सिवान: एनआईए के रडार पर सीवान के चार अपराधी चरित्र के व्यक्ति

0

गृह विभाग के आदेश पर पुलिस अधीक्षक ने चारों व्यक्तियों के संबंध में विभिन्न थानों से मांगी विस्तृत रिपोर्ट

परवेज अख्तर/सिवान: कश्मीर की एनआईए (राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण) टीम के रडार में अभी सीवान के चार अपराधी चरित्र के व्यक्ति हैं. बताया जाता है कि जांच कर रही कश्मीर की एनआईए की टीम को प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (जे.ए.एम.) के इशारे पर काम कर रहे लश्कर-ए-मुस्तफा, (एल.ई.एम.) से इन तीनों व्यक्तियों का संबंध है. भारत सरकार के गृह विभाग का पत्र मिलने के बाद पुलिस अधीक्षक शैलेश कुमार सिन्हा ने जिले के नगर, आंदर, जामोबाजार, सिसवन, एमएचनगर, पचरूखी, मैरवा, सराय, महादेवा, रघुनाथपुर, धनौती, दरौली एवं भगवानपुर हाट थाने के थानाध्यक्ष को पत्र लिखकर चारों अपराधिक चरित्र के व्यक्तियों के संबंध में विस्तृत रिपोर्ट 5 दिनों के अंदर मांगी है.विभिन्न थानों को दिए अपने पत्र में पुलिस अधीक्षक शैलेश कुमार सिन्हा ने लिखा है कि जिन अपराधी चरित्र के व्यक्तियों का आंतकवादी संगठनों से संबंध है उनमें बड़हरिया थाने के शाह तकिया निवासी नौशाद अली का पुत्र फैसल अली, महाराजगंज थाने के कापिया निजामत निवासी दीप नारायण सिंह का पुत्र आलोक कुमार सिंह,पचरुखी थाने के हरदिया गांव निवासी अली हुसैन का पुत्र मोहम्मद मुमताज एवं बसंतपुर थाने के शेखपुरा निवासी अफजल खान का पुत्र दानिश खान शामिल है.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2023-10-11 at 9.50.09 PM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.50 AM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.51 AM
ahmadali
WhatsApp Image 2023-11-01 at 2.54.48 PM

पुलिस अधीक्षक द्वारा यह सूचित किया गया है कि सभी चारों व्यक्तियों के विरुद्ध किसी न किसी थाने में अपराधिक मामले दर्ज हैं. पुलिस अधीक्षक ने इन चारों उद्योगों के संबंध में दर्ज एफआईआर की प्रमाणित प्रतियां, एफ आई आर में शामिल अन्य आरोपी व्यक्तियों का विवरण यदि कोई हो, बरामद वस्तुओं जैसे दस्तावेज हथियार गोला बारूद का विवरण, जब्ती ज्ञापन प्रकटीकरण क्या आप कौन पूछताछ की प्रमाणित प्रतियां एफ आई आर तैयार आरोपित व्यक्तियों का रिपोर्ट, अगर प्राथमिकी दर्ज की गई हो तो आरोप पत्रों की प्रमाणित प्रतियां, सभी मामलों के अलग-अलग संक्षिप्त नोट एवं मामलों के साथ-साथ आरोपित व्यक्तियों की वर्तमान स्थिति की जानकारी पुलिस अधीक्षक द्वारा गोपनीय तरीके से मांगी गई है.