छपरा: “आपदा में भी परिवार नियोजन की तैयारी, सक्षम राष्ट्र और परिवार की पूरी जिम्मेदारी” के थीम पर मनेगा दंपति संपर्क पखवाड़ा

0
  • दो चरणों में मनाया जायेगा पखवाड़ा
  • संपूर्ण मातृ और नवजात शिशुओं की भलाई के लिए परिवार नियोजन महत्वपूर्ण

छपरा: परिवार नियोजन सेवा वितरण पर ध्यान देने के साथ पिछले 11 वर्षों से पूरे देश में विश्व जनसंख्या दिवस मनाया जा रहा है। हालांकि, कोविड-19 महामारी के बीच में है, प्रजनन स्वास्थ्य सेवाओं का प्रावधान न केवल अवांछित गर्भधारण को रोकने के लिए, बल्कि संपूर्ण मातृ और नवजात शिशु की भलाई के लिए और भी अधिक महत्व रखता है। पिछले साल विश्व जनसंख्या दिवस को सफलतापूर्वक मनाने के लिए जिले के प्रयास की अत्यधिक सराहना की गई। इसलिए, इस वर्ष भी जिले में एक महीने की अवधि में विश्व जनसंख्या दिवस अभियान के अवलोकन को जारी रखने का निर्देश दिया गया है।इस संबंध में केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के अपर सचिव सह मिशन निदेशक वन्दना गुरनानी ने पत्र जारी कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिया है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

दो चरणों में पूरा होगा पखवाड़ा

इस कार्यक्रम को दो चरणों में मनाया जाना प्रस्तावित है, पहला चरण “जनसंख्या जागरूकता पखवाड़ा” सह दंपति संपर्क पखवाड़ा 27 जून से 10 जुलाई 2021 तक जो परिवार नियोजन के महत्व के बारे में लोगों की जागरूकता और जागरूकता पर केंद्रित होगा और दूसरा चरण “जनसंख्या स्थिरीकरण पखवाड़ा” 11 से 24 जुलाई, 2021 तक जो सेवा प्रावधान पर ध्यान केंद्रित करेगा।

वर्चूअल माध्यम से दी जायेगी ट्रेनिंग

जारी पत्र के माध्यम से बताया गया है कि जिला और ब्लॉक स्तर के अधिकारियों की क्षमता निर्माण, ऑनलाइन आशा अभिविन्यास, जनसंख्या स्थिरीकरण की आवश्यकता की पोस्टरों का प्रदर्शन, शादी में देरी और पहले बच्चे के जन्म, गर्भनिरोधक विधियों आदि के उपयोग पर ऑनलाइन परामर्श के लिए वर्चुअल कॉन्फ्रेंसिंग का आयोजन किया जायेगा।

परिवार नियोजन के सेवाओं पर विशेष ध्यान

दिशानिर्देशों के अनुसार सामाजिक दूरियों के मानदंडों का पालन करते हुए 11 जुलाई से शुरू होने वाले 2 सप्ताह के लिए प्रत्येक ब्लॉक / जिला मुख्यालय में आईयूसीडी सम्मिलन, गर्भनिरोधक इंजेक्शन योग्य एमपीए, ट्यूबेक्टोमी, पुरुष नसबंदी आदि जैसी परिवार नियोजन सेवाएं प्रदान करने पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।

सासंद विधायक व जनप्रतिनिधियों को किया जायेगा शामिल

इस अभियान के दौरान जिले के सांसद, विधायकों, पंचायती राज संस्थाओं और शहरी स्थानीय निकायों के सदस्य, स्वास्थ्य कर्मियों और नागरिक समाज के सदस्यों को डिजिटल प्लेटफॉर्म का उपयोग करके पूरी तरह से शामिल किया जायेगा। कोविड अनुपालन व्यवहार के बारे में समझाने के लिए ऑनलाइन आशा उन्मुखीकरण किया जा सकता है। विधायक, एमएलसीएस, जिला परिषद के अध्यक्ष और सदस्य, निगमों के महापौर और अध्यक्ष और निगम के सदस्य और अन्य निर्वाचित प्रतिनिधि जिन्हें डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से या यदि संभव हो तो जिले में सामाजिक दूरियों के मानदंडों को बनाए रखने वाली बैठकों के माध्यम से व्यापक रूप से प्रचारित करने की भी बात कही गयी है। जैसे मास्किंग, हाथों को साफ करना, अस्पतालों के लिए लाभार्थियों को जुटाते समय 6 फीट की दूरी बनाए रखना और गर्भ निरोधकों की डोर टू डोर डिलीवरी की जायेगी।

“जनसंख्या स्थिरीकरण पखवाड़े

विकल्पों की टोकरी पर ग्राहकों की परामर्श” में गतिविधियों के दौरान टेली परामर्श को प्राथमिकता दी जयेगी। गांवों में जागरूकता पैदा करने के लिए नेहरू युवा केंद्रों/स्थानीय गैर सरकारी संगठनों को सूचीबद्ध किया जाएगा. यह सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म (जैसे व्हाट्सएप/एसएमएस) के माध्यम से भी जा जाएगी।

राज्य स्तर पर सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले जिले की पहचान

इस अभियान के दौरान राज्य स्तर पर दो सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले जिलों और चार ब्लॉकों और सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले कर्मियों को सम्मानित किया जायेगा।