सिवान: 15 से 18 वर्ष आयु वर्ग के 51 फीसदी ही वैक्सीन का डोज

0
  • लाभार्थियों तक वैक्सीन का डोज पहुंचाने के लिए स्कूलों के शिक्षकों से भी भरपूर सहयोग देने का आग्रह किया गया
  • सहयोग नहीं मिलने के कारण वैक्सीनेशन लक्ष्य प्राप्ति से दूर
  • परीक्षा केंद्रों पर छात्रों को वैक्सीन का डोज देने की व्यवस्था
  • 03 जनवरी से जिले में वैक्सीनेशन की हुई थी शुरूआत
  • 31 जनवरी तक वैक्सीनेशन पूरा करने का रखा है लक्ष्य

परवेज अख्तर/सिवान: जिले में 15 से 18 वर्ष आयुवर्ग के कुल 51 फीसदी लाभार्थियों का अबतक वैक्सीनेशन किया जा चुका है। जबकि जल्द लक्ष्य प्राप्ति को लेकर वैक्सीनेशन जारी है। मिली जानकारी के अनुसार आगामी हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की परीक्षाओं में सम्मिलित होने वाले छात्रों को संक्रमित होने से बचाव को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने इस आयुवर्ग के सभी लाभार्थियों को वैक्सीनेशन 31 जनवरी तक कर लेने का लक्ष्य रखा था जो अब शेष दिनों में पूरा होता नहीं दिखायी दे रहा है। मिली जानकारी के अनुसार 03 जनवरी से ऐसे लाभार्थियों का वैक्सीनेशन शुरू किया गया है। ऐसे में अधिक से अधिक लाभार्थियों तक वैक्सीन का डोज पहुंचाने के लिए स्कूलों के शिक्षकों से भी भरपूर सहयोग देने का आग्रह किया गया है। बताया जा रहा है कि अपेक्षित सहयोग नहीं मिलने के कारण वैक्सीनेशन अपने लक्ष्य प्राप्ति से दूर है। हालांकि बताया गया कि परीक्षा केंद्रों पर भी वैक्सीनेशन से वंचित लाभार्थियों को वैक्सीन का डोज देने की व्यवस्था की जाएगी।

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

कुल लक्ष्य 03 लाख 17 हजार 601 है

स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार जिले में 15 से 18 वर्ष आयुवर्ग के कुल 03 लाख 17 हजार 601 लाभार्थियों को वैक्सीन का डोज देने का लक्ष्य रखा गया है। इनमें से अबतक नौतन में 111.2, बड़हरिया में 70.9, मैरवा में 60.4, जीरादेई में 59.2, गोरेयाकोठी में 58.1, सीवान सदर में 57.8, हसनपुरा में 56.7, भगवानपुर हाट में 50.9, बसंतपुर में 48.6, पचरूखी में 46.7, अर्बन में 44.2, लकड़ीनबीगंज में 44.0, दरौली में 41.5, हुसैनगंज में 41.3, दरौंदा में 41.3, आंदर में 40.6, महाराजगंज में 40.4, गुठनी में 34.9, रघुनाथपुर में 32.6, सिसवन प्रखंड में लक्ष्य के खिलाफ कुल 29.4 फीसदी लाभार्थियों का वैक्सीनेशन किया जा सका है।