सिवान में रविवार की रात्रि हुआ कैंडल मार्च का आयोजन

0
candal march
  • सुशांत सिंह राजपूत व वीर शहीद 20 सैनिकों को अर्पित किया गया श्रद्धांजलि
  • सीबीआई जांच के लिए जिला पदाधिकारी को सोमवार को दिया गया ज्ञापन
  • साईं हॉस्पिटल व अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के संयुक्त तत्वावधान में निकला मार्च
  • बिहार का गौरव व मानसम्मान था सुशांत :डॉ रामेश्वर

परवेज अख्तर/सिवान :- जिला मुख्यालय के साईं हॉस्पिटल व अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के संयुक्त तत्वावधान में रविवार की रात्रि को साईं हास्पिट से सदर अस्पताल होते हुए जेपी चौक तक कैंडिल मार्च निकाला गया । जिसमें सुशांत सिंह राजपूत व 20 वीर शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित किया गया तथा सोमवार को (29 जून 20 20 ) जिला पदाधिकारी सिवान को अभिनेता सुशांत की मौत को सीबीआई से जांच कराने हेतु ज्ञापन दिया गया । डॉ रामेश्वर सिंह ने कहा कि सुशांत बिहार का गौरव व मानसम्मान था जिसका असामयिक रहस्यमय मौत दुखदायी तथा गहन जांच का बिषय है । उन्होंने कहा इस बिषय पर केंद्र व राज्य सरकार को गंभीर होना चाहिए तथा मौत के रहस्य का पर्दा उठाने के लिये सीबीआई से जांच करवानी चाहिए।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

डॉ रामेश्वर सिंह ने कहा कि कैंडिल मार्च में पूर्णतः सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हुआ । अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के जिलाध्यक्ष सह दक्ष बीएसी निर्सिंग कॉलेज एंड हॉस्पिटल के मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ जीतेश कुमार सिंह ने कहा कि सुशांत सिंह राजपूत युवाओं के आइकॉन थे जो जुझारी व्यक्तिव तथा विलक्षण प्रतिभा का धनी और अभिनय के दम पर फ़िल्म इंडस्ट्रीज में बिहार का नाम रोशन करने वाले राष्ट्र का चमकता सितारा था जिनका मौत आत्महत्या के रूप में रहस्मय ढंग से विगत 14 जून 2020 को मुंबई में हो गयी जो अति दुःखद एवं क़अपूर्णीय क्षति है । प्राचार्य कृष्ण कुमार सिंह ने कहा कि सुशांत सिंह राजपूत युवाओं के धड़कन था जिनको आत्महत्या के लिए बाध्य करना चमकते युवाओं के प्रतिभा को दबाने का षडयंत्र है जिससे सबसे बड़ा आघात युवा समाज को हुआ है ।

उन्होंने बताया कि स्व सुशांत को सीबीआई जांच का आदेश होने तक हमारा संघर्ष अनवरत जारी रहेगा । प्राचार्य ने बताया कि गलवान घाटी में 20 भारतीय वीर सैनिकों के शहादत को भुलाया नहीं जा सकता है ।अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के जिला महा सचिव सुबोध कुमार सिंह ने कहा कि सुशांत क्षत्रिय समाज के साथ साथ बिहार का युवा चेहरा था जो राष्ट्रीय स्तर पर अपना पहचान बना रहा था ।इस मौके पर डॉ अमित चतुर्वेदी ,डॉ केपी सिंह ,युवा चित्रकार रजनीश कुमार ,चित्रकार अविनाश कुमार ,डॉ रमन चतुर्वेदी ,बब्लू कुशवाहा ,अंकित कुमार सिंह ,नीरज सिंह , अमित वेलफेयर ट्रस्ट के सचिव अमित कुमार सिंह ,हाईकोर्ट के अधिवक्ता कृष्णकांत सिंह , रोहित सिंह, शौर्य,सुरेंद्र यादव पूनम सेंगर तनियासिंह अनिता कुमारी अनुराधा कुमारी गितांजलि हरेन्द्र सिंह डॉ आर न सिंग डॉ एस कुमार आदित्य राज श्रीराम साह नीरज कुशल रविशआदि उपस्थित थे ।