तरवारा : डीके सारंगपुर गांव में गजब दिखी गंगा-जमुनी की तहजीब, यहां हिंदू समुदाय के लोगों द्वारा की जाती है भव्य ताजिया का निर्माण

0
  • वैश्विक महामारी के चलते नहीं निकाली गई ताजिया, नजदीक के चौक पर ही लोगों ने की इमाम हसन- हुसैन के नाम पर नेयाज-फातेया
  • क्षेत्र के कई गांव में बनाए गए थे भव्य ताजिया
  • इस वर्ष उड़िया टोला, रौजा गौर ,चौकी हसन के अंधेरी बाग़ के इमामबाड़ा में पसरा रहा सन्नाटा

परवेज़ अख्तर/सिवान:- जिले के जी.बी नगर तरवारा थाना क्षेत्र के तरवारा बाजार, डी.के सारंगपुर, सकरा सारंगपुर, उड़ियान टोला, काजी टोला, सरैया, बाबू टोला, फखरुद्दीनपुर, चौकी हसन, भरतपुरा,शाहपुर, सोनवर्षा समेत अन्य गांव में इस वर्ष  वैश्विक महामारी के चलते रविवार को इमाम- हसन हुसैन की याद में निकाले जाने वाली भब्य ताजिया व आकर्षित आखाड़ा नहीं निकाली गई। लोग अपने-अपने नजदीक के चौक पर ही कर्बला के मैदान में शहीद हुए शहीदों के नाम पर नेयाज-फातेया की।बतादें की तरवारा बाजार के अंसारी मोहल्ला व इराकी मोहल्ला में ताजिया के कलाकारों द्वारा एक भब्य ताजिया का निर्माण कराया गया था। दोनों मोहल्ला के ताजियादारो ने बताया कि वैश्विक महामारी के चलते इस वर्ष ताजिया को मेला स्थल पर नहीं ले जाया गया।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
ads

सिर्फ कर्बला के मैदान में शहीद हुए शहीदों के नाम पर सोशल डिस्टेंस का ख्याल रखते हुए नेयाज- फातेया अपने-अपने चौक पर बनी हुई ताजिया को रखकर की गई। वैश्विक महामारी को लेकर पर्व को सफल बनाने में शब्बीर आलम, सोना अंसारी, इफ़्तेख़ार उर्फ सोनू , मोजाहिद उर्फ रोमी सरकार, नेयाजुल बाबू , खुर्शीद अंसारी, अहमद राजा शाह, सोनू उर्फ ढुल ढुल बाबू , हारून रसीद, अहमद राजा, फ़ैयाज़ अली शाह, मुमताज़ शाह, मुचुन शाह, दिलशाद शाह, तबरेज़ आलम शाह, अय्याज़ शाह, नज़रे इमाम शाह, गोल्डेन सैफी, सोनू अली, मिस्टर अली,अरमान अली, जुनेद अंसारी,नाजिम अंसारी ,इमाम अली ,महमूद अंसारी ,नेमउल्लाह अंसारी, रहमत अंसारी ,मैनुद्दीन अली, सद्दाम अंसारी, शमशीर अंसारी, राजा अंसारी , मुस्ताक अंसारी, खुर्शीद अली, महफूज आलम, जमशेद अंसारी, मकसूद सैफी  रेयाज सैफी, हफीज सैफी, नेयाज सैफी, लालू सैफी, अली इमाम हुसैन, रब्बे आलम, शकील अंसारी, बसरूद्दीन राय, समेत सभी मोहल्लावासियों का योगदान सराहनीय देखी गई।

sadarj tajiya
सदर प्रखंड के जियाये गांव में बना आकर्षित ताजिया

वहीं इराकी मोहल्ला वासियों में जहांगीर आलम, आलमगीर आलम, इरफान उर्फ राजा बाबू  शारिक आलम, जहीर आलम, तबरेज आलम, साहेब आलम, शहाबुद्दीन आलम उर्फ सब्बू , निसार आलम, मोहम्मद बुलेट, सद्दाम आलम, शाहरुख आलम, आमिर बाबू, इफ्तेखार आलम, समेत सभी मोहल्लावासियों का योगदान सराहनीय था। इराकी मोहल्ला के शाहरुख आलम ने बताया कि प्रत्येक वर्ष भब्य ताजिया के साथ आकर्षित अखाड़ा क्षेत्र के उड़िया टोला गांव स्तिथ इमामबाड़ा में जाता था।लेकिन इस वर्ष वैश्विक महामारी के चलते इमामबाड़ा में नहीं गया। उन्होंने बताया कि कई गांव के ताजियोंं का मिलान उक्त इमामबाड़ा में होता था और यहां एक भव्य मेले का मेला का आयोजन किया जाता था और लोग इस दौरान अपने -अपने कला का प्रदर्शन करते थे।

dk sarangpur ka tajiya
डी.के सारंगपुर गांव में हिंदू समुदाय के लोगों द्वारा बनाई गई आकर्षक ताजिया

और मेले के दौरान ताजियादारों को पुरस्कृत भी किया जाता था। लेकिन वैश्विक महामारी के चलते हम सभी लोग सरकार के दिशा निर्देश का अनुपालन करते हुए गांव में ही पर्व को शांतिपूर्ण ढंग से समापन कर लिए। वहीं थाना क्षेत्र के डी. के. सारंगपुर गांव के ग्रामीणों में गज़ब देखने को मिली गंगा- जमुनी तहजीब। इस गांव में हिंदू समुदाय के लोगों द्वारा प्रत्येक वर्ष भव्य ताजिया का निर्माण कराया जाता है। जो इस वर्ष भी कराया गया था। उक्त भव्य ताजिया को गांव के ही राजकुमार साह द्वारा प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी एक आकर्षित रूप देकर अपने हाथों तैयार किया गया था। यहां बताते चलें कि उक्त गांव का ताजिया को देखने के लिए आसपास के कई गांव के लोग आते हैं।

bahuwara ka tajiya
बड़हरिया प्रखंड के बहुआरा कादिर गांव में बना आकर्षित ताजिया

ग्रामीण सह समाजसेवी आदिल हुसैन ने बताया कि प्रत्येक वर्ष गांव में एक भव्य ताजिया का निर्माण करके आकर्षित आखाड़ा के साथ गांव के बगल में रौजा गौर स्थित इमामबाड़ा में जाता था लेकिन इस वर्ष वैश्विक महामारी के चलते भव्य ताजिया के साथ आखाड़ा नहीं गया।उन्होंने बताया कि रौजा गौर गांव स्थित इमामबाड़ा में क्षेत्र के मिश्रौलिया, नौतन, शिवदह, बलियापट्टी समेत कई गांव के भव्य ताजिया गाजे- बाजे के साथ आता था। लेकिन इस वर्ष वैश्विक महामारी को देखते हुए मेले का आयोजन नहीं किया गया।

iraki tajiya
तरवारा बाजार के इराकी मोहल्ला में बना आकर्षित ताजिया

पर्व को सफल बनाने में ग्रामीणों में क्रमशः शमशुलहक, किताबुद्दीन अंसारी, अंगूर बाबू , नयन कुमार साह, हृदया यादव , मो.अजहरुद्दीन, जफर अली, इमरान अली, अमीरुलहक , मोहम्मद मोईन, सेब बाबू , मोहम्मद लाडले , मोहम्मद राजा बाबू , गोल्डन अली, साबिर अली ,नेहाल अहमद , मोहम्मद राशिद, जाहिद बाबु ,नेसार आलम , इरफान सर, मासूम बाबू , रमीज आलम, अब्दुल रहमान, शाहिद अली ,निजामुद्दीन मियां , इब्राहिम अली, जियाउल हक, समेत सभी ग्रामीणों का योगदान सराहनीय था। यहां बताते चले कि डी.के सारंगपुर गांव में हिंदू मुस्लिम एकता का प्रतीक हमेशा से देखी जा रही है।

kaji tola tajiya
तरवारा के काजीटोला गांव में बना आकर्षित ताजिया

यहां हिंदू समुदाय के लोग भव्य ताजिया का निर्माण कर रौजा गौर स्तिथ इमामबाड़ा में ले जाते हैं।लेकिन इस वर्ष वैश्विक महामारी के चलते हिंदू समुदाय के लोगों ने भव्य ताजिया का निर्माण तो जरूर किया परंतु इमामबाड़ा में उक्त ताजिया को नहीं ले जाया जा सका। जिसके चलते भव्य ताजिया को आकर्षित रूप देने वाले हिंदू कलाकारों में मायूसी देखी गई।वहीं चौकी हसन के अंधेरी बाग़ स्थित इमामबाड़े में भी वीरानी छाई रही। इस इमामबाड़े में क्षेत्र के कई गांव का भव्य अखाड़ा ताजिया के साथ आता था लेकिन इस वर्ष  वैश्विक महामारी के चलते मेले के आयोजन न होने के कारण इमामबाड़े में वीरानी छाई इमामबाड़े में वीरानी छाई रही। उधर सुरक्षा की दृष्टि से पूरे शनिवार की रात्रि से रविवार को पूरे दिन स्थानीय थानाध्यक्ष सह इंस्पेक्टर प्रमोद कुमार सिंह क्षेत्र के सभी इमामबाड़े पर पैनी नजर रखे हुए थे।स्थानीय पुलिस प्रशासन की गाड़ियां सुरक्षा के दृष्टिकोण से सड़कों पर सरपट दौड़ती रही।

ansari mohalla tajiya
तरवारा के अंसारी मोहल्ला में बना आकर्षित ताजिया

इसके अलावा बड़हरिया प्रखंड के मुर्गीयाटोला, कर्बला बाजार, लौआन, हाथीगाई, कुंडवा, छक्का टोला, तेतहली, बहुआरा कादिर ,बहादुरपुर, जोगापुरकोठी, हबीबपुर, तिलसण्डी, खानपुर, माधोपुर, सुरहियां सत्यनारायण मोड, पड़रौना, पकड़ी सुल्तान, तीनभेड़िया, लकड़ी दरगाह, समेत प्रखंड क्षेत्र के सभी गांव में इमाम – हसन हुसैन के की याद में मनाए जाने वाला पर्व मुहर्रम शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो गया।प्रखंड क्षेत्र के सभी जगहों पर ताजियादारों ने अपने -अपने घरों के पास बने चौक पर ताजिया को रखकर इमाम हसन हुसैन की याद में नेयाज-फातेया कर मिन्नतें मांगी।वहीं सुरक्षा के दृष्टिकोण से स्थानीय थानाध्यक्ष मनोज कुमार पूरे दल-बल के साथ सम्पूर्ण इलाके में मुस्तैद रहे।

इसके अलावा पचरुखी प्रखंड के हरदियां, जसौली, वैशाखी, मोहम्मदपुर, महादेवा मिशन,ओरमा, बिंदुसार, बरहनी, दारोगा हाता, सुरवाल, बड़कागांव, बर्तवलिया, सिसवां, ओलिपुर, मठनपूरा, गोपालपुर, उखई, मधवापुर, सम्भोपुर, नरहट, समेत अन्य गांव में मुहर्रम पर्व शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो गया सुरक्षा के दृष्टिकोण से पचरुखी थानाध्यक्ष तथा महादेवा थानाध्यक्ष लगे हुए थे।वहीं जिले के सदर प्रखंड के जियाये गांव व आस-पास के इलाकों में  मुहर्रम पर्व शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो गया।संपन्न कराने वालों में गांव के नदीम सैफी, सलमान सैफी, आलियास सैफी, जमशेद सैफी, आजाद सैफी, अनवर सैफी, परवेज सैफी, समेत सभी ग्रामीण लगे हुए थे।

इस वर्ष वैश्विक महामारी के चलते श्रीनगर स्थित कर्बला के मैदान में लगने वाला मेला का आयोजन नहीं किया गया। बतादें कि श्रीनगर स्थित कर्बला के मैदान में शहर से लेकर कई गांव तक के भव्य ताजिया के साथ आकर्षित जुलूस अखाड़ा आता था। लेकिन इस वर्ष वैश्विक महामारी के चलते नहीं आ सका। जिसके चलते श्रीनगर कर्बला के मैदान में वीरानी छाई रही।वहीं सुरक्षा के दृष्टिकोण से मुफस्सिल थानध्यक्ष ददन सिंह दलबल के साथ मौजूद रहे।इसके अलावा जिले के बसंतपुर, भगवानपुर ,दरौंदा, मैरवा , गुठनी आंदर, दरौली, हुसैनगंज,आदि प्रखंडों में भी मुहर्रम पर्व शांतिपूर्ण संपन्न होने की खबर है।पर्व को शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न कराने के लिए सभी स्थानीय पुलिस पूरी मुस्तैदी के साथ लगी हुई थी। इस संदर्भ में पुलिस कप्तान अभिनव कुमार ने बताया कि पूरे संपूर्ण जिले में शांतिपूर्ण ढंग से वैश्विक महामारी का ध्यान रखते हुए लोगों ने पर्व का समापन कर ली।इसके लिए उन्होंने संपूर्ण जिले के सभी ताजियादारी को बधाई दी है।

tarwara
तरवारा पुरानी बाजार के साई मोहल्ला में बना ताजिया