राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के 2 सदस्यीय टीम ने किया सारण का दौरा

0
  • आयुष्मान पखवाड़ा को सफल बनाने को लेकर हुई चर्चा
  • मुखिया व जनप्रतिनिधियों से सहयोग की अपील
  • जिले में आज से शुरू होगा आयुष्मान पखवाड़ा

छपरा: जिले में 17 फरवरी से 3 मार्च तक आयुष्मान पखवाड़ा का आयोजन किया जाएगा। पखवाड़े के दौरान पंचायत स्तर पर कार्यपालक सहायकों के द्वारा कैंप लगाकर आयुष्मान योजना के तहत चयनित लाभार्थियों का गोल्डन हेल्थी कार्ड बनाया जाएगा। आयुष्मान पखवाड़ा के सफल क्रियान्वयन को लेकर मंगलवार को राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के 2 सदस्य टीम दिल्ली से सारण पहुंची। टीम में राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के कंसलटेंट आशुतोष कुमार व सिंग्धानन्दा शामिल थी। टीम के द्वारा जिले मांझी प्रखंड के कई पंचायतों का दौरा किया गया और पंचायत के मुखिया व जनप्रतिनिधियों से मुलाकात कर आयुष्मान पखवारा में सहयोग देने के लिए अपील किया गया। राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के कंसलटेंट आशुतोष कुमार ने बताया कि इस पखवाड़ा को सफल बनाने में जनप्रतिनिधियों की भूमिका काफी महत्वपूर्ण है। जन समुदाय को जागरूक करने के लिए मुखिया व जनप्रतिनिधियों का सहयोग लिया जा रहा है। ताकि अधिक से अधिक लाभार्थियों को इस योजना का लाभ पहुंचाया जा सके। इसके साथ ही इस बात पर भी चर्चा की गई की कैसे प्रभावी तरीके से इस योजना के बारे में अधिक से अधिक लोगों को जागरूक किया जा सके। इस दौरान आयुष्मान भारत के प्रमंडलीय कार्यक्रम समन्वयक संजय कुमार यादव भी मौजूद थे।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2023-10-11 at 9.50.09 PM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.50 AM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.51 AM
ahmadali
WhatsApp Image 2023-11-01 at 2.54.48 PM

लाभार्थियों को नि:शुल्क आयुष्मान कार्ड बनाया जायेगा

राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के कंसल्टेंट सिंग्धानन्दा ने बताया कि पखवाडा के दौरान लाभार्थियों को नि:शुल्क आयुष्मान कार्ड बनाया जायेगा। इसके लिए कार्यपालक सहायको को प्रति कार्ड पर 5 रूपये इंसेन्टिव भी दिया जायेगा। उन्होने बताया कि जिस गांव अब तक किसी का कार्ड नहीं बना है उस गांव में विशेष रूप से फोकस किया जायेगा। सामाजिक-आर्थिक जाति जनगणना 2011 के आधार पर चिन्हित गरीब परिवारों को इस योजना का पात्र बनाया गया है। प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत लाभार्थी परिवार पैनल में शामिल सरकारी या निजी अस्पतालों में प्रति वर्ष 5 लाख रूपये तक कैशलेस ईलाज करा सकते हैं। योजना का लाभ उठाने के लिए उम्र की बाध्यता एवं परिवार के आकार को लेकर कोई बंदिश नहीं है।