्व क्लास रूम से लेकर प्रयोगशाला तक को सैनिटाइज कराने का आदेश दिया गया था। स्कूल आने वाले छात्रों को थर्मल स्क्रीनिग से गुजरना होगा। सभी छात्रों को दो-दो मास्क दिया जाना है, छात्र उसी मास्क को पहनकर स्कूल तक पहुंचेंगे। विद्यालय में प्रार्थना सत्र नहीं होगा। प्रार्थना कराए जाने की स्थिति में शारीरिक दूरी का अनुपालन अनिवार्य होगा। वर्ग कक्ष में शारीरिक दूरी का अनुपालन करते हुए छात्र-छात्राओं को बैठाया जाएगा। जिस विद्यालय में छात्रों क संख्या सीटिग से ज्यादा होगी, वहां दो पालियों में भी कक्षा संचालन के

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

आदेश दिए गए हैं।करीब 10 माह बाद खुल रहा है विद्यालय

उल्लेखनीय है कि गत साल के मार्च महीने में कोरोना संक्रमण का तेजी से फैलाव होने के कारण देश व्यापी लॉक डाउन घोषित हो गया था। इस कारण सभी प्रकार के स्कूल, कोचिग व अन्य शैक्षणिक संस्थानों को बंद कर दिया गया था। तब से लगातार स्कूल बंद रहे। बीच के समय में 9वीं से 12वीं तक के स्कूल को कुछ शर्ताें के साथ ट्यॅटोरियल क्लास चलाने की अनुमति दी गई थी। इस आदेश पर निजी स्कूल संचालकों ने क्लास प्रारंभ कर दिया था। लेकिन सरकारी स्कूलों में पढ़ाई शुरू नहीं हुई थी। अब सरकार के स्तर से 4 जनवरी से 50 फीसद छात्रों की उपस्थिति के साथ क्लास चलाने की अनुमति दी गई है, तो सभी सरकारी व गैर सरकारी स्कूलों में इसपर अमल शुरू हो गया है। इस प्रकार करीब 10 माह बाद स्कूल खुलेंगे तो वहां रौनक भी बढ़ेगी।

रोटेशन के अनुसार आएंगे बच्चे

सरकार ने शिक्षण संस्थानों में भीड़ को नियंत्रित करने के लिये जहां कई निदेश दिये है, वहीं पूर्व की भांति छात्रों की उपस्थिति पर भी वैन लगा दिया गया है। जारी दिशा निर्देश के आलोक में 50 फीसद छात्रों को ही स्कूल बुलाने की अनुमति दी गई है। अर्थात जो छात्र सोमवार को स्कूल आएंगे, वे मंगलवार को नहीं जाएंगे। मंगलवार को शेष 50 फीसदी छात्रों को पठन पाठन के लिए बुलाया जाएगा।

होगी सतत निगरानी

स्कूल-कोचिग में कक्षा संचालन के लिए जारी गाइड लाइन का सख्ती से अनुपालन कराया जाएगा। डीईओ ने बताया कि सरकारी व निजी स्कूलों के साथ ही कोचिग संचालन की अनुमति दी गई है, लेकिन इसके लिए कुछ नियम-कायदे बनाए गए हैं। उसका अनुपालन सभी को करना होगा। निगरानी का जिम्मा सभी प्रखंडों के बीईओ, बीआरपी और सीआरसीसी को दिया गया है। जिन संस्थानों में कोरोना प्रोटोकॉल और सरकार के निर्देशों का अनुपालन नहीं कराया जाएगा उनपर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

पांच सदस्यीय अनुश्रवण टीम गठित

खुल रहे विद्यालयों में मानक संचालन प्रक्रिया को अमली जामा पहनाने के लिए डीपीओ समग्र शिक्षा अभियान अवधेश कुमार को नोडल पदाधिकारी बनाया गया है। वहीं इनके नेतृत्व में पांच सदस्यीय अनुश्रवण टीम गठित की गई है। टीम प्रतिदिन प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी से मानक संचालन प्रक्रिया से संबंधित प्रतिवेदन प्राप्त कर जिला शिक्षा पदाधिकारी को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करेंगे। जिला स्तरीय अनुश्रवण टीम में माध्यमिक शिक्षा के विश्वरंजन कुमार सहित समग्र शिक्षा अभियान के अजय कुमार, उमेश उपाध्याय, रंजीत कुमार व मनोज कुमार शामिल हैं।