फुलवरिया में सड़क बनवाने को लेकर ग्रामीणों ने किया हंगामा व प्रदर्शन

0
dharna
  • दो दशक पूर्व बना ईटीकरण सड़क दो से डेढ फुट है गड्ढे में तब्दील
  • गर्भवती महिला व मरीजों को खाट पर मुख्य सड़कों तक कंधा पर ले जाते हैं ग्रामीण
  • फुलवरिया के ठाकुराई कररिया वार्ड संख्या 7 में है यह हाल

फुलवरिया: कमलाकांत कररिया पंचायत के कररिया ठाकुराई गांव के टोला सोना व वार्ड संख्या सात में सड़क बनवाने को लेकर ग्रामीणों ने मंगलवार को हंगामा व प्रदर्शन किया. हंगामा व प्रदर्शन करने में काफी बुजुर्ग लोग भी शामिल हुए. गांव के बुजुर्ग ग्रामीणों का कहना है कि दो दशक पूर्व बना इस गांव में ईटी कारण सड़क दो से डेढ़ फुट गड्ढों में तब्दील हो गया है. सड़क इतना ज्यादा जर्जर हो गया है कि पैदल चलना भी दुश्वार हो गया है. प्रदर्शनकारियों ने भावुक होकर कहा कि गांव में गर्भवती महिला को अस्पताल पहुंचाना हो तो खाट पर लेटा कर मुख्य सड़क तक कंधों पर ले जाया जाता है. इतना ही नहीं कोई व्यक्ति बीमार पड़ जाए तो उसे भी मुख्य सड़कों तक कंधों पर खाट पर लेटा कर ही ले जाया जाता है. सड़क इतना जर्जर है कि गांव में स्कूल बस भी नहीं आता है. जिसके कारण बच्चों को स्कूल जाने में काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.45 PM
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.44 PM (1)
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.44 PM
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.42 PM (1)
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.43 PM (1)
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.44 PM (2)
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.42 PM
WhatsApp Image 2022-08-16 at 8.56.43 PM

प्रदर्शनकारियों ने बताया कि सड़क बनवाने को लेकर स्थानीय जनप्रतिनिधि से लेकर पथ निर्माण विभाग को भी लिखित रूप से शिकायत की गई है. लेकिन इसके बावजूद भी हम ग्रामीणों की सुध लेने वाला कोई नहीं है. गांव के बुजुर्ग ठाकुर तिवारी, संतोष तिवारी, अशोक तिवारी ने कहां की इस पंचायत के यह गांव विकास से कोसों दूर है. प्रदर्शनकारियों ने कड़े रुख में चेतावनी देते हुए कहा कि यदि सड़क नहीं बनवाया गया तो हम ग्रामीण वासी विवश होकर जिलाधिकारी गोपालगंज को शिकायत करने को विवश होंगे. जिसकी सारी जिम्मेवारी स्थानीय जनप्रतिनिधि व प्रशासन की होगी. प्रदर्शन करने में लालबाबू तिवारी, धर्म चौधरी, चंदेव चौधरी, लल्लन तिवारी, मार्कंडेय तिवारी, सुभाष तिवारी, योगेंद्र चौधरी, सुमित तिवारी, अशोक तिवारी, रत्नेश तिवारी, बिरझन यादव, मुकेश यादव तथा रोहित दुबे सहित काफी संख्या में ग्रामीण प्रदर्शन में शामिल रहे।