चरितार्थ होने लगी: मार देम गोली केहू ना बोली, क्रिकेटर को अपराधियो ने मारी गोली,गंभीर अवस्था में रेफर

0

परवेज़ अख्तर/सीवान: सीवान पुलिस की निष्क्रियता से हो रही लगातार अपराधिक घटनाओं को लेकर आम जनमानस पर शामत सी छा आ गई है। सिवान जिले में लगातार हो रही अपराधिक घटनाओं पर यह लोकोक्ति चरितार्थ होने लगी कि “मार देम गोली, केहू ना बोली…!” सीवान में बढ़ते अपराधिक घटनाओं की कड़ियों में एक और कड़ी जुड़ गई। जहां अज्ञात अपराध कर्मियों द्वारा एक नवयुवक क्रिकेटर को गोली मार दी। जिससे वह सदीद तौर पर जख्मी हो गया।आनन-फानन में परिजनों ने उसे इलाज हेतु सिवान सदर अस्पताल में दाखिल कराया। जहां प्राथमिक उपचार के बाद ड्यूटी पर तैनात मौजूद चिकित्सकों ने उसे बेहतर इलाज के लिए पटना पीएमसीएच रेफर कर दिया।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

चिकित्सकों की मानें तो युवक के माथे के बाएं बगल के ललाट पर गोली लगने के कारण उसकी हालत काफी नाजुक बनी हुई है। घायल युवक जीरादेई निवासी विजयमल सिंह के पुत्र दिनेश कुमार सिंह बताया जा रहा है। बतादें की जीरादेई-भैसाखाल गांव के बीच क्रिकेट खेल रहे युवकों ने दिनेश को क्रिकेट खेलने वास्ते बुलाया। जब दिनेश अपनी बाइक से जा रहा था की तभी भैसाखाल गांव से पहले ही अज्ञात अपराध कर्मियों ने दिनेश के सिर में गोली दाग दी।जब दिनेश घायल होकर जमीं पर गिरा पड़ा तो आसपास के लोगों ने इसकी सूचना उसके परिजनों को दी तो सूचना पाकर आनन-फानन में परिजन मौके वारदात पर पहुंचे। और उसे उठाकर प्राथमिक उपचार हेतु सिवान सदर अस्पताल में भर्ती कराया।

sadar hospital siwan rotated

सदर अस्पताल में ड्यूटी पर तैनात चिकित्सकों ने प्राथमिक उपचार के बाद उसकी हालत को गंभीर देखते हुए उसे बेहतर इलाज के लिए पटना पीएमसीएच रेफर कर दिया।उधर इस घटना को लेकर परिजन कुछ भी बताने से साफ- साफ इंकार कर रहे हैं। लेकिन इस घटना को लेकर क्षेत्रों में कई तरह के अटकलों के बाजार गर्म है। लोग इस घटना को कई एंगिल से जोड़कर देख रहे हैं। उधर परिजनों के मौखिक बयान के आधार पर एसडीपीओ सदर जितेंद्र पांडे के निर्देश के आलोक में स्थानीय पुलिस अनुसंधान प्रारंभ करते हुए घटना में शामिल अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए एक टीम गठित कर छापेमारी शुरू कर दी है। लेकिन खबर प्रेषण तक इस घटना में पुलिस को कुछ भी सफलता हाथ नहीं लगी है। इस संदर्भ में जीरादेई थानाध्यक्ष प्रवीण प्रभाकर से पूछे जाने पर उन्होंने कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया।