छपरा में दुर्गा प्रतिमा विसर्जन जुलूस पर पथराव, 6 जख्मी, 10 हिरासत में; दो दिनों के लिए इंटरनेट पर रोक

0

छपरा: बिहार के बेगूसराय, औरंगाबाद के बाद छपरा में दुर्गा पूजा विसर्जन जुलूस पर पत्थरबाजी की घटना के बाद भारी तनाव की स्थिति बन गई है। इसे देखते हुए एहतियाती कदम के तहत सदर अनुमंडल इलाके में दिनों के लिए इंटरनेट सेवा बंद पर रोक लगा दी गयी है। घटना भगवान बाजार थाना क्षेत्र के नई बाजार की है। शुक्रवार की सुबह करीब साढ़े चार बजे प्रतिमा विसर्जन के दौरान दो गुटों में झड़प हो गई। छत के ऊपर से दो पत्थर चलाए गए उसके बाद दोनों से लोग भड़क गए। इस घटना में छह से अधिक लोग जख्मी हो गए जिन्हें स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया। सभी का इलाज चल रहा है। दो गुटों के बीच तनाव को लेकर पुलिस कैम्प कर रही है। डीएम एसपी खुद इलाके में जमे हैं। दस लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2023-10-11 at 9.50.09 PM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.50 AM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.51 AM
ahmadali
WhatsApp Image 2023-11-01 at 2.54.48 PM

बताया जा रहा है कि देर रात शुक्रवार को प्रतिमा विसर्जन का जुलूस निकला। एक धार्मिक स्थल के पास गाना बजाने को लेकर विवाद हुआ। इस पर कहा सुनी देखते देखते पत्थरबाजी में बदल गई। आरोप है कि जुलूस के साथ चल रही पुलिस पीछे हट गई। दोनों ओर के लोगों ने बवाल किया। पत्थर चलाए गए जिसमें आधा दर्जन से ज्यादा लोग जख्मी हो गए जिन्हें स्थानीय लोगों ने अस्पताल पहुंचा दिया। कहा जा रहा है कि पहले से इसकी तैयारी की गयी थी।

घटना की सूचना मिलते ही भगवान बाजार थाना पुलिस दल बल के साथ मौके पर पहुंच गई। डीएम संतोष कुमार, एसपी डॉ गौरव मंगला, सदर एसडीओ संजय राय भी तुरंत पहुंच गए और दोनों ओर के लोगों को हटा दिया। उसके बाद पुलिस की देखरेख में प्रतिमा विसर्जन जुलूस को आगे ले जाया गया। प्रशासन ने अपनी देखरेख में विसर्जन कराया। भगवान बाजार में फिलहाल शांति है।

एसपी गौरव मंगला ने बताया है कि हालात पर नियंत्रण कर लिया गया है। लोगों से शांत रहने की अपील की गई है। मजिस्ट्रेट की देख रेख में सुरक्षा बलों को तैनात कर दिया गया है। स्थिति अभी सामान्य है लेकिन पुलिस की तैनाती बनी रहेगी। उन्होंने कहा कि कुछ लोगों को डिटेन किया गया है जिनसे पूछताछ की जा रही है। दोनों पक्षों के प्रबुद्ध लोगों को बुलाकर बैठक करके शांति बहाली की जाएगी। उपद्रवी तत्वों पर पुलिस की नजर है। उन्हें नहीं छोड़ा जाएगा। विसर्जन जुलूस की अनुमति नहीं ली गई थी। मामले में एफआईआर दर्जकर कार्रवाई की जाएगी।