तरवारा के सकरा में सरपंच के पुत्र की पीट-पीटकर अपराधियों ने कर डाली हत्या

0
  • प्राथमिकी दर्ज, अनुसंधान जारी
  • बारात ले जाने का बहाना बनाकर घर से बुलाकर ले गए थे 6 की संख्या में अपराधी
  • पिता ने प्रथम उपचार के लिए सदर अस्पताल में कराया था भर्ती
  • उपचार के क्रम में गोरखपुर में ही दम तोड़ दिया इरशाद ने
  • घटना: सकरा बाजार के समीप का

परवेज अख्तर/सीवान:
जिले के जी.बी नगर थाना क्षेत्र के भलुवाड़ा पंचायत के सरपंच नूरजहां के 22 वर्षीय पुत्र इरशाद अली को एक षड्यंत्र व साजिश के तहत बारात ले जाने का बहाना बना घर से बुला ले जाकर पीट-पीटकर हत्या अपराधियों ने कर डाली है। उक्त घटित घटना के बाद स्वजनों में कोहराम मचा हुआ है। मृतक इसी थाना क्षेत्र के फखरुद्दीनपुर गांव निवासी सह पूर्व सरपंच तथा वर्तमान उप सरपंच मोहम्मद शहाबुद्दीन अंसारी का बेटा बताया जा रहा है। उधर उक्त घटित घटना के बाद परिजनों का रोते-रोते बुरा हाल हो चुका है। इस घटना को लेकर मृतक के पिता सह पूर्व सरपंच तथा वर्तमान उप सरपंच मोहम्मद शहाबुद्दीन अंसारी के बयान पर स्थानीय जी.बी नगर थाना कांड संख्या 337/2020 दर्ज कराई गई है। घटना के संबंध में मृतक इरशाद अली की मां सरपंच नूरजहां ने बताया कि बीते 13 दिसंबर की संध्या मेरे दरवाजे पर बाइक सवार होकर 6 लोग आए और मेरे पुत्र से बारात जाने की बात कही।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

आए हुए लोगों की बात मानकर जब मेरा पुत्र बारात चला गया तो उपरोक्त सभी लोगों ने तरवारा- पचरुखी मुख्य मार्ग के सकरा बाजार के समीप एक झुंड बनाकर मेरे पुत्र इरशाद अली की जबरदस्त तरीके से पिटाई कर रहे थे। कि इसी बीच पचरुखी के तरफ से उसके पिता मोहम्मद शहाबुद्दीन अंसारी कहीं से बारात में शामिल होकर लौट रहे थे कि तभी एकत्रित भीड़ को देखकर वहां रुक गए तब तक तीन लोग मौके से अंधेरे का लाभ उठाकर भागने में सफल रहे। जबकि 3 लोग मौके पर ही ठहर गए। उसके बाद आनन-फानन में घायल पुत्र इरशाद अली को प्राथमिक उपचार हेतु सिवान सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां मौजूद चिकित्सकों ने उसकी हालत को गंभीर देखते हुए उसे बेहतर इलाज के लिए रेफर कर दिया। इसके बाद हम सभी लोग उसकी बेहतर इलाज के लिए उत्तर प्रदेश के गोरखपुर अवस्थित सरकार अस्पताल नामक क्लीनिक में भर्ती कराया। जहां इलाज के पश्चात इरशाद ने बीते 20 दिसंबर को दम तोड़ दिया। उधर मौत के बाद परिजनों ने इसकी सूचना स्थानीय जी.बी.नगर थाना पुलिस को दी।

जहां पुलिस ने शव को बरामद कर पोस्टमार्टम करा परिजनों को सौंप दिया। परिजनों ने बताया कि जब हम सभी अपने घायल पुत्र का इलाज हेतु गोरखपुर में ले जाकर व्यस्त हो गए तभी उपरोक्त घटना को अंजाम देने वाले लोगों द्वारा क्षेत्रों में यह अफवाहें उड़ा दी गई की सरपंच पुत्र जी.बी. नगर थाना क्षेत्र के सकरा बाजार के समीप सड़क दुर्घटना में घायल हो गया है।यह अफवाह क्षेत्रों में जंगल में लगी आग की तरह फैल गई और आम जनमानस के दिलों दिमाग में यह बातें बैठ गई।लेकिन घटना का पटाक्षेप उस समय हुआ कि जब बीते 20 दिसंबर की रात्रि गोरखपुर में अपराधियों के पिटाई से घायल इरशाद ने दम तोड़ दिया।बरहाल हाल चाहे जो हो पुलिस घटना की एक नामजद प्राथमिकी दर्ज करते हुए अनुसंधान प्रारंभ कर दी है।

दर्ज प्राथमिकी में इसी थाना क्षेत्र के फखरुद्दीनपुर गांव निवासी सेराजुद्दीन अंसारी,अमन उर्फ गुड्डू अंसारी तथा तरवारा उसरी गांव निवासी अभिषेक कुमार व तीन अन्य अज्ञात अपराधी कर्मी को नामजद अभियुक्त बनाया गया है।उधर इस घटना को लेकर पुलिस दो पहलुओं पर जांच कर रही है।अनुसंधान में लगे दर्ज कांड के अनुसंधानकर्ता अवर निरीक्षक पंकज कुमार का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट हाथ लगने के पश्चात अनुसंधान में और तेजी लाई जाएगी।फिलहाल घटना के तह तक जाने के लिए दर्ज कांड के नामजद आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए संदिग्ध ठिकानों पर छापेमारी जारी है और सभी अभियुक्त घर छोड़कर फरार बताए जा रहे हैं।