छपरा: जिले में 646145 घरों के 5.92 लाख से अधिक बच्चों को पिलाई जायेगी पोलियो की दवा

0
  • जेपी विवि के कुलपति व डीडीसी ने किया अभियान का शुभारंभ
  • घर-घर जाकर बच्चों को दी जायेगी दो बूंद जिन्दगी की

छपरा: जिले के सदर अस्पताल स्थित मॉडल टीकाकरण केंद्र में पांच दिवसीय पल्स पोलियो अभियान की शुरूआत की गयी। जयप्रकाश विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. फारूक अली, उपविकास आयुक्त सह प्रभारी जिलाधिकारी अमित कुमार, क्षेत्रीय अपर निदेशक डॉ. रत्ना शरण ने संयुक्त रूप से पोलियो अभियान का शुभारंभ किया। नौनिहालों को पोलियो की दवा पिलाकर अभियान का शुभारंभ किया गया। कुलपति प्रोफेसर फारूक अली ने कहा कि पोलियो अभियान में हमेशा जय प्रकाश विश्वविद्यालय के राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवक शहर में हर चौक पर सदर अस्पताल की तरफ से पोलियो अभियान में भाग लेकर पोलियो ड्राप पिलाकर कार्यक्रम को सफल बनाते हैं और इस बार भी राष्ट्रीय सेवा योजना के समन्वयक, प्रोफेसर हरिश्चंद्र ने छपरा शहर की सभी ईकाई के स्वयंसेवक एवं स्वयंसेविकाओं को निर्देश दिए हैं कि यथाशीघ्र कार्यक्रम को सफलतापूर्वक संपन्न करने के लिए सदर अस्पताल का सहयोग करने के लिए निर्देश दिए हैं। इस मौके पर जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. अजय कुमार शर्मा, एसएमसी आरती त्रिपाठी, डीएस डॉ. रामइकबाल प्रसाद समेत अन्य स्वास्थ्य कर्मी मौजूद थे।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-14 at 9.16.03 PM
WhatsApp Image 2022-08-14 at 9.24.37 PM
WhatsApp Image 2022-08-14 at 9.13.39 PM
WhatsApp Image 2022-08-14 at 9.18.57 PM

poliyo abhiyan

शून्य से पांच साल तक हर बच्चों को पोलियो की दवा जरूरी

इस मौके पर जिलाधिकारी सह उप विकास आयुक्त अमित कुमार ने कहा कि पोलियो अभियान के लिए 6 लाख 46 हजार 145 घरों को चिन्हित किया गया है। जहां 5 लाख 92 हजार 964 बच्चों को पोलियो की दवा पिलाने का लक्ष्य है। उन्होने कहा कि अभियान के सफलता के लिए 1474 डोर-टू-डोर टीम, 287 ट्रांजिट टीम, 36 मोबाइल टीम, 546 सुपरवाइजरों को दायित्व दिया गया है। उन्होने कहा कि हर बच्चे को पोलियो की खुराक पिलाना आवश्यक है। यह सुनिश्चित किया जाये कि कोई भी बच्चा पोलियो की दवा से वंचित नहीं रहे। डीएम ने कहा कि पल्स पोलियो अभियान की सफलता के लिए अधिकारियों को अपने उत्तरदायित्वों का निर्वहन ईमानदारी पूर्वक करना होगा। चिन्हित किये गए सभी केंद्रों पर ससमय दवा उपलब्ध कराते हुए सभी 5 वर्ष से नीचे के बच्चों को पोलियो की खुराक पिलाकर अभियान को सफल बनायें।उन्होंने कहा कि पल्स पोलियो अभियान का विभिन्न माध्यमों से व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार कराया जाय तथा आमजन को अपने बच्चों को पल्स पोलियो की खुराक पिलाने के लिए जागरूकता अभियान चलाई जाय ताकि अभिभावक अपने बच्चों को पोलियो की खुराक पिलवा सकें।

कोविड संबंधित सुरक्षा का ध्यान रखना जरूरी

क्षेत्रीय अपर निदेशक डॉ. रत्ना शरण ने कहा कि कोरोना काल में पोलियो राउंड को लेकर विशेष सतर्कता बरती जाएगी। मास्क की अनिवार्यता और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हर किसी के लिए जरूरी होगा। कोविड संबंधित सुरक्षा को देखते हुए मानकों को ध्यान में रखना जरूरी है। सभी वैक्सीन बॉक्स वाहकों को यह सख्त निर्देश दिए गए हैं कि पोलियो अभियान के दौरान उपयोग होने वाले सभी कोल्ड बॉक्स और आइस पैक की अच्छी तरह साफ-सफाई सुनिश्चित करेंगे। क्षेत्र में निकलने से पहले मास्क जरूर पहनेंगे, हाथों को जीवाणुमुक्त रखेंगे और शारीरिक दूरी का पालन करेंगे।