सिवान: दिनदहाड़े एक महीने में दो लूटकांड के बाद कदम मोड़ के व्यवसायियों में दहशत

0
  • अपराधियों ने मंगलवार को ही दिया दोनों लूट कांड की घटना को अंजाम
  • घटनाओं से परेशान स्थानीय लोगों ने किया पुलिस चौकी की मांग

✍️परवेज़ अख्तर/सिवान:
मुफस्सिल थाना क्षेत्र के बलेथा कदम मोड़ पर दिनदहाड़े हुई दो लूटकांड की घटनाओं के बाद कदम मोड़ के व्यवसायी दहशत के माहौल में है.बताते चले कि आए दिन कदम मोड़ पर अपराधी दिनदहाड़े घटना को अंजाम दे रहे हैं और मौके से फरार हो जा रहे हैं. पुलिस देखते ही रह जा रही है.मंगलवार की सुबह 10:17 पर सफेद अपाची बाइक पर सवार दो नकाबपोश अपराधियों ने बैंक ऑफ बड़ौदा के सीएसपी संचालक अभिषेक कुमार बलेथा गढ़पट्टी से रुपए लेकर सीएसपी जा रहा था. तभी भरी बाजार में हथियार के बल पर उससे लूटपाट कर ली और चलते बने. यहीं नहीं बीते 9 मई की सुबह तकरीबन 10:40 बजे बलेथा कदम मोड़ स्थित स्वर्ण व्यवसायी सीताराम सोनी का पुत्र राज कुमार सोनी को बंधक बनाकर अपराधियों ने लूटपाट की घटना को अंजाम दे दिया था. इस मामले में स्वर्ण व्यवसायी ने स्थानीय थाना में पांच अज्ञात प्राथमिकी दर्ज कराई थी. पीड़ित के मुताबिक वह सुबह 9:00 बजे अपने दुकान पर आया.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2023-10-11 at 9.50.09 PM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.50 AM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.51 AM
ahmadali
WhatsApp Image 2023-11-01 at 2.54.48 PM

दुकान की साफ-सफाई की और पूजा पाठ करने लगा. तकरीबन 10:40 बजे बाइक पर सवार पांच की संख्या में अपराधी आए हथियार के साथ दुकान में प्रवेश किया और बंधक बना लिया. जिसके बाद उन लोगों ने तिजोरी की तरफ इशारा करते हुए तिजोरी खोलने की बात कही थी और बोला था कि अगर तिजोरी नहीं खोलेगा तो जान से मार देंगे. जिसके बाद स्वर्ण व्यवसायी ने तिजोरी खोला और अपराधियों ने तिजोरी में रखे 7 किलो चांदी 150 ग्राम सोना और दो लाख रुपए नगद की लूटपाट कर ली थी. इस लूटपाट की घटना के बाद पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार कर कुछ आभूषण बरामद की थी.

लेकिन एक महीने बीतने के बाद भी बचे अन्य आभूषण और अपराधियों की गिरफ्तारी नहीं हो सकी. इधर कदम मोड़ पर हो रही दिनदहाड़े लूटपाट की घटना के बाद मोड़ के व्यवसायी दहशत के माहौल में हैं और संध्या होते ही दुकान बंद कर घर को चले जा रहे हैं. व्यवसायियों का कहना है कि जब दिनदहाड़े अपराधी लूटपाट की घटना को अंजाम देकर फरार हो जा रहे हैं तो संध्या में अपराधी तो दुकान ही लूट लेंगे. इस डर से संध्या होते ही पूरा कदम मोड़ वीरान पड़ जा रहा है.