भगवान का दूसरा रूप कहे जाने वाले चिकित्सक पर सिपाही ने चटाकाई लाठी

0
doctor ahmed ali

परवेज अख्तर/सिवान :- सीवान के अस्पताल रोड के बड़हरिया बस स्टैंड के समीप गुरुवार की दोपहर करीब 12.30 बजे ट्रैफिक जाम के दौरान एक बेलगाम सिपाही ने सदर अस्पताल के मेडिकल ऑफिसर डॉ. अहमद अली पर लाठी चला दी।जिससे वे गम्भीर रूप से घायल हो गये।पुलिसकर्मियों को बाद में पता चला कि मार खाने वाला व्यक्ति सदर अस्पताल में मेडिकल ऑफिसर है,  तो डॉक्टर को मनाने के लिए पुलिसवाले सदर अस्पताल पहुंच गए। प्राथमिकी दर्ज करने के लिए इंज्यूरी रिपोर्ट बनवा रहे डॉ. अहमद अली से पहले तो पुलिस वालों से बकझक हुई। बाद में पुलिस वालों ने जब माफी मांगा, तो डॉक्टर ने प्राथमिकी दर्ज नहीं करने का निर्णय बदल दिया। डॉ. अहमद अली ने बताया कि वह बाइक से सदर अस्पताल सरकारी काम से आ रहे थे। बाजार इंडिया के समीप ट्रैफिक जाम होने के कारण कतार में खड़े थे। इसी दौरान एक पुलिस वाला डंडा लेकर आया और  बिना कुछ कहे डंडा चला दिया। उन्होंने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि बहुत से लोग ट्रैफिक नियम का उल्लंघन कर रहे थे, लेकिन पुलिस वाले उन लोगों को कुछ नहीं बोल रहे थे। उन्होंने बताया कि पुलिसवाले ने प्लास्टिक के डंडे से मारा है।उधर इस घटना की निंदा करते हुए माले के वरिष्ठ नेत्री सोहिला गुप्ता ने कहा की वर्तमान सरकार के पुलिसकर्मी बेलगाम हो गए है।पुलिस वाले ने जान बूझ कर भगवान का दुसरा रूप कहे जाने वाले चिकित्सक पर लाठी से प्रहार किया है।उन्होंने कहा की चिकित्सक के साथ-साथ अन्य लोग भी ट्रैफिक जाम में फंसे थे लेकिन पुलिस वाले ने इनकों निशाना क्यों बनाया? यह तो जाँच का विषय है। इस पर वरीय पुलिस पदाधिकारी को जरूर ध्यान देना चाहिए।अगर दोषी सिपाही की जाँच कर उचित कारवाई नही की गई तो इसके लिए हम पूरे एपवा नेत्री व कार्यकर्ता को लेकर सड़क पर उतरूंगी। जिसकी सारी जवाब देही वरीय पुलिस पदाधिकारी की होगी। वही राजद के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश महासचिव एहतेशामुल हक सिद्दीकी ने गम्भीर आरोप लगाते हुए कहा की पीड़ित चिकित्सक के भेसभुसा मौलाना जैसा है।इसलिए वह अल्पसंख्यक को अपमान करने के लिए ऐसी घटना को अंजाम सिपाही ने दिया है।इसकी जाँच होनी चाहिए।नही तो बाध्य होकर प्रदेश स्तर तक के राजद कार्यकर्ता सड़क पर उतरेगें।श्री सिद्दीकी ने कहा की किसी को कत्ल करके उसके परिजनों से माफ़ी मांग लेना ये कहा का कानून है। उन्होंने साफ तौर पे मांग किया की दोषी सिपाही पर कारवाई होनी चाहिए।उधर निंदा करने वालों में माले के नईमुद्दीन अंसारी, राजद के जकरिया खान, अधिवक्ता मोबिन मियां,डब्लू खान,पूर्व जिला पार्षद गजाधर सिंह,जिला पार्षद ललन यादव, प्रो.महमूद हसन अंसारी, दारोगा खान,हंसनाथ यादव,परवेज़ आलम, पूर्व मुखिया राम छबीला यादव,बसपा के गणेश राम, शंकर प्रसाद यादव, आदि ने भी एक स्वर में जाँच की मांग की है। मांग पूरी नही होने पर आंदोलन की चेतावनी भी दी है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal