सीवान में पुलिसकर्मी की मौत में थानाध्यक्ष पर आरोप: सिविल ड्रेस में प्राइवेट गाड़ी लेकर छापेमारी करने गए थे, हुई बर्खास्तगी की मांग

0

सिसवन पुलिस स्टेशन पर सिपाही की मौत के बाद चिंतित बैठे सिपाही और अधिकारी

✍️परवेज अख्तर/एडिटर इन चीफ:
सीवान के सिसवन थाना क्षेत्र के ग्यासपुर गांव में बुधवार की रात कांस्टेबल की गोली मारकर हत्या के बाद जिले के सिपाही और पुलिस अधिकारियों में सिसवन थानाध्यक्ष राजेश कुमार के खिलाफ खासा आक्रोश व्याप्त हो गया है।बकायदा पुलिस अधीक्षक श्री शैलेश कुमार सिन्हा ने भी थानाध्यक्ष की कार्यशैली को गलत बताते हुए जांच कर कार्रवाई करने की बात कही है। बता दें कि बुधवार की रात थानाध्यक्ष राजेश कुमार अपने साथ परमात्मा चौकीदार, कांस्टेबल बाल्मीकि कुमार समेत दो अन्य बीएमपी के सिपाहियों के साथ परमात्मा चौकीदार के कहने पर शराब तस्करों के यहां छापेमारी करने पहुंचे थे आरोप है कि थानाध्यक्ष व कुछ सिपाही सिविल ड्रेस और सिविल गाड़ी में पहुँचे थे। लौटने के दौरान उनका नजर तीन संदिग्ध लोगों पर पड़ा जिसके बाद यह सभी लोग गाड़ी रोके तो संदिग्ध व्यक्ति वहां से भागने लगे जिसके बाद इन लोगों ने उनका पीछा करना शुरू कर दिया। कांस्टेबल बाल्मीकि कुमार सबसे आगे था जिसके बाद अपराधियों ने पीछे मुड़कर गोली चलाई और कांस्टेबल के पेट और सीने में जाकर लगी जिसके बाद उसकी मौके पर ही मौत हो गई।

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

मृतक सिपाही को पुलिस लाइन में अंतिम विदाई देते एसपी शैलेश कुमार सिन्हा

मृतक सिपाही को पुलिस लाइन में अंतिम विदाई देते एसपी शैलेश कुमार सिन्हा। थाने से करीब 7 किलोमीटर की दूरी पर हुई वारदात बता दे कि थाने से करीब 7 किलोमीटर की दूरी पर स्थित ग्यासपुर गांव के समीप बेखौफ अपराधियों ने घटना को अंजाम दिया। इधर सिसवन थाने में पदस्थापित एएसआई सुरेंद्र प्रसाद समेत थाने के सिपाहियों ने थानाध्यक्ष पर गंभीर आरोप लगाया है।

क्या कहते है थाने में पदस्थापित एएसआई सुरेंद्र प्रसाद

एएसआई सुरेंद्र प्रसाद का कहना है कि रात्रि एक सिपाही की गोली मारकर हत्या कर दी गई। इसके बाद भी थानाध्यक्ष राजेश कुमार के द्वारा थाने के पुलिसकर्मियों को इसकी जानकारी नहीं दी गई। करीब 5 घंटे बाद उन्हें सीवान पुलिस लाइन से थाने पर फोन कर जानकारी दी गई कि आपके यहां एक सिपाही को गोली लगी है। उनका सवाल था कि अगर थानाध्यक्ष को छापेमारी करने के लिए ही जाना था तो तीन चार सिपाहियों को लेकर क्यों चले गए।एएसआई ने परमात्मा चौकीदार और थानाध्यक्ष पर लापरवाही का गंभीर आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। एसपी ने कहा कि टीम गठित की गई है जांच चल रही है।