झंडा लगाने पर दिखाया दबंगई:- सिवान के गोरेयाकोठी में बीजेपी समर्थकों ने आरजेडी का झंडा लगाने पर बरपाया कहर

0
  • दबंगों ने मारपीट कर दो महिला समेत चार को किया घायल,इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती
  • गांव में दहशत का माहौल, पुलिस प्रशासन बेखबर

परवेज़ अख्तर/सिवान:
लोकतंत्र का महापर्व समाप्त होने व चुनावी रुझान आने के बाद सिवान जिले के गोरेयाकोठी में बीजेपी समर्थकों ने कमजोर व असहाय लोगों पर बुधवार की अहले सुबह जमकर कहर बरपाते हुए जमकर तांडव मचाया है। इस दौरान बीजेपी समर्थकों ने गांव के कई परिवार पर जोरदार हमला बोल दिया। इस हमले में दो महिला समेत चार लोग सदीद तौर पर जख्मी हो गए हैं। जिनका इलाज सीवान के सदर अस्पताल में चल रहा है। उधर इस घटना को लेकर गांव के अन्य कमजोर तबके के लोगों में भी दहशत व्याप्त है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

और स्थानीय पुलिस इस घटना को लेकर जानबूझकर अनजान बनी हुई है। जिला प्रशासन द्वारा अगर इसे अनदेखी किया गया तो यहां एक बड़ी घटना का संकेत नजर आ रहा है। यह उक्त घटना गोरेयाकोठी थाना क्षेत्र के आज्ञा गांव की है। दबंगों के शिकार पीड़ितो ने बताया कि गोरेयाकोठी से बीजेपी के प्रत्यासी श्री देवेशकांत सिंह के चुनाव जीतते के बाद उनके समर्थक हमलोगों के घर आ धमके।

हमलोगों के यहाँ कुछ दलित और कुशवाहा परिवार आरजेडी का झंडा अपने घरों पर लगाए हुए थे, जिसको लेकर इसी गांव के बीजेपी समर्थकों में पूर्व से ही नाराजगी थी। इधर चुनाव परिणाम जैसे ही घोषित हुआ कि इसी बीच बीजेपी के समर्थकों ने हमलोगों के घर धावा बोल दिए और मारपीट कर गम्भीर रूप से घायल कर दिया। घायलों में सुशीला देवी (55 वर्ष), सुगानती देवी (40 वर्ष), कृष्णा कुमार कुशवाहा (27 वर्ष) तथा गणेश प्रसाद( 60 वर्ष) हैं। जिनका इलाज सिवान के सदर अस्पताल में चल रहा है।

इलाज करा रहे पीड़ित लोगों का आरोप है कि घर पर राजद का झंडा लगाने को लेकर गांव के ही बीजेपी समर्थक नित्यानंद सिंह सहित अन्य 14 लोगों ने घटना को अंजाम दिया है। जिसकी सूचना स्थानीय थाने को दी गई।परंतु सूचना के बाद भी स्थानीय पुलिस हम लोगों की कोई मदद नहीं की।वहीं पीड़ितों का कहना है कि हम लोग दबंगों की दबंगई के चलते स्थानीय थाना में आवेदन देने भय व दहशत के कारण नहीं जा रहे हैं।खबर लिखे जाने तक सभी घायलों का इलाज सदर अस्पताल में जारी था। वही इस संबंध में हमारे संवाददाता ने जब स्थानीय थाना से संपर्क कर पूछा तो पुलिस द्वारा कोई संतोषजनक जवाब नहीं दी गई।